चाइनीज मांझे में उलझकर घंटों तड़पती रही दुर्लभ चील, घंटों मशक्‍कत के बाद बची जान Aligarh news

चाइनीज मांझा आमजन ही नहीं पक्षियों के लिए भी जानलेवा हो गया है। बुधवार को दीवानी कचहरी के पास दुर्लभ प्रजाति की चील 50 फीट ऊंचे यूकेलिप्टिस के पेड़ पर चाइनीस मांझा में उलझ गई। बचाव के लिए आवाज निकालने लगी।

Anil KushwahaThu, 22 Jul 2021 06:26 AM (IST)
दुर्लभ प्रजाति की चील 50 फीट ऊंचे यूकेलिप्टिस के पेड़ पर चाइनीस मांझा में उलझ गई।

अलीगढ़, जेएनएन ।  चाइनीज मांझा आमजन ही नहीं, पक्षियों के लिए भी जानलेवा हो गया है। बुधवार को दीवानी कचहरी के पास दुर्लभ प्रजाति की चील 50 फीट ऊंचे यूकेलिप्टिस के पेड़ पर चाइनीस मांझा में उलझ गई। बचाव के लिए आवाज निकालने लगी। ऐसे में समाजसेवी, नगर निगम, स्थानीय वकीलों व वन विभाग ने उसे बचाने के लिए करीब पांच घंटे तक मशक्कत की। काफी प्रयास के बाद चील को बचाया जा सका।

दीवानी कचहरी के गेट नंबर एक के पास की घटना

दीवानी कचहरी के गेट नंबर एक के पास यूकेलिप्टिस के पेड़ पर फंसी पतंग के मांझे में उलझी चील घायल हो गई थी। बचने के लिए तड़पने और जोर-जोर से चीख रही थी| क्रांति फाउंडेशन के सचिव फेमीदा मीडिया कर्मी प्रदीप सक्सेना को दी| सक्सेना ने सिविल कोर्ट पहुंचकर डीएफओ को फोनकर मदद मांगी। उन्होंने तुरंत एक कर्मचारी को भेजा, जिसने पेड़ की ऊंचाई देख हाथ खड़े कर दिए। सूचना पर नगर आयुक्त ने एयरलिफ्ट क्रेन सिविल कोर्ट भेजी, वह भी छोटी रह गई। अधिवक्ता अशोक यादव, पितांबर सिंह, दुर्गेश, अभिनेश और अंकुश कुमार एडवोकेट इस रेस्क्यू में शामिल हो गए। काफी विचार-विमर्श के बाद प्रोफेशनल पतंगबाजों को बुलाया गया। पतंग बाज श्रेष्ठ राव अपनी टीम के साथ दीवानी परिसर में पहुंचे और कई पतंगे उड़ाई| पतंग से फंसी चील की डोर को काट दिया गया। चील कुछ फीट नीचे गिरने के बाद आसमान में उड़ गई| चील की जान बचाने के बाद सभी ने राहत की सांस ली|

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.