Police Fight Case With Doctor : अलीगढ़ में डाक्टरों की हड़ताल जारी, पुलिस को 24 घंटे का अल्टीमेटम, नहीं तो होगा ये कुछ ऐसा

शहर के केके हास्पिटल में हुआ विवाद शनिवार को और तूल पकड़ गया।

शहर के केके हास्पिटल में हुआ विवाद शनिवार को और तूल पकड़ गया। पुलिस द्वारा डा. सागर वाष्र्णेय से की गई मारपीट के विरोध में लामबंद हुए डाक्टरों ने हड़ताल कर दी। निजी अस्पतालों में ओपीडी ठप है। केवल इमरजेंसी सुविधा है।

Sandeep kumar SaxenaSun, 28 Feb 2021 10:08 AM (IST)

अलीगढ़, जेएनएन। शहर के केके हास्पिटल में हुआ विवाद शनिवार को और तूल पकड़ गया। पुलिस द्वारा डा. सागर वाष्र्णेय से की गई मारपीट के विरोध में लामबंद हुए डाक्टरों ने हड़ताल कर दी। निजी अस्पतालों में ओपीडी ठप है। केवल इमरजेंसी सुविधा है। कई घंटे डॉक्टर हास्पिटल के सामने रामघाट रोड पर धरने पर बैठे रहे। उनकी मांग है कि इंस्पेक्टर क्वार्सी छोटेलाल को निलंबित किया जाए। शाम को आइजी से हुई मुलाकात में डाक्टरों ने पूरे मामले की जांच के लिए 24 घंटे का समय दिया। इसी शर्त पर डाक्टरों ने जाम -प्रदर्शन खत्म किया है। आगे की रणनीति के लिए आइएमए ने रविवार को बैठक बुलाई है। 

थानाध्यक्ष का निलंबन न होने पर नाराजगी जताई

शहर भर के डाक्टर शनिवार सुबह 11 बजे केके हास्पिटल में आइएमए व पीडीए की अगुवाई में एकत्रित हुए। सभी ने क्वार्सी थानाध्यक्ष का निलंबन न होने पर नाराजगी जताई। थानाध्यक्ष पर काई की मांग को लेकर डाक्टरों ने हड़ताल का ऐलान करते हुए धरना-प्रदर्शन का एलान कर दिया। इसके बाद दोपहर 12 बजे आक्रोशित डाक्टरों ने अस्पताल के सामने ही रोड पर जाम लगा दिया। धूप से बचने के लिए रोड के दोनों साइड में टेंट भी लगा दिया। इससे राहगीरों व वाहन चालकों को काफी परेशानी हुई। पुलिस के समझाने पर भी डाक्टर नहीं माने। डाक्टरों ने पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। कहा, पुलिस का डंडा नहीं चलेगा। एसपी सिटी कुलदीप सिंह गुनावत, एसपी क्राइम डा. अरिवंद कुमार, सीओ तृतीय अनिल समानिया भी डाक्टरों को समझाने पहुंचे। एसीएम द्वितीय रंजीत सिंह व अन्य प्रशासन अफसर भी आए, मगर डाक्टर जाम खोलने को राजी नहीं हुए। कोल विधायक अनिल पाराशर भी आए, उन्होंने भी डाक्टरों को उचित कार्रवाई कराने का भरोसा भी दिया, मगर डाक्टर जिद पर अड़े रहे। ऐसे में पुलिस ने मीनाक्षी पुलिस की ओर से आने वाले वाहनों को किशनपुर तिराहे से मैरिस रोड व क्वार्सी की ओर से आने वाले वाहनों को केला नगर चौराहे की ओर डायवर्ड कर दिया। शाम करीब पांच बजे डाक्टरों ने जाम व प्रदर्शन खत्म किया। दूसरी ओर क्षत्रिय महासभा ने मरीज के तीमारदारों के साथ मारपीट करने का मामला दर्ज करने और डाक्टर की गिरफ्तारी की मांग को लेकर एडीए के सामने करीब तीन घंटे जाम लगाया, जो कि एसपी सिटी कुलदीप ङ्क्षसह के आश्वासन पर खोला गया। इस मामले में पुलिस ने अब तक दो मामले दर्ज किए हैैं। 

