33 हजार लाइन की केबल प्रयागराज के इस इलाके के लोगों के लिए बनी मुसीबत, बिजली-पानी का झेल रहे संकट

प्रयागराज के करेली इलाके के लोगों के समक्ष अक्‍सर बिजली और पानी का संकट रहता है।

करेली के रहने वाले लोग 33 हजार लाइन की केबल को बदलने की काफी समय से मांग कर रहे हैं। अधिकारी बार-बार उनको सिर्फ आश्वासन देते हैं लेकिन केबल नहीं बदली जा रही है। इसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है।

Brijesh SrivastavaMon, 10 May 2021 08:30 AM (IST)

प्रयागराज, जेएनएन। प्रयागराज शहर के करेली क्षेत्र में रहने वाले लोगों के लिए इन दिनों बिजली विभाग की 33 हजार लाइन की केबल मुसीबत बन गई है। आए दिन केबल के जलने से घंटों बिजली गुल रहती है। उमस भरी गर्मी में बिजली कटौती से लोग परेशान होते हैं। ट्यूबवेल भी नहीं चल पाने से पेयजल का भी संकट उन्‍हें झेलना पड़ रहा है। अक्सर केबल के जलने से घंटों आपूर्ति बाधित रहने से लोगों में जबरदस्त आक्रोश है।

केबल बदलने की लगातार की जा रही मांग

करेली के रहने वाले लोग 33 हजार लाइन की केबल को बदलने की काफी समय से मांग कर रहे हैं। अधिकारी बार-बार उनको सिर्फ आश्वासन देते हैं लेकिन केबल नहीं बदली जा रही है। इसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। उनका कहना है कि केबल अगर बदल दी जाए तो समस्या का निस्तारण हो सकती है। वहीं विभागीय अधिकारी इस ओर ध्यान ही नहीं दे रहे हैं।

फाल्ट खोजने में ही लग जाता है काफी वक्त

33 हजार लाइन की केबल भूमिगत है। केबल में कोई भी गड़बड़ी आने पर इसे खाेजना आसान नहीं होता। घंटों यही पता लगाने में लग जाता है कि गड़बड़ी कहां है। जब जानकारी होती है तो वहां मजदूरों से नहीं बल्कि जेसीबी से खोदाई कराई जाती है और फिर मरम्मतीकरण का कार्य शुरू होता है। ऐसे में पूरा दिन बीत जाता है।

पांच दिन में दूसरी बार खराब हुई केबल

करेली में 33 हजार लाइन की केबल पांच दिन में दूसरी बार खराब हुई है। पांच दिन पहले जब केबल खराब हुई थी, तभी भी सैकड़ों घरों में करीब 18 घंटे तक आपूर्ति बाधित थी। रविवार को सुबह एक फिर इसमें गड़बड़ी आई तो इसको बनने में भी लगभग 18 घंटे का समय लग गया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.