Covid-19 Prayagraj News: राहत की खबर, अस्‍पताल में कोरोना संक्रमित 50 फीसद से भी हुए कम, वार्ड हो रहे खाली

कोरोना डेढ़ महीने भी दिखा पाया अपनी गर्मी। अब राहत की लोग सांस ले रहे हैं।

तीन जिलों की स्वास्थ्य सेवाओं की धुरी स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय में अब कुल मरीजों की संख्‍या करीब 200 रह गई है। जबकि यहां कोविड मरीजों के लिए करीब सवा पांच सौ बेड की उपलब्धता है। मरीज अब पुरानी बिल्डिंग से सुपर स्पेशिलिटी ब्लाक में शिफ्ट किए जाने लगे हैं।

Brijesh SrivastavaMon, 17 May 2021 12:00 PM (IST)

प्रयागराज, जेएनएन। प्रयागराज के लोगों के लिए यह राहत की खबर है। वह यह कि डेढ़ महीने तक आफत बना कोरोना अब धीमी चाल में है। मई का दूसरा सप्ताह कोरोना मरीजों के लिए राहत लेकर आया है। घनी बस्तियों के बाजार में कोरोना कर्फ्यू के बाद भी 'अघोषित अनलॉक' जैसी स्थिति है तो कोविड अस्पतालों में वार्ड खाली-खाली हैं। इससे लोगों को राहत तो मिली है लेकिन अभी कोविड-19 गाइडलाइन का पालन भी करना होगा।

तीन जिलों की स्वास्थ्य सेवाओं की धुरी स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय में अब कुल मरीजों की संख्‍या करीब 200 ही रह गई है। जबकि यहां कोविड-19 मरीजों के लिए करीब 513 बेड की उपलब्धता है। मरीजों को अब पुरानी बिल्डिंग से सुपर स्पेशिलिटी ब्लाक में शिफ्ट किया जाने लगा है।

मई के दूसरे सप्ताह में कोरोना की जानें स्थिति

10 मई- संक्रमित 286- मौत 06

11 मई-संक्रमित 202-मौत 06

12 मई-संक्रमित 232-मौत 05

13 मई- संक्रमित 241-मौत 07

14 मई-संक्रमित 191-मौत 06

15 मई- संक्रमित 165-मौत 09

पिछले दिनों दहशत भरा प्रयागराज में दिखा नजारा

कोरोना की दूसरी अप्रैल में शुरू हुई थी। 10 अप्रैल के बाद से यह चरम पर था। घरों से लेकर अस्पतालों तक अफरा-तफरी रही। सरकारी कोविड अस्पतालों में बेड कम पडऩे लगे तो स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन को धीरे-धीरे 15 निजी अस्पताल भी कोविड डेडिकेटेड करने पड़े। 15 दिनों तक स्थिति विकट रहने से लोगों का जीवन घबराहट में बीता। जिनके घर के सदस्यों को कोरोना वायरस छीन ले गया उनके यहां मातम का डेरा रहा। अस्पतालों से लेकर फाफामऊ घाट तक का मंजर भी लोग नहीं भूल पा रहे। 

कोरोना के सामान्‍य होने लगे हैं हालात

राहत की बारिश एक मई के बाद शुरू हुई और मई का दूसरा सप्ताह शुरू होने पर नए मिलने वाले संक्रमितों की संख्या तेजी से घटी। अब संक्रमण के दायरे में प्रत्येक दिन आने वाले लोगों की संख्या 200 से काफी कम है और 513 बेड वाले स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय में कुल मरीजों की संख्या ही 200 के आसपास होने से स्थितियां तेजी से बदलीं। हालात सामान्य होने पर अब पुरानी बिल्डिंग में भर्ती मरीजों को लेवेल थ्री सुपर स्पेशिलिटि ब्लाक में शिफ्ट किया जा रहा है ताकि उन्हें वहां बेहतर इलाज मिल सके। पुरानी बिल्डिंग में सभी वार्डों को मिलाकर कुल मरीजों की तादाद ही एक सैकड़ा से कम रही। 

एसआरएन अस्‍पताल के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक ने यह कहा

एसआरएन अस्‍पताल के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. अजय सक्सेना कहते हैं कि कोविड से हालात अब सामान्य हैं। एसआरएन अस्‍पताल में कोविड मरीजों की संख्या कम है। ट्रायज वार्ड को छोड़कर बाकी वार्ड खाली किए जा रहे हैं। कुछ वार्डों में चार या पांच मरीज ही बचे हैं उनकी शिफ्टिंग पहले हो रही है। पोस्ट कोविड वार्ड अभी रहेगा। क्योंकि वहां कोविड से निगेटिव होने वाले मरीज कुछ दिन निगरानी में रखे जाते हैं।  

अब नर्सिंग होम कोविड श्रेणी से होंगे मुक्त

स्वास्थ्य विभाग से स्वीकृत कुल 15 निजी अस्पताल कोविड डेडिकेटेड हैं। इनमें रावतपुर में युनाइटेड मेडिसिटी एंड मेडिकल कालेज के अलावा गंगापार इलाके में विनीता और प्राची अस्पताल भी शामिल हैं। कोविड-19 के नोडल अफसर डा. ऋषि सहाय के अनुसार इन सभी अस्पतालों से सूची मांगी गई है कि उनके यहां अब कितने संक्रमित भर्ती हैं। किसी अस्पताल मेें मरीजों की संख्या काफी कम पाई जाएगी तो उन मरीजों को दूसरे अस्पतालों में शिफ्ट कराकर खाली हुए अस्पताल को कोविड श्रेणी से मुक्त किया जाएगा। हालांकि इस योजना पर अभी विचार हुआ है, निर्णय स्थितियों के अनुसार लिया जाएगा। 

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.