Health News: संक्रामक बीमारियों से सुरक्षा का सूत्र है मास्क कल्चर, प्रयागराज में सीनियर डाक्टर ने दिए सुझाव

मौजूदा समय में वायरल बुखार ने लोगों को जकड़ रखा है। पैरासीटामाल जैसी कामन दवा से किसी को आराम हो रहा है किसी को दिक्कत बनी है। लेकिन अस्पताल में मरीजों व तीमारदारों की भीड़ में जाने से बचने की कोशिश हर किसी की है।

Ankur TripathiMon, 26 Jul 2021 07:00 AM (IST)
संक्रामक बीमारियों तथा कोरोना महामारी से बचाव का उपाय मास्क लगाना ही है

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। यह सीजन ऐसा है जिसमें वायरल बुखार ने लोगों को जकड़ रखा है। पैरासीटामाल जैसी कामन दवा से किसी को आराम हो रहा है किसी को दिक्कत बनी है। लेकिन अस्पताल में मरीजों व तीमारदारों की भीड़ में जाने से बचने की कोशिश हर किसी की है। ऐसे में लोगों को दैनिक जागरण ने 'हेलो डाक्टर कार्यक्रम में घर बैठे ही स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल के सीनियर फिजीशियन डा. अजीत चौरसिया से बात करने का मौका दिया। प्रस्तुत है चिकित्सक से मरीजों के हुए सवाल और जवाब के प्रमुख अंश।

सवाल : मुझे चार-पांच साल से बीच बीच में बुखार आ जा रहा है। एक निश्चित अवधि के बाद बुखार फिर आ जाता है। क्या करें?

वीर बहादुर पटेल, शांतिपुरम फाफामऊ

जवाब : आपने सीबीसी, विडाल टेस्ट करा लिया है तो एक बार ब्लड कल्चर और यूरिन कल्चर भी करा लीजिए। इससे पता चलेगा कि कौन सा वायरस या बैक्टीरिया बार-बार बुखार आने का कारण बन रहा है।

सवाल : वायरल बुखार आजकल घर-घर में लोगों को हो रहा है। इससे बचाव के लिए क्या करना चाहिए। विनोद बनौधा, म्योर रोड

जवाब : कमरे में, घर के बाहर या धूप के तापमान भिन्न-भिन्न होते हैं। बड़ी सामान्य सी बात है कि वायरल बुखार से बचाव के लिए मास्क का इस्तेमाल करते रहें। मास्क कल्चर को अपनाने से संक्रामक बीमारियों से बचा जा सकता है।

सवाल : रात में एसी चलाकर सोते हैं तो सुबह जागने के बाद शरीर जकड़ा हुआ महसूस होता है। क्या समस्या हो सकती है।

अनुराग यादव, नार्थ मलाका

जवाब : यह कोई गंभीर बात नहीं है। मौसम बदलने पर ऐसी दिक्कत कई लोगों को आती है। आप अपना स्नोफीलिया टेस्ट करा लीजिए।

सवाल : मुझे बुखार हो रहा है। बुखार नहीं उतर रहा है। अब 101 बुखार है। डीएन पांडेय, तिलकनगर

जवाब : अभी वायरल बुखार का सीजन चल रहा है। अगर खांसी जुकाम नहीं है तो यह सामान्य बुखार है। तीन-चार दिनों में ठीक हो जाता है।

सवाल : पत्नी को बुखार हो रहा है। उसके पैर के तलवे में दर्द रहता है। क्या करें। नारेंद्र कुशवाहा, जारी बाजार

जवाब : अगर उन्हें खांसी नहीं आ रही है, सांस नहीं फूल रही है तो यह साधारण बुखार ही है। आप उन्हें पैरासीटामाल-650 मिलीग्राम की खिलाएं।

सवाल : मुझे तीन महीने पहले कोरोना हुआ था। अब शरीर में कमजोरी है। अनिल मिश्रा, नैनी

जवाब : कोई गंभीर बात नहीं है। अपने खानपान पर ध्यान रखें। रिच डाइट लेते रहें। कमजोरी दूर हो जाएगी।

सवाल : मेरे 28 साल के बेटे को छह माह पहले सर्दी जुकाम हुआ था। अब हल्का बुखार है। उसे सूखी खांसी आ रही है। क्या करें।

संतलाल सिंह, बड़ा बघाड़ा एलनगंज

जवाब : बेटे को लेकर सोमवार को स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय में ओपीडी में आ जाएं। जांच करने के बाद ही पता चलेगा कि ऐसा क्यों हो रहा।

सवाल : कुछ दिनों पहले वायरल बुखार हुआ था। अब सिर में भारीपन रहता है। प्रवीण कुमार, सलोरी

जवाब : वायरल बुखार ठीक होने पर सामान्य रूप से ऐसा होता ही है। आप कोई दर्द निवारक गोली का सेवन करें।

सवाल : मुझे 2011 में टीबी हो गई थी। छह माह इलाज कराकर ठीक हो गए। अब सांस फूलने की समस्या हो रही है। सोमचंद्र श्रीवास्तव, अल्लापुर

जवाब : आपकी छाती का एक्सरे और ईसीजी कराना पड़ेगा। अगर फेफड़े का इलाज आप पहले करा चुके हैं तो हार्ट में समस्या लग रही है। उसकी भी जांच करा लेेंगे।

