यूं घटाए जा रहे हैं प्रयागराज में कोरोना केस, संदिग्ध लोगों के टेस्ट में बेहद कमी कर दी प्रशासन ने

लखनऊ और वाराणसी की अपेक्षा प्रयागराज में जुटाए कम सैंपल, नए संक्रमित 236 मिले, मोबाइल टीमें गांव भेजीं

छह मई को 12255 लोगों के सैंपल लिए गए। सात मई को 9333 सैंपल आठ मई को 10222 और नौ मई को 8535 सैंपल लिए गए। प्रदेश के जिन चार-पांच जिलों में संक्रमण तेजी से फैला है उनमें प्रयागराज भी है। रविवार को कोरोना के 236 नए संक्रमित लोग मिले।

Ankur TripathiMon, 10 May 2021 07:00 AM (IST)

प्रयागराज, जेएनएन। कोरोना संक्रमण यूं ही कम नहीं हुआ बल्कि प्रशासन अब दूसरा फार्मूला अपना रहा है। दरअसल कोविड टेस्ट ही कम कर दिए हैं। जबकि कोरोना अब भी पूरी रफ्तार में है। कोविड अस्पतालों में छह मौतें हुई हैं। पिछले तीन दिनों से सैंपलिंग में गिरावट आ रही है। रविवार को तो शहर व देहात मिलाकर 8535 सैंपलिंग ही हुई जबकि कोरोना संक्रमण से अति प्रभावित जिलों लखनऊ में 22655 और वाराणसी में 10000 लोगों के सैंपल लिए गए। हालांकि कानपुर प्रयागराज से भी पीछे रहा। वहां 7776 लोगों के सैंपल लिए गए। 

लखनऊ और कानपुर से भी कम हो गए यहां टेस्ट

इसे ऐसे समझ सकते हैं कि छह मई को 12255 लोगों के सैंपल लिए गए। सात मई को 9333 सैंपल, आठ मई को 10222 और नौ मई को 8535 सैंपल लिए गए। जबकि प्रदेश के जिन चार-पांच जिलों में संक्रमण काफी तेजी से फैला है उनमें प्रयागराज भी है। रविवार को कोरोना के 236 ही नए संक्रमित लोग मिले। उधर अस्पतालों की स्थितियों में आए सुधार ने डाक्टरों को भी सुकून पहुंचाया है। हालांकि खतरा अभी बरकरार है इसलिए लोगों को पूरी तरह सतर्क रहने की डाक्टर सलाह दे रहे हैं।

कोविड-19 के नोडल की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार रविवार को 1182 लोगों को डिस्चार्ज  किया गया इसमें 63 को कोविड अस्पताल व 1119 को होम आइसोलेशन से छुट्टी दी गई। बीते 24 घंटे में कोविड जांच के लिए भी कम लोग ही पहुंचे। 

संख्या कम होने से नहीं हो जाएं बेफिक्र

कोविड-19 के नोडल डा. ऋषि सहाय ने बताया कि नए संक्रमितों की संख्या कम होने से लोग बेफिक्र न हो जाएं। अभी कोरोना कफ्र्यू लगा है उसका पालन करें। कोविड प्रोटोकाल का भी पालन करते रहें। बताया कि जांचें कम नहीं की गई हैं। रविवार को कम लोग ही जांच केंद्र पहुंचते हैं। और यह भी कारण है कि शहर में कोविड टेस्ट के लिए भ्रमण करने वाली टीमों में 40 गाडिय़ां ग्रामीण इलाकों में भेज दी गई हैं। गांव में कांटेक्ट टेस्टिंग के लिए टीमों को लंबी दूरी तय कर करनी पड़ रही है इसलिए नए केस कम मिल रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.