AMU में फिर भड़काऊ बयान: पैगम्बर का अपमान करने वालों का सिर कलम करने की धमकी

एआइएमआइएम नेता फरहान जुबेरी प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए
Publish Date:Sat, 31 Oct 2020 03:48 PM (IST) Author: Dharmendra Pandey

अलीगढ़, जेएनएन। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों के धर्म विशेष के खिलाफ बयान के बाद अब आक्रोश बढ़ता जा रहा है। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में इसको लेकर एक बार फिर माहौल बिगड़ गया है। एएमयू में विरोध-प्रदर्शन के दौरान पैगम्बर का अपमान करने वालों का सिर कलम करने की धमकी दी गई है। इसके साथ ही एएमयू कैम्पस में छात्रों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और फ्रांस के सामान का इस्तेमाल न करने का एलान किया।

एएमयू में फ्रांस के खिलाफ दो दिन पहले छात्रों के विरोध प्रदर्शन का एक विवादित वीडियो सामने आया है। इसमें एएमयू छात्र व एआइएमआइएम नेता फरहान जुबेरी ने प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए कहा की अगर कोई मुसलमानों का अपमान करेगा तो उसका सिर कलम कर देंगे। छात्र नेता ने कहा कि अगर कोई पैगम्बर मुहम्मद की तरफ एक उंगली भी उठाएगा तो हम उसकी उंगली तोड़ देंगे और अगर कोई आंख उठा कर देखेगा तो उसकी आंखें निकाल लेंगे। अगर कोई उनका अपमान करेगा तो उसका सर कलम कर देंगे। उन्होंने कहा कि हमारी बुनियाद कलमे से है और कलमा है- ला इला हा, इल्लालह मुहम्मदर रसूल्लाह। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों कहते हैं कि इमारत पर जो कार्टून दिखा गया है वह अभिव्यक्ति की आजादी है। उन्होंने कहा कि फ्रांस में 2011 से लगातार हमारे नबी की तस्वीर को गलत तरीके से दिखाया जा रहा है। हम इसकी निंंदा करते हैं। हम मजम्मत करते हैं फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों की। जिन्होंने पोस्टर को वहां की सरकारी इमारत पर दिखाया। हमें शर्म आती है कि हमारे लिए ऐसी चीजें की जाती हैं और हमारे नबी को ऐसी जगहों पर दिखाया जा रहा है। फ्रांस में इस्लामीफोविया अपने चरम पर है। वहां पर हमारी मां-बहनों को हिजाब नहीं पहनने दिया जाता है। फ्रांस की इमैन्युअल मैक्रों सरकार इस्लाम और मुसलमान से डरती है।  

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.