Prisoner Commits Suicide In Aligarh jail : पेट खराब बताकर निकला ओमवीर, अंधेरे में बैरक के पीछे पहुंचा, फिर की खुदकुशी

खैर के बंदी ओमवीर की खुदकुशी की घटना के बाद जिला कारागार में अन्य बंदी गमगीन हैं। जेल प्रशासन ने बंदियों से लंबी पूछताछ की। लेकिन किसी को भी घटना का अहसास तक नहीं हो सका। हालांकि ओमवीर ने रात में ही खुदकुशी की योजना ली थी।

Sandeep Kumar SaxenaTue, 23 Nov 2021 08:26 AM (IST)
छह बजे अंधेरे का फायदा उठाकर ओमवीर बैरक के पीछे चला गया और खुदकुशी कर ली।

अलीगढ़, जागरण संवाददाता। खैर के बंदी ओमवीर की खुदकुशी की घटना के बाद जिला कारागार में अन्य बंदी गमगीन हैं। जेल प्रशासन ने बंदियों से लंबी पूछताछ की। लेकिन, किसी को भी घटना का अहसास तक नहीं हो सका। हालांकि ओमवीर ने रात में ही खुदकुशी की योजना ली थी। पुलिस के मुताबिक, सुबह जब गिनती हो रही थी, तो ओमवीर ने पेट खराब (दर्द होने) का बहाना बनाकर शौच जाने को कहा, जिसके चलते उसकी गिनती जल्दी हो गई। करीब छह बजे अंधेरे का फायदा उठाकर ओमवीर बैरक के पीछे चला गया और खुदकुशी कर ली।

बंदी ने बनाया बहाना

जिला कारागार में 28 बैरक हैं। ओमवीर जिस बैरक में था, वह बुजुर्ग बैरक है और सबसे सुरक्षित मानी जाती है। लेकिन, ओमवीर खुदकुशी के बाद अपने पीछे कई अनसुलझे सवाल भी छोड़ गया है। पुलिस के मुताबिक, उसने मानसिक तनाव में आकर खुदकुशी की है। इसके कई कारण सामने आ रहे हैं। पहला, चूंकि ओमवीर चालक था तो उसे नशे की लत लग गई थी और जेल में लंबे समय से उसका नशा बंद हो गया था। दूसरा, जब से वह जेल में आया, तब से परिवार ने कोई संपर्क नहीं किया, बल्कि जेल जाने के दौरान उसे बचाने की भी कोशिश नहीं की। तीसरा, 12 दिसंबर को ओमवीर की भतीजी आशू की शादी थी। लेकिन, स्वजन ने ओमवीर को इसकी जानकारी भी नहीं थी। इस संबंध में स्वजन का कहना है कि शादी से एक दिन पहले ही ओमवीर को जमानत दिलाने पर विचार किया जा रहा था। बात न करने के सवाल पर चुप्पी साध ली।

अक्सर रात को जागता था ओमवीर

अन्य बंदियों का कहना है कि ओमवीर अक्सर रात में एक-डेढ़ बजे जागता था। कुछ देर बैठकर बीड़ी पीता था और फिर सो जाता था। लेकिन, किसी ने उसने कोई ऐसी बात नहीं की, जिससे लगे कि वह खुदकुशी कर लेगा।

लोगों ने कर दी थी ओमवीर की पिटाई

दो माह पहले ओमवीर खैर बस अड्डे पर एक चाय के खोखे के बाहर साइकिल व सिलिंडर चोरी करते रंगे हाथ दबोचा गया था। इस दौरान लोगों ने ओमवीर की पिटाई भी कर दी थी। पुलिस ने जेल भेजा। लेकिन, दो माह बाद भी स्वजन ने जमानत के लिए प्रयास नहीं किए। इससे पहले भी शांतिभंग में ओमवीर जेल गया था। लेकिन, तब जमानत पर बाहर आ गया था।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.