करैलाबाग में ट्रांसफार्मर फुंकने से 12 घंटे गुल रही 500 घरों की बिजली

करैलाबाग में ट्रांसफार्मर फुंकने से 12 घंटे गुल रही 500 घरों की बिजली

करेली के सोला मार्केट स्थित हड्डी गोदाम के पास लगा 630 केवीए का ट्रांसफार्मर जल जाने से करीब 500 घरों की बत्ती चली गई। करीब 12 घंटे तक बिजली नही आ सकी। शाम को ट्रांसफार्मर बदले जाने पर आपूर्ति बहाल हो सकी।

Publish Date:Sat, 31 Oct 2020 09:39 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, प्रयागराज : करेली के सोला मार्केट स्थित हड्डी गोदाम के पास लगा 630 केवीए का ट्रांसफार्मर शनिवार सुबह करीब नौ बजे जल गया। लोगों ने इसकी सूचना करैलाबाग उपकेंद्र के अधिकारियों को दी, लेकिन तत्काल कोई कदम नहीं उठाया गया। बाद में कई लोगों के साथ पार्षद जब पहुंचे तब जाकर अधिकारी ट्रांसफार्मर के लिए दौड़े। रात लगभग 10 बजे आपूíत बहाल हो सकी।

हड्डी गोदाम के पास लगे ट्रांसफार्मर से सोला मार्केट, जीटीबी नगर के ए और बी ब्लाक के साथ ही आसपास के मुहल्लों में करीब पांच सौ घरों में आपूíत होती है। सुबह नौ बजे ट्रांसफार्मर अचानक जल गया। लोगों ने इसकी सूचना करैलाबाग उपकेंद्र के अधिकारियों को दी, लेकिन दोपहर 12 बजे तक जब कोई मौके पर नहीं पहुंचा तो लोगों का गुस्सा बढ़ने लगा। पेयजल की किल्लत होने लगी। पार्षद फजल खान को सूचना मिली तो वह मौके पर पहुंचे। स्थानीय लोगों के साथ वे उपकेंद्र पर गए और अधिकारियों से ट्रांसफार्मर बदलने को कहा। जिस पर कहा गया कि बमरौली स्थित स्टोर में ट्रांसफार्मर नहीं है। व्यवस्था की जा रही है। दो बजे तक यही सब चलता रहा और फिर पार्षद ने उच्चाधिकारियों को सूचना देने के साथ ही बमरौली स्थित स्टोर पर संपर्क किया।

इधर करैलाबाग उपकेंद्र के अधिकारी भी सक्रिय हुए और शाम सात बजे दूसरा ट्रांसफार्मर आया। इसे लगाने और चालू करने में तीन घंटे लग गए। लोगों का कहना है कि हमेशा करैलाबाग उपकेंद्र के अधिकारियों का रवैया यही रहा है। ट्रांसफार्मर जलने पर 10-12 घंटे तक इसे नहीं बदला जाता और लोग परेशान होते रहते हैं। डिप्टी रजिस्ट्रार की जबरन काट दी बिजली

करैलाबाग उपकेंद्र से संबंधित गंगागंज की रहने वाली दीप्ति मिश्रा प्रोफेसर राजेंद्र सिंह रज्जू भइया राज्य विश्वविद्यालय में डिप्टी रजिस्ट्रार हैं। इनके घर का बिजली का बिल पांच माह से जमा नहीं हुआ था। वजह मीटर रीडिग अधिक आना था। दीप्ति मिश्रा ने इसकी शिकायत करैलाबाग उपकेंद्र के अधिकारियों से की। चेकिग मीटर लगवाने के लिए प्रार्थना पत्र दिया, जिस पर उन्हें रसीद भी दी गई। शनिवार शाम अचानक उनकी लाइन काट दी गई। इसकी जानकारी होने पर उन्होंने उपकेंद्र के अधिकारियों से संपर्क किया तो कहा गया कि बकाया होने पर ऑनलाइन कनेक्शन काटा गया है। भुगतान होने पर ही लाइन चालू होगी। उन्होंने जब चेकिग मीटर की बात कही तो गोलमोल जवाब दिया गया। इस पूरे मामले की शिकायत उन्होंने मुख्य अभियंता से की है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.