योग से विदेश में विख्यात होते गए आनंद गिरि, आस्ट्रेलिया में गिरफ्तारी से इमेज पर लगा दाग

आनंद गिरि प्रवासी भारतीयों को परिवार के साथ माघ मास में गंगा सेना के शिविर में बुलाते थे।

प्रवासी भारतीयों के बीच में प्रवचन व योग करने के लिए आनंद गिरि अमेरिका इंग्लैंड ओमान आस्ट्रेलिया फिजी केन्या जैसे अनेक देशों का दौरा करते थे। वेद व संस्कृत के साथ अंग्रेजी में अच्छी पकड़ होने के कारण लोगों का आकर्षण आनंद गिरि की ओर बढ़ता गया।

Ankur TripathiSat, 15 May 2021 06:20 AM (IST)

प्रयागराज, जेएनएन। स्वामी आनंद गिरि ने कुछ ही सालों में अपनी योग कला से तेजी से ख्याति अर्जित कर ली। वह स्वामी रामदेव की तर्ज पर अपनी पहचान देश-विदेश में बना रहे थे। इंटरनेट मीडिया व धार्मिक चैनलों में इनके योग व प्रवचन के कार्यक्रमों प्रसारण होने लगा। इससे विदेशों में भी प्रवासी भारतीय इनसे जुड़ने लगे।

आनंद  गिरि विदेश में जाकर कराथे 

प्रवासी भारतीयों के बीच में प्रवचन व योग करने के लिए आनंद गिरि अमेरिका, इंग्लैंड, ओमान, आस्ट्रेलिया, फिजी, केन्या जैसे अनेक देशों का दौरा करते थे। वेद व संस्कृत के साथ अंग्रेजी में अच्छी पकड़ होने के कारण लोगों का आकर्षण आनंद गिरि की ओर बढ़ता गया। आनंद गिरि प्रवासी भारतीयों को परिवार के साथ माघ मास में कल्पवास करने के लिए गंगा सेना के शिविर में बुलाते थे। प्रवासी यहां रहकर खुद को सनातन धर्म व संस्कृति से जोड़ते थे। 


आस्ट्रेलिया की घटना से साख पर बट्टा

लेकिन स्वामी आनंद गिरि के लिए 2019 में आस्ट्रेलिया जाना किसी दुस्वप्न से कम नहीं रहा। तब आनंद गिरि पर दो महिलाओं ने अभद्रता व अनैतिक आचरण करने का आरोप लगाया था। इसमें आनंद गिरि को कई महीने तक जेल में रहना पड़ा। सिडनी निवासी 29 वर्ष की आनंद गिरि की एक शिष्या ने आरोप लगाया था कि उन्होंने 2016 में सत्संग के बाद कमरे में अभद्रता व मारपीट किया था। जबकि दूसरी घटना रूटी हिल क्षेत्र की है। आनंद गिरि की 34 वर्षीय महिला शिष्या ने आरोप लगाया कि 2018 में उन्होंने अमर्यादित आचरण किया। दोनों आरोपों में आनंद गिरि को चार जून 2019 को  आस्ट्रेलिया के सिडनी स्थित ओक्सले पार्क के वेस्टर्न सबअर्ब से पुलिस ने गिरफतार कर लिया। आनंद गिरि सिडनी की अदालत से 11 सितंबर 2019 को बरी हो गए। लेकिन, इस घटना से उनकी छवि पर विपरीत प्रभाव पड़ा। परंतु नरेंद्र गिरि व संत समाज आनंद गिरि के समर्थन में लगातार खड़ा रहा और उन्हें निर्दोष बताया था। 

योग पर देते रहे हैं व्याख्यान 

स्वामी आनंद गिरि योग, ध्यान व वैदिक ज्ञान पर बड़े-बड़े मंचों पर व्याख्यान देने के लिए जाते रहे हैं। एमएनएनआइटी, आइआइएम सहित अनेक देश-विदेश के विश्वविद्यालयों में व्याख्यान दिया है। योगगुरु बाबा रामदेव भी उन्हें अपने मंच पर बुलाकर योग कराने के साथ सम्मानित कर चुके हैं।


खूब वायरल हुई थी फोटो

आनंद गिरि 2017 में विदेश जा रहे थे। प्लेन के विजनेस क्लास में बैठकर सफर कर रहे थे। इनकी शीट में गिलास में कुछ रंगीन पदार्थ रखा था। लोगों ने इस फोटो को यह कहते हुए वायरल किया कि आनंद गिरि प्लेन में शराब पी रहे हैं। लेकिन आनंद गिरि ने उसकी सफाई में बताया कि वो शराब नहीं सेब का जूस है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.