पूर्व सांसद अतीक के साथ अशरफ की अवैध संपत्ति भी होगी जब्त Prayagraj News

पूर्व सांसद अतीक के साथ अशरफ की अवैध संपत्ति भी होगी जब्त Prayagraj News

प्रयागराज शहर में अतीक अहमद की 13 ऐसी संपत्ति का पता चला है जिसके बारे में माना जाता है कि उसे अपराध के जरिए अर्जित किया गया है।

Publish Date:Thu, 13 Aug 2020 08:58 AM (IST) Author: Brijesh Srivastava

प्रयागराज,जेएनएन।  माफिया के रूप में चिह्नित पूर्व सांसद अतीक अहमद और उसके छोटे भाई पूर्व विधायक खालिद अजीम उर्फ अशरफ के खिलाफ पुलिस ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। पुलिस अब अशरफ की अवैध संपत्ति की पहचान कर रही है। जल्द ही गैंगस्टर एक्ट के तहत जब्ती की कार्रवाई की जाएगी। दिल्ली में ओखला स्थित फ्लैट और कौशांबी में जमीन के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।

जांच में पता चला है कि अतीक और अशरफ की अलग-अलग नाम से 16 फर्म

पुलिस को अब तक की जांच में पता चला है कि अतीक और अशरफ की अलग-अलग नाम से 16 फर्म है। किसी का डायरेक्टर अतीक है तो किसी का अशरफ। करीबी इनमें सदस्य हैं। इन्हीं फर्मों के नाम पर कई जगह करोड़ों रुपये कीमती संपत्ति बनाई गई हैं। प्रयागराज शहर में अतीक अहमद की 13 ऐसी संपत्ति का पता चला है, जिसके बारे में माना जाता है कि उसे अपराध के जरिए अर्जित किया गया है। इसे जब्त करने की प्रक्रिया चल रही है। पुलिस अधिकारियों का यह भी कहना है कि अशरफ के नाम कौशांबी के पूरामुफ्ती और पिपरी में कुछ भूखंड होने का पता चला है, इसका सत्यापन कराया जा रहा है। दिल्ली के ओखला में अतीक का फ्लैट होने की बात सामने आई है। इसका विवरण जुटाया जा रहा है। एसपी सिटी दिनेश सिंह का कहना है कि राजस्व विभाग की टीम के साथ मिलकर सत्यापन कराया जा रहा है।

आइजी ने कहा- माफिया पर कार्रवाई में लाई जाय तेजी 

इस बीच आइजी केपी सिंह ने माफिया अतीक अहमद, पूर्व ब्लाक प्रमुख दिलीप मिश्रा, पार्षद बच्चा पासी और हिस्ट्रीशीटर राजेश यादव के विरुद्ध चल रही कार्रवाई में तेजी लाने की हिदायत दी है। बुधवार शाम उन्होंने रेंज कार्यालय में एसएसपी, एसपी सिटी, एसपी गंगापार, एसपी यमुनापार, सीओ, विवचेक और राजस्व विभाग की टीम संग बैठक की। इसमें अवैध संपत्ति जब्त करने, हिस्ट्रीशीट खोलने, मुकदमों की बेहतर पैरवी और गुर्गों के असलहों के लाइसेंस निरस्त कराने पर जोर दिया। आइजी ने बताया कि माफिया और उनके गैंग के सदस्यों के विरुद्ध कार्रवाई के लिए नोडल अधिकारी बनाए गए हैं। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.