Narendra Giri Death: ब्रह्मलीन महंत नरेंद्र गिरि को भू-समाधि, अश्रुपूर्ण नेत्रों से संतों व भक्तों ने किया नमन

Narendra Giri Death Case महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर का पोस्‍टमार्टम के बाद अल्‍लापुर स्थित श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी में उन्‍हें समाधि दी जाएगी। प्रशासन ने सुरक्षा की पर्याप्‍त व्‍यवस्‍था की है। सभी रास्तों पर पुलिस ने बैरिकेडिंग कर दी है।

Brijesh SrivastavaWed, 22 Sep 2021 08:21 AM (IST)
अखाड़ा परिषद के अध्‍यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को आज श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी में समाधि दी जाएगी।

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। हिंदुत्व के पुरोधाओं में शामिल महंत नरेंद्र गिरि को भू समाधि दे दी गई। बुधवार को पोस्‍टमार्टम के बाद उनका पार्थिव शरीर श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी लाया गया। फूलों से सजे वाहन पर पार्थिव शरीर रखकर अंतिम यात्रा शहर के मार्गों से होकर गंगा, यमुना और अदृश्‍य सरस्‍वती के पावन संगम पहुंची। वहां स्‍नान कराने के बाद बांध स्थित लेटे हनुमान मंदिर फिर वापस श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी ले जाया गया। यहां वैदिक मंत्रोच्‍चार के साथ महंत के पार्थिव शरीर को भू समाधि दी गई।

संगम तट पर महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को गंगाजल से स्‍नान कराया गया। पात्रों में गंगाजल भरकर उनके पार्थिव शरीर को स्‍नान कराया गया। इस दौरान वैदिक मंत्रोच्‍चार का पाठ भी किया गया। संगम तट से महंत की अंतिम यात्रा श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी अल्‍लापुर के लिए रवाना हो गई।

संगम तट पर हजारों की भीड़ उमड़ी

महंत नरेंद्र गिरि का पार्थिव शरीर फूलों से सजे वाहन में प्रयागराज शहर की सड़कों पर घूमते हुए संगम तट पहुंचा। संगम तट पर गंगा, यमुना और अदृश्‍य सरस्‍वती के पावन जल से पार्थिव शरीर काे स्‍नान कराया जाएगा। इस अवसर पर हजारों की संख्‍या में श्रद्धालुओं की संगम तट पर भीड़ उमड़ पड़ी है। पुलिस की भी यहां पर्याप्‍त व्‍यवस्‍था है।

उप मुख्‍यमंत्री केशव मौर्य बोले- महंत आत्‍महत्‍या नहीं कर सकते

उत्‍तर प्रदेश के उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य महंत नरेंद्र गिरि की अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए बुधवार को प्रयागराज में हैं। इस दौरान मी‍डिया से बातचीत में उन्‍हाेंने कहा कि हमें एसआइटी पर विश्वास रखना चाहिए। न्याय होगा, कोई दोषी बचेगा नहीं। केशव बोले कि रही बात अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष की मौत की बात कि तो जितना मैं उन्हें जनता हूं, उसके आधार पर कह सकता हूं कि महंत जी मजबूत इच्छाशक्ति के व्यक्ति थे। वह आत्महत्या नहीं कर सकते। 24 घंटे पहले उन्होंने मुझे प्रसाद दिया। पोहा भी खाने को दिया था, तो समय की कमी के कारण मैंने कहा मुझे इजाजत दें इसे साथ लेकर जाने की। उनकी अनुमति पर मैं पोहा अपने साथ ले गया था। उन्होंने मुझे प्रसाद के तौर पर रुद्राक्ष की माला भी दी थी।

फूलों से सजे वाहन पर महंत का पार्थिव शरीर

महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर का पोस्‍टमार्टम हो गया है। पोस्‍टमार्टम के बाद स्‍वरूपरानी नेहरू अस्‍पताल के मॉर्चुरी से फूलों से सजे वाहन पर पूरे सम्‍मान के साथ रखा गया। यहां से पार्थिव शरीर को अल्‍लापुर स्थित श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी ले जाया गया। वहां से संगम ले जाया गया। इस दौरान मार्गों पर भीड़ उमड़ने लगी है। अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए उप्र के उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व साध्‍वी निरंजन भी प्रयागराज पहुंच चुकी हैं।

यह भी पढ़ें : जिस कमरे में महंत का शव मिला उसमें दो दरवाजे हैं, सवाल यह कि दूसरा दरवाजा खुला था या बंद

