सीएमओ के गलत बयानबाजी पर भड़के मरीजों ने किया हंगामा

प्रयागराज : प्रतापगढ़ के जिला अस्पताल में एंटी रैबीज का इंजेक्शन न लगने से नाराज मरीजों ने हंगामा खड़ा कर दिया। मरीज इस मामले को लेकर सीएमओ से मिले। सीएमओ पर गलत बयानबाजी का आरोप लगाते हुए नाराज मरीजों ने जिला अस्पताल का गेट जाम कर नारेबाजी शुरू कर दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने मरीजों को शांत कराया। इसके बाद मरीज अस्पताल से चले गए। इस दौरान एक घंटे तक चौक-कचहरी रोड जाम रहा। जाम में फंसने से राहगीर परेशान रहे। अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से राहगीरों को परेशानियों से जूझना पड़ा।

जिला अस्पताल के साथ ही जिले भर की 17 सीएचसी में कई दिनों से एंटी रैबीज का इंजेक्शन उपलब्ध नहीं है। इंजेक्शन न मिलने से आए दिन दर्जनों मरीज जिला अस्पताल से वापस लौट रहे हैं। इसी तरह शुक्रवार को कुंडा के अंबरीश सोनकर, किशुनगंज के राम सुंदर, कटरा मेदनीगंज के सागर गुप्ता, जोगापुर के सुधांशु मौर्या, देल्हूपुर के शिव प्रसाद, सड़ारी की सीमा तिवारी, बरहूपुर के अब्दुल सलाम, प्रतापगढ़ सिटी के राजू यादव, अजगरा की ¨रकी देवी, सौरभ, अंश, वशीर, रिमझिम, उदयभानु, ऊर्मिला रैबीज का इंजेक्शन लगवाने के लिए जिला अस्पताल पहुंचे।

वहां पर रैबीज खत्म होने की सूचना नोटिस बोर्ड पर चस्पा थी। मरीजों के पूछने पर स्वास्थ्य कर्मियों ने रैबीज इंजेक्शन के न होने की बात कही। यह सुनकर मरीज भड़क गए और हंगामा करने लगे। इसके बाद मरीज शोर मचाते हुए सीएमओ कार्यालय पर पहुंचे। वहां मरीजों के इस बाबत पूछने पर सीएमओ अर¨वद कुमार श्रीवास्तव ने आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी। इससे मरीज भड़क गए और नारेबाजी करने लगे। घटना की जानकारी होने पर एसआइ मकंद्रूगंज , सिविल लाइन विवेक कुमार मिश्रा मयफोर्स के जिला अस्पताल पहुंचे। हालांकि पुलिस कर्मियों के समझाने के बाद मरीज शांत हो गए। धीरे-धीरे करके मरीज जिला अस्पताल से घर चले गए। एक घंटे तक लगा रहा जाम :

जिला अस्पताल गेट पर सुबह साढे़ नौ बजे से लेकर साढ़े 10 बजे तक जाम लगा रहा। इसका असर चौक -कचहरी मार्ग पर भी रहा। इससे सड़क पर भी जाम लगा रहा। जाम के चलते एंबुलेंस, ई-रिक्शा, कार, बाइक समेत अन्य वाहन जाम में फंसे रहे। इसका असर चौक से लेकर राजापाल टंकी चौराहे तक रहा। हालांकि बाइक सवार लोग जाम से बचने के लिए गली का रास्ता अपनाना पड़ा। एक दूसरे को आते जाते देख अन्य बाइक सवार भी उसी रास्ते से गुजरने लगे। इससे गलियों में भी जाम लगा रहा। लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। पुलिस कर्मियों के पहुंचने पर सहमें मरीज :

जिला अस्पताल में हंगामे की सूचना मिलते ही दर्जनों पुलिस कर्मी जिला अस्पताल पहुंच गए। बवाल न बढ़े, इसके लिए पुलिस से हंगामा करने वाले मरीजों को किसी तरह से उन्हें शांत कराया। हालांकि भारी पुलिस कर्मी देख मरीज सहम गए। जिला अस्पताल के अलावा सभी सीएचसी में एंटी रैबीज का इंजेक्शन खत्म है। केवल तीन कंपनियां हैं जो पूरे देश में इसकी सप्लाई करती हैं। यह श्वान व इंसान के ब्लड से एंटी रैबीज इंजेक्शन तैयार किया जाता है। इसकी डिमांड की गई है। मिलते ही इंजेक्शन लगाने का कार्य होगा। वहीं मरीजों से आपत्तिजनक शब्दों के प्रयोग के आरोप पर स्पष्ट किया कि उन्होंने कुछ भी ऐसा नहीं कहा था, जिससे उनकी भावना को ठेस पहुंचती, यह अलग बात है कि उन लोगों ने मेरी बात को अन्यथा ले लिया।

- अर¨वद कुमार श्रीवास्तव, सीएमओ।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.