Shilp Mela: प्रयागराज के राष्ट्रीय शिल्प मेले में हस्तशिल्प और लोकनृत्यों की बहुरंगी छटा

चौरासी कोस में फैले ब्रज मंडल से आए कलाकारों ने बरसाने की लठमार होली फूलों की होली के साथ मयूर नृत्य की मनमोहक प्रस्तुति दी। इससे पहले राष्ट्रीय शिल्प मेला के शुभारंभ अवसर पर एनसीजेडसीसी से शोभायात्रा भी निकाली गई।

Ankur TripathiThu, 02 Dec 2021 08:40 AM (IST)
मंडलायुक्त संजय गोयल ने विभिन्न राज्यों से आए शिल्पियों के उस प्रयास की सराहना की

प्रयागराज,  जागरण संवाददाता। मन को तरंगित कर देने वाले आंचलिक लोकनृत्य, देशज लोकगीत, भजन गायन और विभिन्न प्रदेशों के मशहूर खानपान की बहुरंगी छटा के बीच राष्ट्रीय शिल्प मेले की बुधवार शाम से शुरूआत हो चुकी है। उत्तर मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र (एनसीजेडसीसी) में 12 दिसंबर तक के लिए लगे इस मेले में देश भर से नामी गिरामी हस्तशिल्प कारीगर आए हैं तो जयपुर की सुविख्यात कच्ची घोड़ी नृत्य सभी के आकर्षण का केंद्र है।

देश की रंगविरंगी व पारंपरिक सांस्कृतिक पहचान

एनसीजेडसीसी के निदेशक प्रोफेसर सुरेश शर्मा ने शिल्प मेला को जनमानस से जोड़ते हुए हस्तशिल्प कारीगरी को बढ़ावा देने पर जोर दिया। मंडलायुक्त संजय गोयल ने विभिन्न राज्यों से आए शिल्पियों के उस प्रयास की सराहना की जिसमें विषम परिस्थितियों में कारीगरों ने देश की रंगविरंगी व पारंपरिक सांस्कृतिक पहचान को जीवित रखा है। शिल्प हाट के मंच पर गीत संगीत की शाम भी सजी। जिसमें बहुचर्चित भजन गायिका सुश्री अंकिता चतुर्वेदी ने गणेश वंदना प्रस्तुत की। रामचंद्र कृपालु भजमन की प्रस्तुति ने पूरे पंडाल को भक्तिमय कर दिया। वीर रस प्रधान आल्हा गायन की प्रस्तुति भी हुई जिसमें नेहा सिंह व उनके दल ने माड़वगढ़ की लड़ाई प्रसंग को सुनाकर पूरे माहौल को गर्मजोशी से भर दिया। लोकनृत्यों की श्रृंखला में त्रिपुरा से आई पंचाली देव बर्मा व उनके दल ने ममिता एवं लबांग बोमानी लोकनृत्य प्रस्तुत किया। जनजातीय नृत्यों की प्रस्तुति के लिए छिन्दवाड़ा मध्य प्रदेश से आए विजय कुमार बंदेवार और उनके दल ने शैला एवं गैंड़ी नृत्य प्रस्तुत किया। बुंदेलखंड का श्रृंगार प्रधान नृत्य ‘राई’ भी दर्शकों को खूब भाया। इसमें राम सहाय पांडेय और उनके दल ने ‘गोकुल वाले सांवरिया, ले चल अपनी नागरिया’ से दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया।

होली जैसे पर्व पर एक अलग ठसक भरी मस्ती ने दर्शकों को सम्मोहित किया

हरियाणा की माटी की सोंधी महक को फाग लोकनृत्य के माध्यम से प्रस्तुत किया गया, जिसमें भाभी और देवर की नोक-झोंक और होली जैसे पर्व पर एक अलग ठसक भरी मस्ती ने दर्शकों को सम्मोहित किया। चौरासी कोस में फैले ब्रज मंडल से आए कलाकारों ने बरसाने की लठमार होली, फूलों की होली के साथ मयूर नृत्य की मनमोहक प्रस्तुति दी। इससे पहले राष्ट्रीय शिल्प मेला के शुभारंभ अवसर पर एनसीजेडसीसी से शोभायात्रा भी निकाली गई। यह यात्रा एजी आफिस, पत्थर गिरजाघर, सुभाष चौराहा, सिविल लाइंस व राजापुर होते हुए एनसीजेडसीसी पर वापस पहुंची।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.