Mahant Narendra Giri: सामने आया महंत नरेंद्र गिरि का सुसाइड नोट, आनंद गिरि पर लगाए गंभीर आरोप

Mahant Narendra Giri Suicide Note महंत नरेंद्र गिरि के कमरे से 14 पेज का जो सुसाइड नोट मिला है इसमें उन्होंने बहुत गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने सुसाइड नोट में लिखा कि मेरी मौत के लिए जिम्मेदार आनंद गिरि आद्या प्रसाद तिवारी और उनके पुत्र संदीप तिवारी हैं।

Umesh TiwariTue, 21 Sep 2021 06:29 PM (IST)
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि

प्रयागराज, जेएनएन। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि के कमरे से 12 पेज का सुसाइड नोट मिला है, जिसमें उन्होंने कई गंभीर आरोप लगाए हैं। महंत का जो सुसाइड नोट मीडिया के पास है उसमें उन्होंने लिखा है कि मेरी मौत के लिए जिम्मेदार आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और उनके पुत्र संदीप तिवारी हैं। इनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए जिससे कि मेरी आत्मा को शांति मिले। मैं 13 सितंबर को ही आत्महत्या करने जा रहा था लेकिन हिम्मत नहीं कर पाया। जब हरिद्वार से सूचना मिली कि एक-दो दिन में आनंद गिरि कंप्यूटर के माध्यम से मोबाइल से किसी लड़की या महिला के साथ गलत काम करते हुए मेरी फोटो लगाकर वायरल कर देगा, मैंने सोचा कि कहां-कहां सफाई दूंगा, एक बार तो बदनाम हो जाऊंगा। पुलिस अधिकारियों सुसाइड नोट की पुष्टि करते हुए कहा है कि फोरेंसिक लैब में हैंडराइटिंग की जांच कराई जाएगी। इसके बाद ही यह साफ होगा कि यह सुसाइड नोट महंत नरेंद्र गिरी ने ही लिखा था या नहीं।

सोमवार शाम अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और निरंजनी अखाड़ा के सचिव महंत नरेंद्र गिरि ने अपने मठ बाघंबरी गद्दी में कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी। पुलिस को घटना स्थल से सुसाइड नोट मिला है, जिस पर उनके हस्ताक्षर भी हैं। यह सुसाइड नोट श्री मठ बाघम्बरी गद्दी के लेटर पैड के 12 पेजों पर लिखा गया है। कोई पेज आधा लिखा गया है। हर पेज पर हस्ताक्षर हैं। कुछ पेजों पर 13 सितंबर की तारीख लिखी गई है, लेकिन उसे काट कर 20 सितंबर की तारीख लिखी गई है।

महंत ने सुसाइड नोट में लिखा है कि 'मैं महंत नरेंद्र गिरि मठ बाघम्बरी गद्दी बड़े हनुमान मंदिर (लेटे हनुमान जी) वर्तमान में अध्यक्ष अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अपने होशो हवास में बगैर किसी दबाव मैं यह पत्र लिख रहा हूं। जब से आनंद गिरि ने मेरे ऊपर असत्य, मिथ्या, मनगढ़ंत आरोप लगाया, तब से मैं मानसिक दबाव में जी रहा हूं। जब भी मैं एकांत में रहता हूं, मर जाने की इच्छा होती है। आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और उनका लड़का संदीप तिवारी मिलकर मेरे साथ विश्वासघात किया। मुझे जान से मारने का प्रयास किया। सोशल मीडिया फेसबुक एवं समाचार पत्रों में आनंद गिरि ने मेरे चरित्र के ऊपर मनगंढ़त आरोप लगाया। मैं मरने जा रहा हूं।

सत्य बोलूंगा। मेरा घर से कोई संबंध नहीं है। मैंने एक भी पैसा घर पर नहीं दिया। मैंने एक-एक मंदिर एवं मठ में लगाया। 2004 में मैं महंत बना। 2004 से पहले व अभी तक जो मठ एवं मंदिर का विकास किया, सभी भक्त जानते हैं। आनंद गिरि द्वारा जो भी आरोप लगाया गया, उससे मेरी एवं मठ मंदिर की बदनामी हुई। मैं बहुत आहत हूं। मैं आत्महत्या करने जा रहा हूं। मेरे मरने के संपूर्ण जिम्मेदार आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी जो मंदिर के पुजारी हैं, आद्या प्रसाद तिवारी का बेटा संदीप तिवारी की होगी। मैं समाज में हमेशा शान से जिया, लेकिन आनंद गिरि मुझे गलत तरीके से बदनाम किया।

मैं महंत नरेंद्र गिरि... वैसे तो ये 13 सितंबर 2021 को आत्महत्या करने जा रहा था। लेकिन हिम्मत नहीं कर पाया। आज जब हरिद्वार से सूचना मिली कि एक-दो दिन में आनंद गिरि कंप्यूटर के माध्यम से मोबाइल से किसी लड़की या महिला के गलत काम करते हुए मेरी फोटो लगाकर फोटो वायरल कर देगा। मैंने सोचा कहां-कहां सफाई दूंगा। एक बार तो बदनाम हो जाऊंगा। मैं जिस पद पर हूं वह पद गरिमामयी पद है। सच्चाई तो लोगों को बाद में चल जाएगा लेकिन मैं तो बदनाम हो जाऊंगा। इसलिए मैं आत्महत्या करने जा रहा हूं। जिसकी जिम्मेदारी आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी एवं उसका लड़का संदीप तिवारी की होगी।

