top menutop menutop menu

Lockdown 4: गोवा से सहारनपुर जा रही ट्रेन गलती से अलीगढ़ पहुंची, अधिकारियों में बेचैनी

अलीगढ़ जेएनएन। पहले से परेशान प्रवासी मजदूरों के साथ रेलवे भी लापरवाही बरत रहा है। गोवा के मडग़ाव से सहारनपुर जाने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन गलती से अलीगढ़ स्टेशन पर पहुंच गई। इससे अधिकारियों में खलबली मच गई। 600 प्रवासी मजदूरों को उतारकर ट्रेन सहारनपुर के लिए रवाना हो गई।

ट्रेन मजदूरों को उतारकर सहारनपुर के लिए रवाना

बताते चलें कि दो दिन प्रवासी मजदूरों को लेकर एक श्रमिक स्पेशल ट्रेन गोरखपुर के बजाए उड़ीसा पहुंच गई थी। इसको लेकर रेलवे के अधिकारियों की जमकर आलोचना हुई थी। लेकिन रेलवे के अधिकारियों की लापरवाही का एक और मामला सामने आ गया। गोवा के मडग़ांव से सहारनपुर के लिए रवाना हुई श्रमिक स्पेशल ट्रेन रविवार की तड़के अलीगढ़ जंक्शन पर पहुंच गई। बगैर सूचना के अलीगढ़ पहुंची ट्रेन से स्थानीय रेलवे अधिकारियों में खलबली मच गई। जानकारी मिलने के बाद प्रशासनिक अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। 600 प्रवासियों को उतारने के बाद ट्रेन सहारनपुर के लिए रवाना हो गई।

 एएमयू छात्र गया की जगह पहुंच गया किशनगंज

अलीगढ़ श्रमिक स्पेशल ट्रेन से गया जा रहे एक एएमयू छात्र को नींद आ गई। आंख जब खुली तो छात्र गया की जगह किशनगंज पहुंच गया। छात्र को पश्चिम बंगाल में मौजूद एएमयू के किशनगंज स्थित सेंटर पर ठहरने की व्यवस्था कर दी गई है।

 

एएमयू छात्र को नींद आ गई

कोरोना वायरस को लेकर देशभर में चल रहे लॉकडाउन 4 की वजह से पश्चिम बंगाल अपने घर जा रहे एएमयू छात्र अव्यवस्थाओं के शिकार हो गए। ममता सरकार द्वारा की गई ट्रेन की लचर व्यवस्था के चलते एएमयू छात्रों को स्लीपर की जगह जनरल बोगी में बैठना पड़ गया। खास बात यह रही मथुरा से पश्चिम बंगाल के लिए सवार हुए एएमयू छात्रों को खाना-पानी तक नहीं मिला। ट्रेन में सवार छात्रों ने एएमयू इंतजामियां तक अपनी बात पहुंचाई और गुस्से का इजहार किया। इसके बाद एएमयू कुलपति व रजिस्ट्रार ने डीआरएम से बात की। डीआरएम ने श्रमिक स्पेशल ट्रेन को बिलासपुर में रुकवा कर छात्रों को खाना व पानी इंतजाम कराया है। इसी ट्रेन में सवार एक एएमयू छात्र को नींद आ गई व गया की जगह किशनगंज पहुंच गया।

पश्चिम बंगाल सरकार की थी व्यवस्था

इस संबंध में एएमयू के प्रवक्ता प्रोफसर शाफे किदवई का कहना है कि उन्होंने पूरा इंतजाम करके भेजा था। क्योंकि ट्रेन पश्चिम बंगाल सरकार ने बुक कराई थी। इसलिए व्यवस्था भी उनकी थी। जिस छात्र को नींद आई थी उसके ठहरने का इंतजाम एएमयू के किशनगंज स्थित सेंटर पर करा दिया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.