Coronavirus संक्रमण से वैवाहिक समारोह भी प्रभावित, 22 अप्रैल से शुरू हो रहा है मुहूर्त, लोग उहापोह में

एक ओर शादी-विवाह का शुभ मुहूर्त शुरू होने वाला है तो वहीं कोरोना संक्रमण का साया भी है।

नाइट कर्फ्यू व 50 लोगों की बंदिश लगने से सबकी योजना पर पानी फिर गया है। इससे शादी करने वालों के साथ गेस्ट हाउस संचालक बैंडबाजा लाइट व कार्ड वाले मायूस हैं। शादी के लिए इधर जिनका गेस्ट हाउस बुक था वो अपना कार्यक्रम स्थगित कर रहे हैं।

Brijesh SrivastavaSat, 17 Apr 2021 04:00 PM (IST)

प्रयागराज, जेएनएन। कोरोना वायरस का संक्रमण का असर शादी-विवाह पर भी पड़ेगा। कोरोना ने विवाह और बैंडबाजा पर लगाम लगाने की तैयारी कर रखी है। महीनों बाद 22 अप्रैल से विवाह का मुहूर्त शुरू होने वाला है। अधिकतर लोगों ने महीनों पहले शादी की तारीख तय करके गेस्ट हाउस बुक करा लिया था। कोरोना संक्रमण के पांव पसारने से शादी की खुशी मायूसी में बदलने लगी है।

शादी की खुशी पर भी कर्फ्यू

नाइट कर्फ्यू व 50 लोगों की बंदिश लगने से सबकी योजना पर पानी फिर गया है। इससे शादी करने वालों के साथ गेस्ट हाउस संचालक, बैंडबाजा, लाइट व कार्ड वाले मायूस हैं। शादी के लिए इधर जिनका गेस्ट हाउस बुक था वो अपना कार्यक्रम स्थगित कर रहे हैं। वह नवंबर व दिसंबर में बुक करवा रहे हैं। वहीं, कुछ लोग चुनिंदा रिश्तेदारों की मौजूदगी में सादगी से शादी करने की तैयारी में हैं। कार्ड छपवाने के बजाय कॉल करके करीबियों को संदेश दे रहे हैं। गेस्ट हाउस एसोसिएशन के उपाध्यक्ष गुफरान अहमद बताते हैं कि जिनकी बुकिंग थी उसमें से 90 प्रतिशत लोग अपना कार्यक्रम स्थगित कर रहे हैं। सभी नवंबर, दिसंबर की बुकिंग चाहते हैं।

आप भी जानें शादी का मुहूर्त

17 फरवरी को शुक्र ग्रह के अस्त होने से शादी सहित समस्त शुभ कार्य रुक गए थे। ज्योतिर्विद आचार्य देवेंद्र प्रसाद त्रिपाठी बताते हैं कि 19 अप्रैल को शुक्र का उदय होगा। तीन दिन उनका बाल्यत्व रहेगा। जबकि 22 अप्रैल की सुबह 5.45 शुक्र का बाल्यत्व खत्म होगा। इसके बाद से शादी-विवाह, नामकरण, यज्ञोपवीत संस्कार, गृहप्रवेश, नींव पूजन जैसे समस्त शुभ कार्य होने लगेंगे। विवाह का मुहूर्त 23, 24, 26, 28, 30 अप्रैल को है। जबकि मई में दो, सात, आठ, 13, 14, 19, 21, 22, 24, 25, 27, 29 तारीख को शादी का मुहूर्त है। इसी प्रकार 15, 17, 18, 20, 22, 24, 26 जून, एक व छह जुलाई को शादी का मुहूर्त है।

17 जुलाई को लगेगा चातुर्मास

पराशर ज्योतिष संस्थान के निदेशक आचार्य विद्याकांत पांडेय के अनुसार चातुर्मास 17 जुलाई की सुबह 4.11 बजे लग जाएगा। जबकि भगवान विष्णु 20 जुलाई को शयन पर चले जाएंगे। इसके साथ समस्त शुभ कार्यों पर  विराम लग जाएगा। देवोत्थान एकादशी 15 नवंबर को भगवान विष्णु पुन: जाग्रत होंगे। जबकि 16 नवंबर सूर्य वृश्चिक राशि में प्रवेश करेंगे। इसके साथ शुभ कार्य होंगे लगेंगे। नवंबर महीने में 20, 26, 28 व 29 तारीख को विवाह का मुहूर्त है। जबकि एक, पांच, 11 व 12 दिसंबर को भी विवाह का मुहूर्त है। 13 दिसंबर को खरमास आरंभ होने से शुभ कार्य रुक जाएंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.