अलीगढ़ में न ड्रेस बंट रहीं न किताब, गड़बड़ी पर निलंबन, रोका वेतन

बच्चों को न किताबें वितरित की गईं और न ड्रेस
Publish Date:Fri, 23 Oct 2020 05:03 PM (IST) Author: Mukesh Chaturvedi

जेएनएन, अलीगढ़।  सरकारी स्कूलों में जब अफसर निरीक्षण करने पहुंचते हैं तो वहां उनको अनियमितताओं का अंबार मिलता है। लगातार निरीक्षण व कार्रवाई के बाद भी सरकारी स्कूलों की दशा सुधरने का नाम नहीं ले रही। गुरुवार को चंडौस व इगलास के स्कूलों में निरीक्षण के दौरान अफसरों को स्कूल में ड्रेस व किताबें रखी मिलीं, जिनका वितरण नहीं किया गया। शिक्षामित्र से लेकर शिक्षक भी नदारद मिले। कुछ स्कूल बंद मिले तो कहीं कायाकल्प योजना के तहत काम ही नहीं कराया गया। कई विद्यालयों में कंपोजिट ग्रांट के खर्च का ब्योरा तक रजिस्टर में दर्ज नहीं मिला। गड़बड़ी करने वालों  का निलंबन व गैरहाजिर रहने वालों पर वेतन रोकने की कार्रवाई की गई।

प्रेरणा मिशन के काम भी नहीं 

बीएसए डॉ. लक्ष्मीकांत पांडेय ने बताया कि, चंडौस ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय खेमपुर में शिक्षामित्र रोहित कुमार व पुष्पा गैरहाजिर मिले। रंगाई-पुताई व मिशन प्रेरणा के काम भी नहीं किए गए। प्रधानाध्यापिका मिथिलेश कुमारी से स्पष्टीकरण मांगा गया है। दोनों शिक्षामित्रों का एक दिन का मानदेय रोकने के निर्देश दिए। पूर्व माध्यमिक विद्यालय सोमना में सहायक अध्यापिका कुसुम कुमारी, वीरा रानी, मोहम्मद अनवर खान गैरहाजिर मिले। किताबें व यूनिफार्म वितरण भी नहीं किया गया। लर्निंग आउटकम का परिणाम तक नहीं भरा गया। तीनों अनुपस्थित सहायक अध्यापकों का वेतन अवरुद्ध किया गया है। प्राथमिक विद्यालय सोमना में प्रधानाध्यापक शिवेंद्र नाथ शर्मा व सहायक अध्यापक वीनेश कुमार गैरहाजिर मिले। यहां भी किताबें व यूनिफार्म नहीं बांटे गए हैं। दोनों गैरहाजिर शिक्षकों का एक दिन का वेतन काटने की कार्रवाई की गई। ब्लॉक के खंड शिक्षाधिकारी को भी चेतावनी दी गई है।

ये मिले अनुपस्थित 

इगलास ब्लॉक के पूर्व माध्यमिक विद्यालय कजरौठ में सहायक अध्यापिका अंजलि कौशिक अनुपस्थित थीं। ड्रेस भी नहीं बाटी गईं।  इंचार्ज प्रधानाध्यापिका सुमन कुमारी कंपाेजिट ग्रांट के उपयोग का कोई ब्योरा भी न दे सकीं। 26 अक्टूबर को दस्तावेजों के साथ कार्यालय बुलाया गया है। प्राथमिक विद्यालय लालपुर में भी ड्रेस नहीं बांटी गई और न ही कंपोजिट ग्रांट के बारे में कोई जानकारी दी गई। 26 अक्टूबर को दस्तावेज कार्यालय मंगाए गए हैं। प्राथमिक विद्यालय सिमरधरी के प्रधानाध्यापक सुभाष चंद्र शर्मा को मुख्य गेट पर पशु बंधे होने, शिक्षक डायरी न बनाने, एसएमसी की बैठक न कराने आदि तमाम गड़बड़ियों के चलते निलंबित किया गया। प्राथमिक विद्यालय भरतपुर में ड्रेस व मेडिकल किट बोरे में रखी मिलीं। प्रधानाध्यापक रविंद्र पाल सिंह आकस्मिक अवकाश पर मिले। उनको पत्र जारी किया गया है कि दस्तावेज लेकर कार्यालय आएं। प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक विद्यालय सहाकराकलां में अभिलेख एक नहीं किए गए थे, किताबें भी नहीं बांटी गईं। तमाम गड़बड़ी के चलते प्रधानाध्यापिका इंद्रा देवी का वेतन तब तक रोका गया जब तक सुधार नहीं किया जाता। प्राथमिक व पूर्वमाध्यमिक विद्यालय गुरसेना का संविलियन नहीं किया गया।

बेतन रोकने के आदेश 

गड़बड़ी में सुधार होने तक प्रधानाध्यापक सदन कुमार का वेतन रोकने के आदेश दिए। प्राथमिक विद्यालय भौरागोरवा में कायाकल्प के तहत काम नहीं कराया गया। प्रधानाध्यापिका कविता सारस्वत को दस्तावेजों के साथ कार्यालय बुलाया गया है। प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालय जारौठ दोपहर डेढ़ बजे बंद पाया गया। पूरे स्टाफ का वेतन रोका गया है। प्रधानाध्यापक को कार्यालय तलब किया गया है व खंड शिक्षाधिकारी इगलास को तीन दिन में स्पष्टीकरण देने के निर्देश दिए गए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.