Operation Silence of Aligarh Police : 211 बुलेट बाइक पर पुलिस ने कसा शिकंजा

बुलट में माडिफाइड साइलेंसर लगाकर चलने वाले चालकों के खिलाफ पुलिस का अभियान जारी है। 40 दिन के अंदर पुलिस ने 221 वाहनों से तेज आवाज करने वाले साइलेंसर हटवाए। औसतन रोजाना 10 वाहनों पर कार्रवाई की जा रही है।

Sandeep Kumar SaxenaSat, 25 Sep 2021 02:33 PM (IST)
औसतन रोजाना 10 वाहनों पर कार्रवाई की जा रही है।

अलीगढ़, जागरण संवाददाता। बुलट में माडिफाइड साइलेंसर लगाकर चलने वाले चालकों के खिलाफ पुलिस का अभियान जारी है। 40 दिन के अंदर पुलिस ने 221 वाहनों से तेज आवाज करने वाले साइलेंसर हटवाए। औसतन रोजाना 10 वाहनों पर कार्रवाई की जा रही है। ताकि अपराध भी शिकंजा कसा जा सके। इसके अलावा पुलिस लोगों को जागरूक भी कर रही है।

ऐसे हुई थी आपरेशन साइलेंस की शुरूआत

शहर में आटो, ई-रिक्शा में तेज म्यूजिक सिस्टम व अश्लील गानों से महिलाओं, बच्चों व वृद्धों को असुविधा होती है। इधर, बाइकों में माडिफाइड साइलेंसर या हार्न भी लोगों के लिए परेशानी का कारण बनते हैं। इसे देखते हुए एसएसपी कलानिधि नैथानी ने आपरेशन साइलेंस की शुरुआत की है। इसके तहत पहले दिन एसएसपी खुद घंटाघर व कचहरी रोड पर निकले। बुलट सवार लोगों को समझाया कि साइलेंसर की वजह से महिलाओं व बच्चों को दिक्कतें होती हैं। वाहन चालकों ने अपनी गलती मानते हुए साइलेंसरों को हटवाने की बात कही थी। लेकिन, अभी भी बुलट चालकों की मनमानी जारी है। इधर, पुलिस का अभियान भी लगातार चल रहा है। इसके तहत 211 वाहनों के खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है। 12 हजार रुपये का शमन शुल्क वसूला गया है। इसके अलावा आपरेशन नकेल के तहत 161 वाहनों को सीज किया जा चुका है। 259 वाहनों के चालान भी किए गए हैं। एसएसपी ने बताया कि सड़क अनुशासन में ध्वनि प्रदूषण महत्वपूर्ण बिंदु है। अक्सर देखते को मिलता है कि वाहनों में तेज हार्न व साइलेंसर लोगों की परेशानी का कारण बनते हैं। इन पर कार्रवाई के लिए आपरेशन साइलेंस के तहत चालान काटे जा रहे हैं।

सैकड़ों लोगों ने हटवाए साइलेंसर

तस्वीर महल पर बुलट मैकेनिक रेहान के पास सैकड़ों लोगों ने आकर माडिफाइड साइलेंसर बदलवाए हैं। रेहान के मुताबिक, ऐसे लोगों का आना लगातार जारी है। इसके अलावा उन्होंने 100 से ज्यादा पुराने साइलेंसर तोड़ भी दिए हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.