कोरोना से निबटने को VHP कार्यकर्ता आए आगे, बोले आप जानकारी दें, हम कराएंगे इलाज Aligarh News

घबराकर लोग अस्पताल की ओर भाग रहे हैं। अस्पताल की हालत ऐसी हो गई है कि वहां बेड नहीं है।

इस समय कोरोना का कहर है सभी के मन में दहशत बैठी हुई है तनिक भी बीमार पड़ने पर तमाम तरह के सवाल उठने लगते हैं और आशंकाओं के बादल छाने लगते हैं। इससे घबराकर लोग अस्पताल की ओर भाग रहे हैं।

Sandeep Kumar SaxenaFri, 23 Apr 2021 03:53 PM (IST)

अलीगढ़, जेएनएन। विश्व हिंदू परिषद ने कोरोना वायरस को देखते प्रभावी कदम उठाया है। विहिप की तरफ से एक फार्म दिया जा रहा है, जिसे भरकर आप अपना इलाज करा सकते हैं। अस्‍पतालों में इलाज नहीं मिल पा रहा है। मरीज सड़कों पर हैं, ऐसे स्थिति में अफरा-तफरी का माहौल है। लोग घर में भी डरे हुए हैं। हालांकि उन्होंने सभी को धैर्य बंधाया। इस समय घबराने की जरूरत नहीं है।

सकारात्मक बातें सोचिए और घबराने की जरूरत नहीं 

 विहिप के अध्यक्ष आलोक याज्ञनिक ने बताया कि इस समय कोरोना का कहर है, सभी के मन में दहशत बैठी हुई है, तनिक भी बीमार पड़ने पर तमाम तरह के सवाल उठने लगते हैं और आशंकाओं के बादल छाने लगते हैं। इससे घबराकर लोग अस्पताल की ओर भाग रहे हैं।  अस्पताल की हालत ऐसी हो गई है कि वहां बेड नहीं है। समुचित इलाज नहीं मिल पा रहा है। मरीज सड़कों पर हैं, ऐसे स्थिति में अफरा-तफरी का माहौल है। लोग घर में भी डरे हुए हैं। हालांकि उन्होंने सभी को धैर्य बंधाया। इस समय घबराने की जरूरत नहीं है। यदि थोड़ी सी तबीयत खराब हो जाने पर आप अधिक घबराने लगते हैं तो आपका नर्वस सिस्टम काम नहीं करता है। आप पर बीमारी और अधिक हावी होने लगती है। इसलिए तबीयत खराब होने पर सकारात्मक बातें सोचिए और घबराइए ना। आप की तबीयत सामान्य बनी रहेगी। आलोक  ने कहा कि विश्व हिंदू परिषद मरीजों की दवाएं और सलाह के लिए कदम उठा रहा है । वह एक फार्म भरकर सभी तक पहुंचाने का काम कर रहा है, जिस फार्म में आप सभी अपना नाम पता और विवरण भर दें।कहीं पर इलाज करा रहे हो तो उस दवा का पर्चा भी हो, उसे विश्व हिंदू परिषद के अचलताल कार्यालय या फिर व्हाट्सएप पर भेज दें। 

अधिक धैर्य रखने की जरूरत 

विहिप ने डाक्टरों का एक पैनल बनाया हुआ है, उन डाक्टरों से  उचित सलाह लेकर आपको इलाज की समुचित व्यवस्था कराई जाएगी। आलोक ने बताया कि इस समय तमाम बीमारियां निकल कर सामने आती हैं।बुखार, खासी जुखाम, दिमागी बुखार आदि तमाम तरह की समस्याएं होती हैं। क्योंकि होली के बाद मौसम में तेजी से परिवर्तन आता है। ठंडी से एकदम गर्मी शुरू हो जाती है। ऐसे समय में शरीर के वातावरण में अनुकूल परिवर्तित नहीं हो पाता है तो बीमारियों की गिरफ्त में लोग आने लगते हैं। इसलिए सर्दी खासी जुखाम से बहुत अधिक परेशान होने की जरूरत नहीं है। यदि आपको बहुत ज्यादा दिक्कत होती है समस्या होती है तब आप तुरंत चिकित्सीय इलाज लीजिए, लेकिन हल्की सी तबीयत खराब होने पर अगर आप परेशान हो जाते हैं तो आपका नर्वस सिस्टम काम करना बंद कर देता है फिर आपका ब्लड प्रेशर हाई हो सकता है लो हो सकता है। यदि आप शुगर के मरीज हैं तो आपको दिक्कत बढ़ सकती है। इसलिए इस समय सबसे अधिक धैर्य रखने की जरूरत है,  उन्होंने कहा कि विश्व हिंदू परिषद का प्रत्येक कार्यकर्ता आपकी मदद के लिए तैयार है ।आप इस फार्म को भरकर सिर्फ उन तक पहुंचा दीजिये।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.