नदी अधिकार यात्रा : नाव तोड़ने का बदला लेगा निषाद समाज, बोले कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कई गांवों में निषाद समाज के लोगों को संबोधित किया

नदी अधिकार यात्रा गुरुवार को चौथे दिन मेजा के मदरा गांव पहुंची। यहां कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कई गांवों में निषाद समाज के लोगों को संबोधित किया। दसरथपुर में निषाद समाज से संवाद में उन्होंने कहा कि बसवार में निषाद समाज की नावों को तोड़ा गया।

Ankur TripathiThu, 04 Mar 2021 10:21 PM (IST)

प्रयागराज, जेएनएन। उत्तर प्रदेश कांग्रेस के पिछड़ा वर्ग विभाग की ओर से निकाली गई नदी अधिकार यात्रा गुरुवार को चौथे दिन मेजा के मदरा गांव पहुंची। यहां कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कई गांवों में निषाद समाज के लोगों को संबोधित किया। दसरथपुर में निषाद समाज से संवाद में उन्होंने कहा कि बसवार में निषाद समाज की नावों को तोड़ा गया। महिलाओं को मारापीटा। इसकी खबर जैसे ही महासचिव प्रियंका गांधी को हुई वह तत्काल बसवार पहुंची।


चौथे दिन मेजा के मदरा गांव में कांग्रेसियों ने किया रात्रि विश्राम

उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी के निर्देश पर निषाद समाज को हक दिलाने के लिए नदी अधिकार पद यात्रा निकाल रहे हैं। जिस सरकार ने निषादों की नाव तोड़ी है, उसका गुरूर निषाद समाज तोड़ेगा। प्रदेश अध्यक्ष ने नदी अधिकार यात्रा की मांगों को दोहराते हुए कहा नदियों पर निषादों के पारंपरिक अधिकार को सुनिश्चित किया जाए। नदियों में नाव द्वारा बालू खनन पर लगी रोक को हटाया जाए। नदियों से बालू, मोरंग, मिट्टी निकालने के पारम्परिक अधिकार को सुनिश्चित किया जाए और जिन नाव घाट पर पीपापुल का निर्माण हो उसके टोल ठेका में निषादों को वरीयता मिले। बालू खनन से माफिया राज खत्म किया जाए। मशीन द्वारा होने वाले बालू खनन पर रोक लगाई जाए। नदियों के किनारे खेती के पारंपरिक अधिकार को सुनिश्चित किया जाए। नदियों में मछली मारने का निर्बाध अधिकार दिया जाए। निषाद समाज पर पुलिसिया उत्पीडऩ बंद हो, निर्दोष लोगों के ऊपर से मुकदमे वापस ले सरकार। बसवार की बर्बर घटना की न्यायिक जांच हो और दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई हो। पिछड़ा वर्ग के उपाध्यक्ष व पूर्वी उत्तर प्रदेश के नाई समाज के नेता ओमप्रकाश ठाकुर ने कहा कि भाजपा सरकार में सिर्फ कुछ जातियों का विकास हुआ है। अतिपिछड़ा समाज को सिर्फ झुनझुना पकड़ाया गया है। सिरसा से चली यात्रा लगभग 21 किलोमीटर चली। नदी अधिकार यात्रा के रास्ते में पडऩे वाले दूबेपुर, दशरथपुर, परानीपुर, तनारिया, रैपुरा गांवों में जनसंपर्क किया गया। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.