Mahoba Case: अब महोबा के पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार की और बढ़ेगी मुश्किल, कसेगा कानूनी शिकंजा

महोबा के पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार पर कानूनी शिकंजा और कसने की तैयारी है।

Mahoba Case 50 हजार रुपये के इनामी फरार आइपीएस की गिरफ्तारी के लिए प्रयागराज और महोबा की संयुक्त पुलिस टीम छापेमारी कर रही है। राजस्थान के रहने वाले मणिलाल के कुछ करीबियों को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ कर चुकी है लेकिन कोई सुराग नही मिला है।

Publish Date:Tue, 26 Jan 2021 11:33 AM (IST) Author: Brijesh Kumar Srivastava

प्रयागराज, जेएनएन। महोबा के पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार की मुश्किलें और बढ़ने वाली हैं। क्रेशर कारोबारी को आत्महत्या के लिए उकसाने और भ्रष्टाचार के मामले में फंसे आइपीएस मणिलाल पर कानूनी शिकंजा कसेगा। इस मामले में सिपाही अरुण यादव के खिलाफ चार्जशीट दाखिल होने के बाद पुलिस अधिकारी ऐसा कह रहे हैं।

50 हजार रुपये के इनामी फरार आइपीएस की गिरफ्तारी के लिए प्रयागराज और महोबा की संयुक्त पुलिस टीम छापेमारी कर रही है। राजस्थान के रहने वाले मणिलाल के कुछ करीबियों को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ कर चुकी है लेकिन कोई सुराग नही मिला है।

उधर, महोबा के कबरई में क्रेशर कारोबारी की मौत के मामले में पुलिस ने सिपाही अरुण यादव के खिलाफ लखनऊ की अदालत में चार्जशीट दाखिल कर दिया है। पुलिस की जांच में अरुण यादव को भ्रष्टाचार और कारोबारी को आत्महत्या के लिए उकसाने का दोषी पाया गया है। मामले की जांच कर रहे एसपी क्राइम आशुतोष मिश्रा ने बताया कि विवेचना के दौरान पता चला है कि अरुण यादव के पास भी कई डंपर थे, जो गिट्टी की ढुलाई करते हैं।

अरुण ने महोबा के तत्कालीन एसपी मणिलाल के साथ मिलकर क्रेशर कारोबारी इन्द्रकांत पर पैसा देने का दबाव बनाया था। पैसा न देने पर उसे धमकी देते हुए प्रताड़ित किया गया था, जिस कारण कारोबारी ने आत्महत्या की थी। एसपी क्राइम आशुतोष मिश्रा ने बताया कि सिपाही अरुण यादव के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी गई है। प्रकरण की छानबीन अभी चल रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.