रेलवे ट्रैक की बिजली आपूर्ति में सुधार की व्यवस्था परखी Prayagraj News

बिजली आपूर्ति व्यवस्था में सुधार संबंधी कार्यों की स्थिति जानी।

महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी ने कहा कि ट्रैफिक ब्लॉक के निर्धारण संसाधनों के इस्तेमाल समेत विभिन्न गतिविधियों के लिए टाइमलाइन के लिए सटीक योजना बनाने में मदद मिलेगी। आश्वासन दिया कि मुख्यालय से इनपुट और सहायता उपलब्ध कराई जाएगी।

Publish Date:Thu, 21 Jan 2021 11:37 AM (IST) Author: Rajneesh Mishra

प्रयागराज, जेएनएन। उत्तर मध्य रेलवे व पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी ने एनसीआर क्षेत्र के नई दिल्ली-हावड़ा और नई दिल्ली-मुंबई ट्रंक मार्ग के 160 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति करने को लेकर फील्ड स्तर की तैयारियों की समीक्षा की। इस दौरान बिजली आपूर्ति व्यवस्था में सुधार संबंधी कार्यों की स्थिति जानी।

रेलवे की ओर से ट्रेनों की गति बढ़ाने वाले कार्यों में ओएचई व बिजली आपूर्ति संबंधी कार्य कुल काम की लागत का 58 फीसद है।

प्रयागराज में हुई बैठक के दौरान डीआरएम मोहित चंद्रा ने जीएम का स्वागत किया। इसके बाद वरिष्ठ मंडल बिजली इंजीनियर टीआरडी की ओर से किए गए काम, संसाधन प्रबंधन, आरडीएसओ व रेलवे बोर्ड से आपेक्षित मदद की विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की। ट्रैफिक ब्लॉक के दौरान काम निपटाने के लिए संबंधित विभागों द्वारा इंटीग्रेड रूप से कार्य करने की योजना के बारे में बताया।

जीएम ने कहा कि ट्रैफिक ब्लॉक के निर्धारण, संसाधनों के इस्तेमाल समेत विभिन्न गतिविधियों के लिए टाइमलाइन के लिए सटीक योजना बनाने में मदद मिलेगी। आश्वासन दिया कि मुख्यालय से इनपुट और सहायता उपलब्ध कराई जाएगी। जीएम ने गति बढ़ाने को लेकर एक और समीक्षा बैठक की। इस काम में अतिरिक्त अधिकारियों, पर्यवेक्षकों व मनीशनरी उपलब्ध कराने से कई समस्याओं का समाधान होगा। इससे यात्रियों को और आरामदायक सफर का अनुभव होगा।  इस दौरान प्रमुख मुख्य बिजली इंजीनियर सतीश कोठारी, प्रयागराज के डीआरएम मोहित चंद्रा, आगरा के डीआरएम एसके श्रीवास्तव समेत मुख्यालय व प्रयागराज मंडल के अधिकारी उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.