Ravan Effigy Stolen In Aligarh: अलीगढ़ में रावण का पुतला गायब, टेंशन में प्रशासन, विधायक नाराज

अलीगढ़ में दशहरा पर दहन के लिए तैयार किया रावण का पुतला गायब हो गया है।
Publish Date:Sun, 25 Oct 2020 04:27 PM (IST) Author: Sandeep Saxena

अलीगढ़, जेएनएन। उत्‍तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ में दशहरा पर दहन के लिए तैयार किया रावण का पुतला गायब हो गया है। शाम को रामलीला मैदान में पुतले का दहन होना है। इसकी तैयारी पूरी हो गई है। आसपास के लोगों में जश्न का माहौल है। खिलौनों की दुकानें भी सज गई हैं। दोपहर में जब पुतला गायब होने की जानकारी हुई तो आयोजकों के होश उड़ गए। कुछ देर बाद ही शहर विधायक संजीव राजा, कोल विधायक अनिल पराशर और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गए। सभी टेंशन में हैं। अब दूसरे पुतले की वैकल्पिक व्यवस्था करने में प्रशासन जुट गया है। नया पुतला तैयार  किया जा रहा है। रावण का पुतला गायब होने से लोगों में बेहद नाराजगी है। 

रावण दहन पर पुलिस की एंंट्री  से गुस्साए कमेटी पदाधिकारी 

अलीगढ़ केे अचलताल रामलीला मैदान में रावण के पुतले के दहन से पहले ही पुलिस की एंट्री हो गई थी। गांधीपार्क पुलिस ने कमेटी के मंत्री अरविंद अग्रवाल को थाने बुलाकर अनुमति मांग ली। कहा, बिना अनुमति के पुतले को दहन नहीं करने देंगे। इस पर वो हतप्रभ रह गए। रामलीला गोशाला कमेटी के पदाधिकारियों तक पहुंच गई और काफी संख्या में वो रामलीला मैदान में एकत्र हो गए। मामला सब सही हो गया, लेकिन रविवार को पुतला गायब होने से लोगों में गुस्‍सा बढ़ गया।

महोत्सव संयोजक विमल अग्रवाल ने कहा कि दो महीने पहले अनुमति ली थी। प्रतिदिन मीडिया में खबर आ रही थीं कि अचलताल पर पुतला दहन होगा।  सीएम ने साफ निर्देश दिया है कि नियमों का पालन करते हुए त्योहार मनाने दिया जाए, क्या पुलिस सीएम के आदेश को भी नहीं मानेगी। रावण का पुतला अचलताल पर ही दहन होगा। कमेटी के मंत्री को थाने बुलाकर अपमान किया गया है।

कांग्रेसी नेता राजीव लीडर ने कहा कि वह भी गांधीपार्क थाने पहुंचे थे। यदि त्योहार पर किसी भी तरह की रोक लगाई गई तो उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पुलिस की बात का एडीएम सिटी राकेश मालपाणि ने खंडन कर दिया। कहा, रावण दहन रामलीला मैदान में होगा। रविवार को पुतला गायब हो गया। इसको लेकर  शहर विधायक संजीव राजा, कोल विधायक अनिल पराशर, विधायक राजकुमार सहयोगी और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गए। इन सब नेे नाराजगी व्‍‍‍यक्‍त की।  

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.