मैं महंत नरेंद्र गिरि आज मेरा मन आनंद गिरि के कारण विचलित हो गया। हरिद्वार से ऐसी सूचना मिली कि आनंदी गिरि कंप्यूटर के माध्यम से एक लड़की के साथ मेरी फोटो जोड़कर गलत काम करते हुए बदनाम करेगा। आनंद गिरि का कहना है महराज यानी मैं कहां तक सफाई देते रहेंगे। मैं जिस सम्मान से जी रहा हूं। अगर मेरी बदनामी हो गई तो मैं समाज में कैसे रहूंगा। इससे अच्छा मर जाना ही ठीक रहेगा। आज मैं आत्महत्या कर रहा हूं। जिसकी पूरी जिम्मेदारी आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी जो पहले पुजारी व उनको मैंने निकाल दिया और संदीप तिवारी पुत्र आद्या प्रसाद तिवारी की होगी। वैसे मैंने पहले ही आत्महत्या करने जा रहा था लेकिन हिम्मत नहीं कर पा रहा था। एक आडियो कैसेट आनंद गिरि जारी किया था। जिससे मेरी बदनामी हुई। आज मैं हिम्मत हार गया और आत्महत्या कर रहा हूं। 25 लाख रुपये आदित्य मिश्रा से एवं 25 लाख रुपये शैलेंद्र सिंह से रियल स्टेट से मांगता है।

प्रिय बलवीर गिरि मठ मंदिर की व्यवस्था प्रयास करना। जिस तरह से मैंने किया, इसी तरह से करना। आशुतोष गिरि, नितेश गिरि एवं मठ के सभी महात्मा बलवीर गिरि का सहयोग करना। परम पूज्य महंत हरिगोविंद पुरी से निवेदन है कि मठी का महंत बलवीर गिरि को बनाना। महंत रविंद्र पुरीजी (सजावट मढ़ी) आपने हमेशा साथ दिया। मेरे मरने के बाद बलवीर गिरि का ध्यान दीजिएगा। सभी को मेरा ओम नमो नारायण। बलवीर गिरि मेरी समाधी पार्क में नीबू के पेड़ के पास दी जाए। यही मेरी अंतिम इच्छा है। धनंजय विद्यार्थी मेरे कमरे की चाभी बलवीर गिरि महाराज को देना। बलवीर गिरि एवं पंच परमेश्वर निवेदन कर रहा हूं। मेरी समाधी पार्क में नीबू के पेड़ के पास लगा देना।

मेरी समाधी गद्दी में गुरुजी के बगल में नीबू के पेड़ के पास दिया जाए। इससे मैं दुखी होकर आत्महत्या करने का निर्णय लेकर आत्महत्या करने जा रहा हूं। मेरी मौत की जिम्मेदार आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी, संदीप तिवारी पुत्र आद्या प्रसाद तिवारी की होगी। प्रयागराज के सभी पुलिस अधिकारी एवं प्रशासनिक अधिकारियों से अनुरोध करता हूं। मेरे आत्महत्या के जिम्मेदार उपरोक्त लोगों पर कानूनी कार्रवाई की जाए। जिससे मेरी आत्मा को शांति मिले।

प्रिय बलवीर गिरि। ओम नमो नारायण। मैं तुम्हारे नाम एक रजिस्टर वसीयत की है। जिसमें मेरे ब्रह्मलीन (मरने के बाद) हो जाने की बाद तुम बड़े हनुमान मंदिर एवं मठ बाघंबरी गद्दी का महंत बनोगे। तुमसे मेरा एक अनुरोध है कि मेरी सेवा में लगे विद्यार्थी जैसे मिथिलेश पांडेय, रामकृष्ण पांडेय, मनीष शुक्ल, शिवेक कुमार मिश्र, अभिषेक कुमार मिश्र, उज्ज्वल द्विवेदी, प्रज्वल द्विवेदी, अभय द्विवेदी, निर्भय द्विवेदी, सुमित तिवारी का ध्यान देना। जिस तरह से मेरे समय में रह रहे हैं। उसी तरह से तुम्हारे समय में रहेंगे। इन सभी का ध्यान देना। उपरोक्त सभी जिनका मैंने नाम लिया है। तुम लोग भी हमेशा बलवीर गिरि महराज का सम्मान करना।

जिस तरह से हमेशा से सेवा एवं मठ की सेवा किया उसी तरह से बलबीर गिरि महराज एवं मठ-मंदिर की सेवा करना। वैसे हमें सभी विद्यार्थी प्रिय हैं। लेकिन मनीष शुक्ला, शिवांक मिश्रा, अभिषेक मिश्रा मेरे अतिप्रिय हैं। कोरोना काल जब मुझे कोरोना हुआ मेरी सेवा सुमित तिवारी ने मेरी सेवा की। मंदिर में माला-फूल की दुकान मैंने सुमित तिवारी को किरायानामा रजिस्टर किया है। मिथिलेश पांडेय को श्री बड़ा हनुरूपा इममोरिपम की दुकान किराए पर दी है। मनीष शुक्ला, शिवेश मिश्रा, अभिषेक मिश्रा को दुकान नंबर एक लड्डू की दुकान किराए में दी है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.