PM Modi Aligarh Visit : पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, आधुनिक शिक्षा का बड़ा केंद्र होगा विश्वविद्यालय

ताला-तालीम के लिए पहचाने जाने वाले अलीगढ़ की अब जल्द ही रक्षा क्षेत्र में भी धमक होगी। राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय से डिफेंस स्टडी (सैन्य विज्ञान) की जा सकेगी। मंगलवार को इसकी घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की।

Sandeep Kumar SaxenaWed, 15 Sep 2021 09:54 AM (IST)
राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय से डिफेंस स्टडी (सैन्य विज्ञान) की पढ़ाई की जा सकेगी।

अलीगढ़, सुरजीत पुंढीर। ताला-तालीम के लिए पहचाने जाने वाले अलीगढ़ की अब जल्द ही रक्षा क्षेत्र में भी धमक होगी। राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय से डिफेंस स्टडी (सैन्य विज्ञान) की पढ़ाई की जा सकेगी। मंगलवार को इसकी घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की। शिलान्यास अवसर पर उन्होंने कहा कि यह विश्वविद्यालय आधुनिक शिक्षा का सबसे बड़ा केंद्र बनेगा। देश में डिफेंस से जुड़ी पढ़ाई और डिफेंस मैन्युफेक्चरिंग से जुड़ी तकनीक व मैनपावर बनाने का सेंटर भी बनेगा। आधुनिकता की ओर बढ़ते भारत को डिफेंस से जुड़ी पढ़ाई नई गति देगी। प्रदेश सरकार ने वर्ष 2023 तक इस विश्वविद्यालय के भवनों का निर्माण पूरा करने का लक्ष्य तय किया है।

युवाओं को रोजगार भी मिलेंगे

पीएम ने कहा कि डिफेंस कारिडोर युवाओं को रोजगार के सुनहरे अवसर देगा। अलीगढ़ के साथ ही प्रदेश के 40 हजार से अधिक युवाओं को यहां रोजगार मिलेगा। रक्षा हथियारों के कलपुर्जे बनेंगे। राज्य विश्वविद्यालय से डिफेंस स्टडी करने वालों को भी कारिडोर में रोजगार के अवसर मिलेंगे। डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने भी कहा कि अलीगढ़ ही नहीं पूरी पश्चिमी यूपी के लिए विश्वविद्यालय की आधारशिला गौरव की बात है। अब अलीगढ़ में युवाओं को गुणवत्तापरक शिक्षा के साथ रोजगार भी मिलेंगे।

राज्य विश्वविद्यालय के सियासी फायदे भी

नया राज्य विश्वविद्यालय शिक्षा के क्षेत्र में तो नए आयाम स्थापित करेगा ही, साथ ही भाजपा के लिए आगामी 2022 के चुनावों में भी सियासी फायदा देगा। इस विश्वविद्यालय की स्थापना के पीछे कई मायने निकाले जा रहे हैं। राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि भाजपा एएमयू के मुकाबले में एक नए विश्वविद्यालय की स्थापना कर रही है। इससे हिंदुत्व की धार तो मजबूत होगी थी, साथ ही जाट समाज के नाम देने से पिछड़ों का भी सरकार के प्रति भरोसा बढ़ेगा। यह प्रोजेक्ट अलीगढ़ के विकास में भी मील का पत्थर साबित होगा।

गुजरात के श्याम जी को किया याद

पीएम ने भाषण के दौरान स्वतंत्रता सेनानी गुजरात के श्यामजी कृष्ण वर्मा को भी याद किया। उन्होंने कहा कि प्रथम विश्व युद्ध के समय राजा महेंद्र प्रताप विशेष तौर पर श्याम जी कृष्ण वर्मा से मिलने के लिए यूरोप गए थे। उसी बैठक में जो दिशा तय हुई। उसका परिणाम अफगानिस्तान में भारत की पहली निर्वासित सरकार के तौर पर देखने को मिला। इस सरकार का नेतृत्व राजा महेंद्र प्रताप सिंह ने ही किया था। गुजरात का मुख्यमंत्री रहते मुझे श्यामजी कृष्ण वर्मा की अस्थियों को 73 साल बाद भारत लाने में सफलता मिली थी। कच्छ के मांडवी में श्यामजी कृष्ण वर्मा का एक बहुत ही प्रेरक स्मारक है, जहां उनके अस्थि कलश रखे हैं। प्रधानमंत्री के नाते, मुझे फिर से एक बार सौभाग्य मिला है कि राजा महेंद्र प्रताप के नाम पर बन रही यूनिवॢसटी का शिलान्यास कर रहा हूं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.