केपी ट्रस्ट की लीज पर दी गई पांच एकड़ जमीन रहेगी समाज के पास और बनेगा शापिंग माल

सीएमपी पीजी कालेज के सामने और केपी इंटर कालेज के बगल स्थित इस जमीन को करीब 70-80 साल पहले मुंबई की ह्यूम पाइप कंपनी को ट्रस्ट के तत्कालीन अध्यक्ष ने 50 रुपये महीने की लीज पर दी थी। कंपनी 1956 में काम बंद करके वापस चली गई।

Ankur TripathiMon, 29 Nov 2021 08:24 AM (IST)
कायस्थ पाठशाला द्वारा पाइप निर्माण करने वाली कंपनी को लीज पर दी गई जमीन समाज के पास ही रहेगी।

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। एशिया के सबसे बड़े ट्रस्ट कायस्थ पाठशाला द्वारा पाइप निर्माण करने वाली एक कंपनी को लीज पर दी गई जमीन अब समाज के पास ही रहेगी। रविवार को सीएमपी पीजी कालेज के आडिटोरियम में कायस्थ पाठशाला गवर्निंग काउंसिल की बैठक में इस पर सहमति बनी। इसी कालेज के सामने स्थित करीब चार से पांच एकड़ जमीन को बैठक की अध्यक्षता कर रहे ट्रस्ट के अध्यक्ष द्वारा समाज के अजय श्रीवास्तव को देने संबंधी प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पास कर दिया गया। इस जमीन पर शापिंग माल बनेगा।

80 साल पहले 50 रुपये मासिक पर दी थी लीज पर

सीएमपी पीजी कालेज के सामने और केपी इंटर कालेज के बगल स्थित इस जमीन को करीब 70-80 साल पहले मुंबई की ह्यूम पाइप कंपनी को ट्रस्ट के तत्कालीन अध्यक्ष ने 50 रुपये महीने की लीज पर दी थी। कंपनी 1956 में काम बंद करके वापस चली गई। लेकिन, कंपनी के मैनेजर ने जमीन से कब्जा नहीं छोड़ा। इसके लिए कायस्थ पाठशाला द्वारा मुकदमा किया गया। लगभग 55-56 साल से कचहरी में मुकदमा चल रहा है।

शापिंग माल बनाने के लिए प्रस्ताव पारित हुआ था

केपी ट्रस्ट के अध्यक्ष चौधरी जितेंद्र नाथ सिंह ने बताया कि मैनेजर की मृत्यु के बाद जमीन पर उनके बेटे का कब्जा हो गया। कई बार बाउंड्रीवाल बनवाई गई मगर, तोड़ दी गई। आरटीआइ से जानकारी मिली कि सरकार नए मास्टर प्लान में बस स्टेशन बनाने के लिए जमीन ले ली। बस स्टेशन बन जाने पर जमीन ट्रस्ट के कब्जे से निकल जाएगी। इसलिए शापिंग माल बनाने के लिए प्रस्ताव पारित हुआ था। अध्यक्ष के मुताबिक मालवीय रोड, जार्जटाउन निवासी अजय श्रीवास्तव को जमीन देने के लिए उनके द्वारा हाथ उठाकर प्रस्ताव किया गया, जिसे सर्वसम्मति से पास कर दिया गया। बैठक में ट्रस्ट के तमाम पदाधिकारी एवं सदस्य मौजूद थे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.