सवाल : पत्नी को दो-तीन दिनों से वायरल बुखार हो रहा है। क्या करें।

ज्ञानेश सिंह, करनपुरी कालोनी

जवाब : आप उन्हें पैरासीटामाल-650 मिलीग्राम की गोली खिलाएं। बुखार ठीक हो जाएगा।

सवाल : मम्मी पोस्ट कोविड हैं। उन्हें अब वायरल बुखार है। मुंह का स्वाद कड़वा हो गया है। रविचंद्र बनौधा

जवाब : वायरल बुखार आने पर मुंह का स्वाद कुछ खराब हो ही जाता है। यह सामान्य समस्या है। दो से तीन दिनों में ठीक हो जाएगा।

सवाल : मुझे 15 दिन पहले वायरल बुखार हुआ था। ठीक हो गया है। अब खांसी नहीं ठीक हो रही है। रात में खांसी ज्यादा आने लगती है।

संजय अग्रवाल, जीरो रोड

जवाब : डाक्टर से संपर्क करके तीन से पांच दिन तक दवा खाकर देख लीजिए। फिर भी दिक्कत रहती है तो आकर अस्पताल में दिखाएं।

सवाल : करीब दो महीने पहले बुखार हुआ था। वह ठीक हो चुका है लेकिन अब सिर में दर्द बना रहता है। रह-रह कर चक्कर भी आते हैं।

अमृतलाल, नवाबगंज

जवाब : जैसा कि आप बता रहे हैं, यह समस्या आपको लंबे समय से है। एसआरएन आकर दिखाएं। कुछ जांचें करवाकर बीमारी का पता लगाएंगे।

सवाल : मैं सीओपीडी का मरीज हूं। इन दिनों तकलीफ बढ़ गई है। फेफड़े में पानी आ गया है। क्या करें। माता प्रसाद त्रिपाठी, करेली

जवाब : फेफड़े में पानी आ जाता है तो जांच कराकर यह देखा जाता है कि पानी की मात्रा कितनी है। उसके बाद ट्रीटमेंट शुरू होता है। आप एसआरएन आएं। जांच कराकर उचित इलाज किया जाएगा।

सवाल : तेज धूप में निकलते हैं तो कभी सिर गर्म हो जाता है कभी चेहरा गर्म हो जाता है। मुझे क्या दिक्कत हो सकती है। निर्मल तिवारी, कटरा

जवाब : आप दिन में दो बाद थर्मामीटर से अपना तापमान चेक करें और उसका चार्ट बनाएं। सुबह की अपेक्षा शाम के तापमान में एक डिग्री का फर्क होता है। यदि आपके शरीर का तापमान 99.6 डिग्री से पार हो रहा है तो एक बार अस्पताल आकर दिखा लें। तब तक पैरासीटामाल खाते रहें।

सवाल : पेट में नाभि के निचले हिस्से में दर्द बना रहता है। फीवर भी आया था। कभी-कभी सांस फूलती है। क्या करें। जाकिर, कटरा

जवाब : आपके पेट में कोई इन्फेक्शन प्रतीत हो रहा है। आप जो दवा पहले से ले रहे हैं उससे ठीक नहीं हो रहा है तो आपके पेट का अल्ट्रासाउंड होना आवश्यक है।

सवाल : अप्रैल में कोरोना हो गया था। वैक्सीन की दोनों डोज भी लगवा ली है। शरीर में हमेशा थकावट महसूस होती है। राशि शर्मा, जार्जटाउन

जवाब : पोस्ट कोविड लोगों को एक से दो माह तक ऐसी समस्या सामान्य रूप से आ रही है। अगर आपको बुखार भी आ रहा है तो यह भी कामन है। यदि शरीर तापमान 99.6 से ज्यादा हो जाए तो आपको जांच कराने की जरूरत पड़ेगी।

सवाल : तीन चार दिनों से वायरल बुखार है। ठीक नहीं हो रहा।

दिनेश शुक्ला, बहरिया

जवाब : आप धूप और ठंड से बचाव करें। धूप से चलकर आ रहे हैं तो एकदम से एसी या कूलर की ठंडक में न जाएं। शरीर का मौसम के हिसाब से संतुलन बनाकर ही अपना बचाव करें। आपकी समस्या ज्यादा गंभीर नहीं है।

सवाल : इन दिनों पेट में दर्द बना रहता है। तीन चार बार उल्टी हुई। अब तो दस्त भी हो रहे हैं। क्या करें। अंशी ओझा, झूंसी

जवाब : आपको ज्यादा दिक्कत नहीं है। डाक्टर से संपर्क करके दवा लें आराम हो जाएगा।

वायरल से है बचना तो अपनाएं यह तरीका:

-पानी साफ ही पिएं, फिल्टर या उबला पानी इस्तेमाल करें।

-मच्छरों से बचाव करें, पूरी आस्तीन के कपड़े पहनकर रहें।

-घर के अंदर या बाहर कहीं पानी का जमाव न होने दें।

-ठंडक या गर्मी वाले स्थान में अचानक जाने से बचें।

-हाई प्रोटीन युक्त खाना खाएं, संतुलित आहार लें।

-पोस्ट कोविड हैं तो अपने फेफड़े की फिजियोथेरेपी कराते रहें।

-पोस्ट कोविड हैं तो अभी डेढ़ से दो माह के बीच एक्सरे कराते रहें।

-भोजन ताजा ही करें, साथ में सब्जी सलाद आवश्यक है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.