आइपीएल के साथ शुरू हुआ करोड़ों का सट्टा, हर गेंद और चौके-छक्के पर लगाया जा रहा है प्रयागराज में दांव

इंडियन प्रीमियर लीग यानी आइपीएल शुरू होते ही एक बार फिर सटोरिए सट्टे के मैदान में उतर आए हैं।

शहर से लेकर कस्बे तक रोजाना करोड़ों रुपये का सट्टा लगाया जा रहा है। कहीं ऑनलाइन तो कहीं ऑफलाइन दांव लग रहा है। पुलिस भी सक्रिय हो गई है और सटोरियों की तलाश तेज कर दी है। पुराने सट्टेबाजों के मोबाइल नंबर भी सर्विलांस पर लगा दिए गए हैं

Ankur TripathiMon, 12 Apr 2021 07:00 AM (IST)

प्रयागराज, जेएनएन। इंडियन प्रीमियर लीग यानी आइपीएल शुरू होते ही एक बार फिर सटोरिए सट्टे के मैदान में उतर आए हैं। शहर से लेकर कस्बे तक रोजाना करोड़ों रुपये का सट्टा लगाया जा रहा है। कहीं ऑनलाइन तो कहीं ऑफलाइन दांव लग रहा है। इसकी भनक लगते ही पुलिस भी सक्रिय हो गई है और सटोरियों की तलाश तेज कर दी है। पुराने सट्टेबाजों के मोबाइल नंबर भी सर्विलांस पर लगा दिए गए हैं, ताकि उन्हें ट्रेस करके गिरफ्त में लिया जा सके। 

सेशन और मैच पर लगाया जा रहा दांव 

जानकारों का कहना है कि सट्टा खिलवाने वाले इंटरनेट मीडिया के जरिए नए-नए युवाओं को अपने झांसे में फंसा रहे हैं। उन्हें तरह-तरह का प्रलोभन देकर काला कारोबार में शामिल होने के लिए दबाव बना रहे हैं। ताकि उनके आने से मैच के जरिए कमाई को बढ़ाया जा सके। अधिकांश सटोरिए मोबाइल पर इंटरनेट की मदद से मैच और सेशन पर लाखों का दांव लगा रहे हैं। खाई और लगाई के नाम से सट्टा खेला जा रहा है। मैच का भाव भी ऑनलाइन बताकर उनसे पैसा भी ऑनलाइन ट्रांसफर कराया जा रहा है, ताकि पुलिस आसानी से पकड़ न सके।

होटल से लेकर गंगा कछार तक खेला जा रहा सट्टा

सट्टा होटल के कमरे से लेकर गंगा के कछार तक खेला जा रहा है। पुलिस को भी इसके बारे में पता चला रहा है, लेकिन सटीक सुराग नहीं मिल रहा है। बताया जा रहा है कि सिविल लाइंस, कैंट, शाहगंज, कोतवाली और कीडगंज थाना क्षेत्र के कुछ होटल में सटोरियों ने अलग-अलग नाम से कई दिनों के लिए कमरे बुक करा रखे हैं। जबकि कुछ फ्लैट और सूनसान माने जाने वाले नेवादा के गंगा के कछार में खेल करा रहे हैं। 

वाट्सएप पर बना रखे हैं ग्रुप  

जानकारों का दावा है कि सट्टा के माहिर बुकियों ने वाट््सएप पर ग्रुप बना रखे हैं। उसमें नए सदस्यों को जोडऩे के लिए कुछ लोगों के जरिए संदेश भिजवाया जाता है कि आज इस ग्रुप में खेलने से इतने का फायदा हुआ है, जबकि दूसरे ग्रुप से खेलने वाले को नुकसान उठाना पड़ रहा है। कहा तो यह भी जा रहा है कि एसओजी और सर्विलांस टीम के कुछ पुलिसकर्मियों का कई सटोरियों से भी कनेक्शन है, जो कार्रवाई की जद में नहीं आते हैं। 

आइपीएल में सट्टा लगाने और लगवाने वालों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की एक टीम काम कर रही है। कुछ सुराग मिले हैं, जिसके आधार पर छानबीन की जा रही है। जल्द ही ऐसे लोगों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 

- आशुतोष मिश्रा, एसपी क्राइम  

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.