विपक्ष हमेशा मंदिर के रहा खिलाफ...निर्माण में भी पैदा कर रहा रुकावट Aligarh News

राम मंदिर की जमीन को लेकर विवाद होने के बाद से भाजपा और हिंदुत्ववादी नेताओं में नाराजगी है। उनका कहना है कि सपा और कांग्रेस प्रभु श्रीराम के मंदिर निर्माण के हमेशा खिलाफ रहे हैं। मुलायम सिंह के कार्यकाल में ही राम भक्तों पर गोली चलाई गई।

Sandeep Kumar SaxenaSat, 19 Jun 2021 03:22 PM (IST)
राम मंदिर की जमीन को लेकर भाजपा और हिंदुत्ववादी नेताओं में नाराजगी है।

अलीगढ़, जेएनएन।  राम मंदिर की जमीन को लेकर विवाद होने के बाद से भाजपा और हिंदुत्ववादी नेताओं में नाराजगी है। उनका कहना है कि सपा और कांग्रेस प्रभु श्रीराम के मंदिर निर्माण के हमेशा खिलाफ रहे हैं। मुलायम सिंह के कार्यकाल में ही राम भक्तों पर गोली चलाई गई। अब मंदिर के निर्माण कार्य में उनके पुत्र और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव रोड़ा अटकाना चाहते हैं। विपक्ष ने हमेशा राम मंदिर निर्माण को लेकर रोड़ा अटकाने का काम किया है।

सपा शासन में रामभक्‍तों पर गोलियां  चलाईं गईं

अयोध्या में राम मंदिर की जमीन के विवाद हो लेकर विपक्ष लगातार हमला कर रहा है। कांग्रेस तो धरना-प्रदर्शन पर उतर आई। उधर, पूर्व मुख्यमंत्री और सपा के प्रमुख अखिलेश यादव ने तो मंदिर निर्माण कार्य को रुकवाकर मामले की जांच कराए जाने की मांग की है। ऐसे में उनपर जुबानी हमले तेज होने लगे हैं। भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष मुकेश लोधी ने कहा कि सपा सरकार में ही रामभक्तों पर गोलियां बरसाईं गई थीं। उस समय अखिलेश यादव के पिता मुलायम सिंह यादव मुख्यमंत्री थे। उन्होंने गोली चलवाने के आदेश दे दिए थे। सैकड़ों रामभक्त शहीद हो गए थे। इसके बाद पूरी दुनिया में मुलायम सिंह यादव को हिंदू विराेधी के रुप में देखा जाने लगा था। मुकेश लोधी ने कहा कि रामभक्तों पर गोली चलवाने के आदेश देने से साफ पता चलता है कि ये रामभक्त नहीं हैं। अब उनके बेटे और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी अपनी मंशाा जाहिर कर दी है। उन्होंने कह दिया कि राम मंदिर निर्माण कार्य को रुकवा देना चाहिए। इससे पिता-पुत्र की मंशा को जान लेना चाहिए। मुकेश लोधी ने कहा कि सपा का एक मुख्य उद्​देश्य रहा है हिंदुओं का दमन करना। सपा सरकार में हिंदुओं पर खूब अत्याचार हुए। रामभक्तों पर गोलियां बरसाईं गईं। महाशिवरात्रि पर्व पर भजन-कीर्तन बंद कराने का प्रयास किया गया। कांवड़ियों के स्वागत में लगने वाले शिविर को भी कई बार नहीं लगने दिया गया। शिवभक्तों को पुलिस-प्रशासन ने परेशान तक किया।

सपा सरकार में कबिस्‍तान के निर्माण हुए 

सपा सरकार में कब्रिस्तान पर खूब निर्माण हुआ मगर हिंदुओं के धार्मिक स्थलों पर कोई निर्माण कार्य नहीं हुआ, उनपर ध्यान भी नहीं दिया गया। अब जब अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर का निर्माण हो रहा है तो सपा उसपर अड़ंगा लगा रही है। कांग्रेस धरना प्रदर्शन के लिए सड़क पर उतर रही है। इससे साफ पता चलता है कि कांग्रेस भी नहीं चाहती है कि अयोध्या में भव्य श्रीराम का मंदिर बने। मुकेश लोधी ने कहा कि प्रभु श्रीराम को सारी दुनिया मानती है। रामचरित मानस और रामायण जैसे महाकाव्य है, जो शोध और अध्ययन का विषय है, जिसमें प्रभु श्रीराम के पूरे चरित्र का वर्णन है। प्रभु श्रीराम हमारे देश की आत्मा हैं। वह जन-जन के हृदय में बसे हुए हैं। त्रेयायुग से लेकर आत तक प्रभु श्रीराम को दुनिया भूल नहीं पाई है। ऐसे में यदि प्रभु श्रीराम के मंदिर को लेकर विपक्ष ने काई षड़यंत्र किया तो भाजयुमो उसे कड़ा जवाब देगी।

ये लोग रामभक्त नहीं हो सकते हैं

छात्र नेता हर्षद हिंदू ने कहा कि प्रभु श्रीराम के मंदिर को लेकर सपा ने फिर हमला शुरू कर दिया है। इससे साफ पता चलता है कि सपा के बर्बाद होने का अंत आ गया है। एक बार गोली चलाने के बाद से पूरी दुनिया में मुलायम सिंह यादव की कड़ी निंदा हुई, अब वह राम मंदिर के निर्माण को रोकवना चाहते हैैं। राम इस देश के प्राण वायु हैं, उनके बिना तो लोग जीवन की कल्पना नहीं कर सकते हैं। ऐसे में प्रभु श्रीराम के मंदिर के निर्माण को लेकर जो भी आवाज बुलंद कर रहे हैं, वो राम भक्त कतई नहीं हो सकते हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.