11 हजार वोल्टेज का तार टूटकर गिरा, बीस बीघा गेहूं की फसल राख, प्रयागराज में रो रहे किसान

अमिलिया में रविवार सुबह को जर्जर तार टूटने की वजह से किसानों की खड़ी खेती जलकर राख हो गई।

किसानों का कहना है कि हमारे खेतों के ऊपर से ग्यारह हजार वोल्टेज का केबल गया है। हर साल यही होता है कि हम लोग मेहनत करके फसल बोते हैं और बिजली विभाग की घोर लापरवाही की वजह से हम किसानों की मेहनत पर पानी फिर जाता है।

Ankur TripathiSun, 18 Apr 2021 06:44 PM (IST)

प्रयागराज, जेएनएन। जनपद के ग्रामीण क्षेत्र में बिजली विभाग की लापरवाही से जर्जर तार टूटने और शार्ट सर्किट की वजह से रोज कहीं ना कहीं आग लग रही है। सबसे ज्यादा मुसीबत किसानों की है जिनके खेतों में फसल जलकर राख हो रही है और वे देखते ही रह जाते हैं। लालापुर थाना क्षेत्र के महेरा में शनिवार शाम को और अमिलिया में रविवार सुबह को जर्जर तार टूटने की वजह से किसानों की खड़ी खेती जलकर राख हो गई।


खेतों के ऊपर से गुजरे तार बने हैं काल

किसानों का कहना है कि हमारे खेतों के ऊपर से ग्यारह हजार वोल्टेज का केबल गया है। हर साल यही होता है कि हम लोग मेहनत करके फसल बोते हैं और बिजली विभाग की घोर लापरवाही की वजह से हम किसानों की मेहनत पर पानी फिर जाता है। हर जगह ढीले जर्जर तार और कमजोर खंभे खड़े हुए हैं जिसकी वजह से हर साल ही अनहोनी होती है। बहुत से ऐसे ग्रामीण हैं जिनकी तो जान भी जा चुकी है बिजली विभाग की वजह से लेकिन उसके बावजूद भी बिजली विभाग के अधिकारी लापरवाह बने हुए हैं। शनिवार शाम को महेरा गांव में शॉर्ट सर्किट होने की वजह से गेहूं की तकरीबन दस बीघा फसल जलकर राख हो गई।

दमकल के आने तक सारी फसल खाक

रविवार को अमिलिया गांव में तकरीबन दस बीघा गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। सुबह जानकारी होने पर लोगों ने दमकल को सूचना दी।  दमकल ने पहुंच कर आग पर काबू पाया तब तक बहुत ज्यादा गेहूं जल चुका था। किसान राजू मिश्रा, जितेंद्र मिश्रा, शिवानंद मिश्रा निवासी महेरा और अमिलिया के किसान शमीम अहमद, सलीम अकबर,जुनैद खान, दिलेर खान, शाहजहां बेगम, अंसार अली,  मुनव्वर अली, इन सबका कहना है कि साहब जितना मेहनत करें रहेन सब पर बिजली विभाग ने पानी फेर दिया। अब हमरे पास कुछ नहीं है खाएका। अब हम कहां जाई। इस तरह कहकर उनके परिवार वालों का रो रो कर बुरा हाल है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.