Infectious Disease Control: प्रयागराज में इन दिनाें डेंगू की रोकथाम के लिए स्‍वास्‍थ्‍य विभाग सजग, ये हैं इंतजाम

Infectious Disease Control जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि जिन पात्रों में लार्वा पाए गए उन्हें खाली करा कर साफ करा दिया गया। साथ ही पिछले साल पाए गए डेंगू पाजिटिव रोगियों के क्षेत्रों में भी कार्यवाही कराई जा रही है। स्वास्थ विभाग की टीम सक्रिय है।

Brijesh SrivastavaWed, 22 Sep 2021 12:11 PM (IST)
घरेलू बीडर्स चेकर्स सोर्स रिडक्शन कार्य नगरीय क्षेत्र में मलेरिया विभाग की टीम के साथ मिल कर कर रहे हैं।

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। प्रयागराज जनपद में संक्रामक बीमारियों को नियंत्रित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग का प्रयास तेज हो गया है। खासतौर से डेंगू को लेकर सक्रियता बढ़ी है क्‍योंकि इन दिनों जिले में डेंगू के मरीजों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है। सीएमओ डा. नानक सरन ने बताया कि डेंगू नियंत्रण अभियान चल रहा है। संवेदनशील इलाकों में स्वास्थ्य विभाग की 20 टीम एवं नगर निगम की 60 टीम छिड़काव कर रही हैं। साथ ही नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में टीम बनाकर सोर्स रिडक्शन किया जा रहा है।

जिला मलेरिया अधिकारी बोले- डूडा से घरेलू ब्रीडर चेकर हायर किए गए

जिला मलेरिया अधिकारी आनंद सिंह ने बताया कि नगरीय क्षेत्रों में विभाग द्वारा प्राइवेट तौर से डूडा से 70 घरेलू ब्रीडर चेकर हायर किए गए हैं, जिसमें से 50 काम कर रहे है बाकी के 20 कर्मचारी के आते ही टीम के साथ लगा दिया जाएगा। इन सभी कर्मचारियों को सोर्स रिडक्शन के कार्य में लगाया गया हैं।

मलेरिया विभाग की टीम के साथ कर रहा यह काम

घरेलू बीडर्स चेकर्स सोर्स रिडक्शन का कार्य नगरीय क्षेत्र में मलेरिया विभाग की टीम के साथ मिल कर कर रहे हैं। एवं ग्रामीण क्षेत्रों में आशा द्वारा सोर्स रिडक्शन की कार्यवाही की जा रही है। नियुक्त किए गए बीडर्स चेकर्स नगरीय क्षेत्रों में तथा बुखार प्रभावी क्षेत्रों में जलस्रोतों जैसे कूलर, टायर गमले आदि में मच्छरों के लार्वा की जांच करते हैं तथा उनकी साफ-सफाई करते हैं। नाले-नालियों में एंटी लार्वा का छिड़काव करते हैं। अभी तक घरेलू ब्रीडर्स चेकर ने 7000 अधिक घरों में सोर्स रिडक्शन का कार्य किया गया।

जागरूकता कार्यक्रम भी आयोजित किया जा रहा

जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि जिन पात्रों में लार्वा पाए गए उन्हें खाली करा कर साफ करा दिया गया। साथ ही पिछले साल पाए गए डेंगू पाजिटिव रोगियों के क्षेत्रों में भी कार्यवाही कराई जा रही है। स्वास्थ विभाग की टीमों द्वारा बुखार प्रभावित क्षेत्रों में छिड़काव किया जा रहा है। साथ ही जन जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें डेंगू से बचाव में क्या करें व क्या न करें, की जानकारी रैली एवं माइकिंग के जरिए भी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि अपने आस-पास पानी इकट्ठा न होने दें व मच्छरदानी में सोएं। साथ ही कूड़े-कचरे का सही निष्तारण करने की अपील की। उन्होंने बताया कि अभी तक डेंगू के 156 मरीज मिले हैं और अब वह पूरी तरह ठीक हैं।

शहर इलाके में 114 व ग्रामीण क्षेत्र में 42 डेंगू मरीज

अब तक शहरी क्षेत्र में 114 डेंगू केस और ग्रामीण क्षेत्र में 42 केस मिला है। सोरांव के इस्‍माइलगंज और शहर के गोविंदपुर मुहल्ले में स्थिति नियंत्रित हो चुकी है जहां पर अभी तक 10-10 केस मिला है। साथ ही नगरीय क्षेत्र में सवेदनशील इलाका छोटा बघाड़ा में अभियान चला कर स्थिति को नियंत्रित किया जा रहा है।

नामित किए गए नोडल अधिकारी

जिलाधिकारी के निर्देशानुसार प्रत्येक विकास खंड के नोडल अधिकारी संबंधित खंड विकास अधिकारी होंगे। शहरी क्षेत्र में नगर निगम के जोनल अधिकारी संबंधित जोन के नोडल होंगे। डेंगू के सापेक्ष समस्त निरोधात्मक कार्यवाही का पर्यवेक्षण एवं अनुश्रवण नोडल के स्तर से भी किया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.