बूंदाबांदी से बदला मौसम का मिजाज, बढ़ी ठंड Aligarh news

सर्द हवाओं ने लोगों को घरों में दुबकने को मजबूर कर दिया।

पिसावा में गुरुवार को हुई बूंदाबादी के बाद ठिठुरन बढ़ गई है। लोगों ने घरों में अलाबा जलाने शुरू कर दिए।बुधवार को दिन भर बादलों के साथ-साथ हल्की धुंध भी छाई रही थी जिसके फलस्वरूप गुरुवार सुबह से ही सर्द हवाओं का चलना शुरू हो गया।

Publish Date:Thu, 26 Nov 2020 10:02 AM (IST) Author: Anil Kushwaha

अलीगढ़, जेएनएन : गुरुवार की सुबह ठिठुरन भरी रही। आसमान में बादल घिर आए। देहाती इलाकों में हल्की बूंदाबांदी भी हुई। इससे लोगों की कंपकंपी छूट कई। इधर, शहरी क्षेत्र में बूंदाबांदी तो नहीं हुई, लेकिन बदले मौसम का असर जरूर दिखाई दिया। लोग गर्म कपड़ों में ढके नजर आए, आंखें भी देर से ही खुलीं थी। रेहड़ी, पटरी वालाेें ने अलाव जलाए हुए थे। सूर्यदेव ने 9:30 बजे तक दर्शन नहीं दिए।

मौसम में बढ़ी तल्‍खी

शीत ऋतु का यह मौसम तल्ख होता जा रहा है। आने वाले दिनों में कड़ाके की ठंड पड़ने के पूरे आसार हैं। गुरुवार को यह महसूस भी हुआ। लोग नींद से जागे तो आसमान में बादल छाए देखे। सूर्यदेव कहीं नजर ही नहीं आए। इगलास व पिसावा क्षेत्र में सुबह आठ बजे हल्की बूंदाबांदी हुई। बूंदाबांदी तेज बारिश का रूप न ले ले, इस आशंका से ग्रामीण अपने काम निपटाने में जुट गए। बूंदाबांदी थमने के बाद ही लोग घरों से निकले। घर, घेर और खेतों पर अलाव जलाए गए।  शहर में भी बदले मौसम का असर रहा। सड़कों पर वाहन रेंगते नजर आए। खासकर दोपहिया वाहन चालक बदले मौसम से परेशान हुए। जो बच्चे स्कूल जा रहे थे, उन्हें अभिभावकों ने रोक लिया। मौसम का असर तापमान पर भी पड़ा है। न्यूनतम तापमान एक डिग्री लुढ़क कर 11 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। अधिकतम तापमान में चार डिग्री की गिरावट दर्ज की गई। गुरुवार को अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि तापमान में अभी और गिरावट आएगी। बारिश होने के भी आसार हैं। 

निगम ने जलवाए अलाव

नगर निगम ने बुधवार रात जगह-जगह अलाव जलवाए। शेल्टर होम में भी अलाव की व्यवस्था कराई गई। नगर आयुक्त प्रेम रंजन सिंह ने बताया कि नगर निगम की बरौला बाईपास स्थित नंदी गोशाला, आगरा रोड स्थित कान्हा गोशाला के अलावा रेलवे पार्सल घर, गांधीपार्क बस स्टेंड, गांधीपार्क शेल्टर होम, भुजपुरा शेल्टर होम, गूलर रोड शेल्टर होम व सारसौल बस स्टेंड पर अलाव जलाने की व्यवस्था पहले चरण में शुरू की गई। शीत लहर की संभावनाओं को देखते हुए सार्वजनिक स्थलों पर अलाव जलाने की व्यवस्था की जा रही है। लकड़ी की मात्रा की प्रतिदिन समीक्षा की जाएगी।

हल्की बारिश से फसलों को नुकसान नहीं

उप कृषि निदेशक (शोध) डॉ. वीके सचान ने बताया कि ये मौसम रबी की फसलों के लिए बेहतर है। हल्की बारिश से फसलों को कोई नुकसान नहीं होगा। मिट्टी में नमी रहने से सिंचाई की आवश्यकता कम पड़ेगी। फिर भी किसान समय-समय पर कृषि अधिकारियों से सलाह लेते रहें।

ग्रामीण क्षेत्रों में भी बूंदाबांदी

पिसावा में गुरुवार को हुई बूंदाबादी के बाद ठिठुरन बढ़ गई है। लोगों ने घरों में अलाबा जलाने शुरू कर दिए।बुधवार को दिन भर बादलों के साथ-साथ हल्की धुंध भी छाई रही थी, जिसके फलस्वरूप गुरुवार सुबह से ही सर्द हवाओं का चलना शुरू हो गया। सर्द हवाओं ने लोगों को घरों में दुबकने को मजबूर कर दिया। क्षेत्र में धीरे धीरे ठंड अपने पैर पसार रही थी लेकिन इस बूंदाबांदी नेे ठंड की गति को बढा दी है। हल्की धुंध व बूंदाबादी के चलते सड़कों पर वाहन भी लाइट जलाकर रेंगते नजर आए। इस दौरान सर्द हवा के साथ-साथ बूंदाबादी ने नौकरी आदि के काम से सवेरे ही निकलने बाले बाइक चालकों को सबसे ज्यादा परेशान कर दिया।वहीं दूसरी ओर बाजार में भी ग्राहक व दुकानदार अलाव के लिए इधर उधर इंतजाम करते नजर आए। इसके साथ ही क्षेत्र के जिन किसानों के गेहूं के खेतों में भूड़ भरी जानी है वो किसान भी बूंदाबादी से काफी खुश नजर आ रहे हैं। इस ठंड की पहली बारिश का लोगों ने गर्म कपड़े निकाल कर स्वागत किया। पिसावा इलाके में यह बारिश भले ही कम रही हो लेकिन इससे किसानों को अपनी फसलों की अच्छी पैदावार होने की उम्मीद दिखाई दी है।लेकिन यदि यही बारिश अधिक होती है तो गेहूं की बुबाई के लिए लेट हुए किसानों को इससे और भी लेट होने की संभावना है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.