अलीगढ़ में 'डबल वैक्सीनेशन' खोलेगा कक्ष निरीक्षक की राह, जानिए पूरा मामला

माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तरप्रदेश (यूपी बोर्ड) ने वर्ष 2022 की वार्षिक परीक्षा के लिए केंद्र निर्धारण की प्रक्रिया शुरू कर दी है। एक कक्ष में दो परीक्षार्थियों के बीच कम से कम छह फीट की दूरी रखने के निर्देश भी हैं। इससे केंद्रों की संख्या भी बढऩे की संभावना है।

Anil KushwahaPublish:Sat, 27 Nov 2021 09:07 AM (IST) Updated:Sat, 27 Nov 2021 09:20 AM (IST)
अलीगढ़ में 'डबल वैक्सीनेशन' खोलेगा कक्ष निरीक्षक की राह, जानिए पूरा मामला
अलीगढ़ में 'डबल वैक्सीनेशन' खोलेगा कक्ष निरीक्षक की राह, जानिए पूरा मामला

अलीगढ़, जागरण संवाददाता। माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तरप्रदेश (यूपी बोर्ड) ने वर्ष 2022 की वार्षिक परीक्षा के लिए केंद्र निर्धारण की प्रक्रिया शुरू कर दी है। एक कक्ष में दो परीक्षार्थियों के बीच कम से कम छह फीट की दूरी रखने के निर्देश भी हैं। इससे केंद्रों की संख्या भी बढऩे की संभावना है। कक्ष निरीक्षकों की संख्या भी बढऩी तय है। मगर कक्ष निरीक्षक वही बनेगा जिसने कोविड-19 से बचाव के लिए दोनों वैक्सीनेशन करा लिए हैं। इसके लिए सभी प्रधानाचार्यों से रिपोर्ट मांगी गई है।

खास बातें - यूपी बोर्ड परीक्षा में केंद्र निर्धारण की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है, कक्ष निरीक्षक होंगे तैनात - प्रधानाचार्यों से मांगी शिक्षकों के वैक्सीनेशन की रिपोर्ट, दोनों टीके लगवाने वाले बनेंगे कक्ष निरीक्षक

विद्यालयों पर नजर

जिले में 94 एडेड, 35 राजकीय व करीब 624 वित्तविहीन विद्यालय हैं। इन सभी को अपने यहां उपलब्ध आधारभूत सूचनाएं बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड करनी है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सीन की दोनों डोज लगवा चुके शिक्षकों की रिपोर्ट मांगी गई है। डीआइओएस डा. धर्मेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि सभी प्रधानाचार्यों से शिक्षकों के वैक्सीनेशन की रिपोर्ट मांगी गई है। बोर्ड ने भी इस संबंध में सजगता बरतने के निर्देश दिए हैं कि जिन शिक्षकों ने दोनों डोज लगवाई हों उनको ही कक्ष निरीक्षक बनाने में वरीयता दी जाए। हर तहसील के विद्यालयों से शिक्षकों की वैक्सीनेशन रिपोर्ट मांगी है। साथ ही निर्देशित किया गया है कि जिन शिक्षकों ने दूसरी डोज नहीं लगवाई है वो तत्काल वैक्सीन लगवाकर रिपोर्ट पेश करें।