मथुरा में वारदात करने वाले गिरोह से जुड़े हो सकते हैं मोबाइल दुकान से चोरी के तार Aligarh News

पुलिस इस बात को लेकर जरूर आश्वस्त है कि घटना को किसी नए गिरोह ने अंजाम दिया है।

बीते दिनों मथुरा में भी इसी तरह चोरी हुई थी। आशंका है कि उसी गिरोह ने अलीगढ़ की दुकानों को निशाना बनाया। पुलिस इस बात को लेकर जरूर आश्वस्त है कि घटना को किसी नए गिरोह ने अंजाम दिया है। इसमें कोई स्थानीय युवक भी शामिल था।

Publish Date:Sat, 28 Nov 2020 08:00 AM (IST) Author: Sandeep Saxena

अलीगढ़, जेएनएन। जनपद अलीगढ़ गांधीपार्क क्षेत्र के रेलवे रोड स्थित मोबाइल की दुकान में पांच लाख की चोरी के मामले में 13 दिन बाद भी पुलिस के हाथ कुछ नहीं लग सका है। पुलिस इस बात को लेकर जरूर आश्वस्त है कि घटना को किसी नए गिरोह ने अंजाम दिया है। इसमें कोई स्थानीय युवक भी शामिल था। बीते दिनों मथुरा में भी इसी तरह चोरी हुई थी। आशंका है कि उसी गिरोह ने अलीगढ़ की दुकानों को निशाना बनाया। पुलिस की टीम मथुरा भी भेजी गई थी। वहां कुछ जानकारी मिली है, जिसके आधार पर चोरों की तलाश की जा रही है। 

ऐसे हुई थी चोरी

गांधीपार्क क्षेत्र के ब्रह्मणपुरी निवासी मनीष वार्ष्णेय की रेलवे रोड स्थित दुकान का दीपावली की रात बदमाशों ने शटर तोड़ दिया था। यहां से 47 स्मार्टफोन चोरी हुए थे, जिनकी कीमत चार लाख 96 हजार रुपये है। वहीं 50 हजार की नकदी गल्ला समेत ले गए। बदमाशों ने बन्नादेवी क्षेत्र की भी दो दुकानों व देहलीगेट की एक दुकान को निशाना बनाया था, मगर असफल रहे। दो दुकानों के बाहर लगे सीसीटीवी में बदमाश कैद भी हुए। लेकिन, पहचान नहीं हो पाई। पुलिस ने कार को ट्रेस किया तो पता चला कि बदमाशों ने फर्जी नंबर प्लेट लगा रखी थी। गांधीपार्क थाना के एसएसआइ नरेश कुमार ने बताया कि मथुरा में भी इसी तरह दुकानों के ताले तोड़कर चोरी हुई थी। पुलिस ने मथुरा से मदद ली थी। एक टीम वहां भेजी गई थी। लेकिन कोई सुराग नहीं मिला है। जीटी रोड के सीसीटीवी भी खंगाले हैं। बदमाशों की पहचान की जा रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.