प्रयागराज के सोरांव सर्किल में दोहरे हत्याकांड की हो चुकी हैं कई घटनाएं, कई का नहीं हुआ राजफाश

प्रयागराज के सोरांव सर्किल में दोहरे हत्‍याकांड की कई घटनाएं हो चुकी हैं। इनमें से कई घटनाओं का अब तक खुलासा नहीं हो सका है। होलागढ़ में दो जुलाई 2010 को देवापुर गांव में एक ही परिवार के चार लोगों को मौत के घाट उतारा गया था।

Brijesh SrivastavaSat, 25 Sep 2021 02:41 PM (IST)
प्रयागराज का सोरांव सर्किल ऐसा है, जहां दोहरे हत्‍याकांड की कई घटनाएं हो चुकी हैं।

प्रयागराज, जेएनएन। प्रयागराज के सोरांव सर्किल में दोहरे हत्याकांड की कई वारदातें हो चुकी हैं। 2017 से 2021 तक दोहरे हत्याकांड के कई बड़े मामले सामने आ चुके हैं। 28 जुलाई को सोरांव के मनी का पूरा गांव में देवनारायण और उसकी पत्नी रंजना की गला रेतकर हत्या की गई थी। एक साल के मासूम दिव्यांश को हत्यारों ने छोड़ दिया था। हालांकि उस मामले में बदमाशों ने कमरे का ताला खोलकर लूटपाट की भी घटना को अंजाम दिया था। पुलिस की कई टीमें इस मामले के राजफाश के लिए लगाई गईं थीं। एक सप्ताह में हत्यारों का पता लगाने का दावा किया गया था, लेकिन आज तक देवनारायण और रंजना की हत्या की गुत्थी नहीं सुलझ सकी।

यूसुफपुर गांव में एक ही परिवार के पांच लोगों की हुई थी हत्‍या

इसी प्रकार सोरांव के युसूफपुर गांव में एक ही परिवार के पांच लोगों की हत्या कर दी गई थी। यह घटना चार जनवरी 2020 की रात हुई थी, लेकिन आज तक इस मामले का पर्दाफाश नहीं हो सका है। यूसुफपुर में विजय शंकर तिवारी, बेटे सोनू, बहू कामिनी, पोते कान्हा व कुंज की धारदार हथियार से हत्या की गई थी। इस मामले में भी अभी जांच ही चल रही है। कलंदरपुर में भी पति-पत्नी की सिर कूंच कर हत्या हुई थी। इसके पहले 13 दिसंबर 2020 को सोरांव थाना क्षेत्र के सरांयदीना गांव में हत्यारों ने धर्मा देवी व उनके बेटे सुरेंद्र की हत्या की थी।

चार लोगों की हत्‍या से दहला था होलागढ़

होलागढ़ में दो जुलाई 2010 को देवापुर गांव में एक ही परिवार के चार लोगों को मौत के घाट उतारा गया था। उस घटना में विमलेश पांडेय, उनके बेटे प्रिंस व दो बेटियों की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। 13 जुलाई 2020 को मलाक हरहर में सपना नाम की युवती को गोली मारने के बाद उसके प्रेमी बादल यादव तेलियरगंज ने भी खुद को उड़ा लिया था। 19 अगस्त 2019 को थरवई थाना क्षेत्र के हसनपुर कोरारी गांव में संतोष प्रजापित व उनकी पत्नी सीमा प्रजापति की सोते समय गला रेतकर हत्या कर दी गई थी।

नवाबगंज में हुआ था डबल मर्डर

19 मार्च 2018 को नवाबगंज के शाहपुर पसियापुर गांव में डबल मर्डर हुआ था। यहां सुशीला देवी व उनके दो बेटे सुनील व अनिल पर घर में घुसकर हमला किया गया था। सुनील व अनिल की मौत हो गई थी, जबकि सुशीला बच गई थी। 23 अप्रैल 2017 को नवाबगंज के जूड़ापुर शहावपुर गांव में एक ही परिवार के मक्खन लाल साहू, उनकी पत्नी मीरा देवी, बेटी वंदना व निशा की हत्या कर दी थी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.