यह था मामला 

रामघाट रोड स्थित केके हास्पिटल में शुक्रवार शाम को इलाज के खर्चे को लेकर तीमारदारों और डाक्टर, स्टाफ में मारपीट हो गई थी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने हास्पिटल के संचालक केके वष्र्णेय के बेटे डा. सागर वष्र्णेय व दूसरे पक्ष के चार लोगों को हिरासत में ले लिया था। थाने ले जाते वक्त डा. सागर से मारपीट भी की थी। शहर के डाक्टरों की नाराजगी देखते हुए पुलिस ने रात को ही डा. सागर को छोड़ दिया था। एसएसपी ने एक सिपाही को निलंबित कर दिया था। एक होमगार्ड हटा दिया था।

हड़ताल से मरीज हुए परेशान

डाक्टरों के हड़ताल पर चले जाने से तमाम हास्पिटल व क्लीनिक पर ताले लटक गए। ओपीडी सेवाएं पूर्ण रूप से ठप हो गईं। इमरजेंसी में भी बेहद जरूरतमंद मरीजों को भर्ती किया गया। इससे मरीज व उनकी तीमारदार यहां से वहां भटकते नजर आए। काफी मरीजों को पता करके देहात के अस्पतालों में मरीजों को ले जाना पड़ा 

आइजी से मिला प्रतिनिधि मंडल 

विधायक अनिल पाराशर ने इस मामले में आइजी से वार्ता की। आइजी के बुलावे पर आइएमए के पांच सदस्यी प्रतिनिधि मंडल ने उनके कार्यालय पहुंचकर वार्ता की। इसमें विधायक के अलावा आइएमए अध्यक्ष डा. विपिन गुप्ता, सचिव डा. भरत वाष्र्णेय, कोषाध्यक्ष डा.अभिषेक ङ्क्षसह, डा. केके वाष्र्णेय आदि शामिल हुए। आइजी ने 24 घंटे में जांच कराकर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया। आइजी के आश्वासन पर डाक्टर जाम व धरना खोलने पर सहमत हुए। वापस लौटे तो धरना चल रहा था। एसपी सिटी व एसपी क्राइम ने डाक्टरों को आइजी से वार्ता का हवाला देते हुए प्रदर्शन खत्म करने को कहा। इसे लेकर फिर डाक्टरों की पुलिस से नोकझोंक शुरू हो गई। बाद में अन्य डाक्टरों के आने पर धरना खत्म कर दिया गया। आइजी ने आश्वस्त किया है कि पूरी तरह निष्पक्ष जांच कराई जाएगी। डाक्टरों से सीसीटीवी फुटेज भी दिखाने को कहा। जो भी दोषी होगा, उस पर कार्रवाई होगी। डाक्टरों की मांग पर सीओ सिविल लाइन अनिल समानिया को जांच के निर्देश दिए।

ये भी डाक्टरों के समर्थन में

डाक्टरों के समर्थन में अलीगढ़ केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष शैलेंद्र सिंह टिल्लू भी साथियों के साथ पहुंचे। रिटेलर्स केमिक्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के महामंत्री उमेश श्रीवास्तव ने ङ्क्षनदा की। आयुष चिकित्सकों के संगठन नीमा की बैठक में घटना की ङ्क्षनदा करते हुए दोषी पुलिस अधिकारी के निलंबन की मांग की गई। 

अभी हड़ताल जारी रहेगी। पुलिस को कार्रवाई के लिए 24 घंटे के समय दिया गया है। रविवार सुबह केके हास्पिटल में फिर बैठक होगी, इसमें पुलिस की कार्रवाई के आधार पर आगे का निर्णय लिया जाएगा। 

-डा. जयंत शर्मा, सचिव आइमए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.