दीक्षा एप डाउनलोड कराने में लगे नवनियुक्त शिक्षक भी, आज अंतिम तिथि Aligarh news

जिले में 745 अभिभावकों के मोबाइल पर ही दीक्षा एप डाउनलोड कराई जा सकी है।

अभी जिले में 745 अभिभावकों के मोबाइल पर ही दीक्षा एप डाउनलोड कराई जा सकी है। शासन की ओर से इतनी कम संख्या में अभिभावकों के जुड़ने पर असंतोष भी जताया गया है। इसलिए इस काम में नवनियुक्त शिक्षक-शिक्षिकाओं को भी लगाया गया है।

Publish Date:Sat, 23 Jan 2021 10:51 AM (IST) Author: Sandeep kumar Saxena

अलीगढ़, जेएनएन। कक्षा एक से आठ तक के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं के अभिभावकों के मोबाइल पर दीक्षा एप डाउनलोड करानी है। प्रधानाध्यापकों, सहायक अध्यापकों, खंड शिक्षाधिकारी समेत अकादमिक रिसोर्स पर्सन तक को इसकी जिम्मेदारी दी गई है। मगर अभी जिले में 745 अभिभावकों के मोबाइल पर ही दीक्षा एप डाउनलोड कराई जा सकी है। शासन की ओर से इतनी कम संख्या में अभिभावकों के जुड़ने पर असंतोष भी जताया गया है। इसलिए इस काम में नवनियुक्त शिक्षक-शिक्षिकाओं को भी लगाया गया है। पिछले दो महीनों में जिले में करीब 400 शिक्षकों को तैनाती मिली है। ये शिक्षक अभिभावकों के मोबाइल पर दीक्षा एप डाउनलोड कराकर इसकी रिपोर्ट बीएसए कार्यालय में सौपेंगे।

आज शाम तक का समय बाकी

23 जनवरी की शाम पांच बजे तक अभिभावकों के मोबाइल पर दीक्षा एप डाउनलोड कराने का समय निर्धारित किया गया है। अफसरों ने जिले के 9000 शिक्षक-शिक्षिकाओं को इस काम में लगाया है। जिले में करीब 5000 परिषदीय शिक्षकों के अलावा तीन हजार शिक्षामित्र व एक हजार अनुदेशक भी कार्यरत हैं। हर शिक्षक को कम से कम 10-10 अभिभावकों के मोबाइल पर दीक्षा एप डाउनलोड कराने की जिम्मेदारी दी गई है। इसकी रिपोर्ट भी बीएसए दफ्तर पर सौंपी जाएगी। यहां से रिपाेर्ट एक्सल शीट पर शासन को भेजी जाएगी। इनके अलावा जिले में नई नियुक्ति पाए करीब 400 शिक्षक-शिक्षिकाओं को भी अभिभावकों के मोबाइल पर दीक्षा एप डाउनलोड कराने का काम सौंपा गया है। इन शिक्षकों को ब्लाकवार क्षेत्र आवंटित किए गए हैं। अफसरों का कहना है कि अगर 9000 शिक्षक 10-10 अभिभावकों को भी जोड़ लेंगे तो लक्ष्य 90 हजार के पास पहुंच जाएगा। हर शिक्षक को अनिवार्य रूप से इसमें सहभागिता करनी है।

एक शिक्षक को 10 अभिभावकों को जोड़ने की जिम्मेदारी दी गई है। नवनियुक्त शिक्षक भी इसमें सहयोग करेंगे। ज्यादा से ज्यादा संख्या में अभिभावकों को दीक्षा एप डाउनलोड करानी है। लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों पर विभागीय कार्रवाई भी की जाएगी।

-डा. लक्ष्मीकांत पांडेय, बीएसए

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.