महंत के पार्थिव शरीर की अंतिम यात्रा निकलेगी

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बुधवार को अंतिम विदाई दी जाएगी। उनका पार्थिव शरीर पोस्टमार्टम के लिए स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय भेजा गया है। पोस्टमार्टम के बाद पार्थिव शरीर श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी लाया जाएगा। जहां पर महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर का श्रृंगार किया जाएगा। फिर फूलों से सजे वाहन में पार्थिव शरीर को विराजमान करके अंतिम यात्रा निकाली जाएगी। दारागंज होते हुए शव को संगम ले जाया जाएगा। संगम स्नान कराने के बाद पार्थिव शरीर को बड़े हनुमानजी मंदिर ले जाएंगे। वहां से फिर श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी लाया जाएगा। महंत नरेंद्र गिरि की अंतिम इच्छा के मुताबिक उनकी समाधि मठ के अंदर दी जाएगी। इसके लिए गड्ढा खोदा जा रहा है। जिलाधिकारी वहां निरीक्षण को पहुंचे।

पोस्‍टमार्टम हाउस में तगड़ी सुरक्षा व्‍यवस्‍था

उल्‍लेखनीय है कि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्‍यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का प्रयागराज के अल्‍लापुर स्थित श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी में फांसी पर लटका शव मिला था। महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर मंगलवार को आम जन के दर्शन के लिए मठ में रखा गया था। आज पार्थिव शरीर के पोस्‍टमार्टम के लिए स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय की मॉर्चुरी में हो रहा है। इसके लिए प्रशासन ने सुरक्षा की पर्याप्‍त व्‍यवस्‍था की है। सभी रास्तों पर पुलिस ने बैरिकेडिंग कर दी है। वाहन से शव स्‍वरूपरानी नेहरू अस्‍पताल ले जाया जा रहा है। वहां मीडिया कर्मियों की भी भीड़ जुटी है।

बाघम्‍बरी गद्दी में महंत को दी जाएगी समाधि

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्री महंत नरेंद्र गिरि जी महाराज की समाधि पोस्‍टमार्टम के बाद आज दोपहर करीब 12 बजे मठ बाघम्‍बरी गद्दी में विधि-विधान से संपन्‍न होगी। समाधि की जानकारी अखाड़ा परिषद के महामंत्री महंत हरि गिरि महाराज ने दी। इस दौरान विभिन्‍न अखाड़ों के साधु-संतों के साथ वीआइपी भी मौजूद रहेंगे। 

महंत नरेंद्र गिरि के अंतिम संस्कार में रहेगी विहिप की सहभागिता

श्री मठ बाघम्बरी गद्दी के महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि के अंतिम संस्कार के समय विश्व हिंदू परिषद की सहभागिता भी रहेगी। इसके लिए विहिप के केंद्रीय मंत्री पंकज मंगलवार को दिल्ली से प्रयागराज आ गए। वे विभिन्न अखाड़ों के प्रतिनिधियों के साथ काफी देर रहे और पूरी घटना की जानकारी विहिप के केंद्रीय कार्यालय को दी।

विहिप काशी प्रांत के मीडिया प्रभारी बोले

विहिप काशी प्रांत के मीडिया प्रभारी अश्वनी मिश्रा ने बताया कि महंत नरेंद्र गिरि की निकलने वाली अंतिम यात्रा में केंद्रीय मंत्री पंकज समेत अन्य स्थानीय पदाधिकारी शामिल होंगे। महंत नरेंद्र गिरि की पार्थिव देह का दर्शन करने के लिए विहिप के प्रांत संगठन मंत्री मुकेश कुमार, प्रांत उपाध्यक्ष विमल प्रकाश, अमित पाठक, महेंद्र मौर्य, गौरव जायसवाल, आनंद शंकर दुबे आदि उपस्थित रहे।

आज बंद हैं नगरीय क्षेत्र के स्कूल

महंत नरेंद्र गिरि को आज भू समाधि दी जाएगी। इसमें शामिल होने के लिए दूरदराज से उनके शिष्य व अन्य श्रद्धालु आ रहे हैं। शहर में भीड़ को देखते हुए जिला विद्यालय निरीक्षक ने आज कक्षा एक से 12वीं तक के स्कूलों को बंद करने का निर्देश दिया है। जिला विद्यालय निरीक्षक आरएन विश्वकर्मा ने बताया कि स्कूलों में पठन पाठन आनलाइन चलेगा। शहर की कोचिंग भी बंद रहेंगी। यह निर्देश नगरीय क्षेत्र के सभी स्कूलों पर लागू होगा। माध्यमिक विद्यालयों में संचालित परिषदीय व डीएलएड की परीक्षा पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार होंगी।

आठ जिले की फोर्स लगी

मुख्यमंत्री समेत कई वीआइपी मंगलवार को श्री मठ बाघम्बरी गद्दी महंत नरेंद्र गिरि को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। इसे लेकर सोमवार रात से ही व्यवस्थाओं को दुरुस्त किया जाने लगा। प्रयागराज के साथ ही प्रतापगढ़, कौशांबी, फतेहपुर, चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर जनपद से पुलिस फोर्स बुला ली गई थी। एयरपोर्ट से लेकर मठ तक पुलिस का सख्त पहरा था। मठ की तरफ जाने वाली सभी सड़कों को बंद कर दिया गया।

यह भी पढ़ें : पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में महंत नरेंद्र गिरि की फांसी लगने से मौत

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.