अलीगढ़ में शराब माफिया ऋषि व उसके बेटे को छोड़ने को लेकर धरना शुरू, विस्‍तार से जानिए मामला

यह धरना जहरीली शराब प्रकरण के मुख्य आरोपित ऋषि शर्मा की पत्नी पूर्व ब्लाक प्रमुख रेनू शर्मा की शुक्रवार देररात मौत के बाद शुरू हुआ है। रेनू शर्मा जेल में बंदी थी। तबीयत खराब पर उपचार के दौरान जेएन मेडिकल में मौत हो गई थी।

Sandeep Kumar SaxenaSat, 04 Dec 2021 10:47 AM (IST)
शनिवार सुबह स्‍वजन पर परिचितों ने पोस्‍टमार्टम हाउस में धरना शुरू कर दिया।

अलीगढ़, जागरण संवाददाता। जहरीली शराब से हुई मौतों के में जेल में बंद शराब माफिया ऋषि शर्मा व उसके पुत्र कुनाल को पेरोल पर छोेड़ने की मांग को लेकर शनिवार सुबह स्‍वजन पर परिचितों ने पोस्‍टमार्टम हाउस में धरना शुरू कर दिया। यह धरना जहरीली शराब प्रकरण के मुख्य आरोपित ऋषि शर्मा की पत्नी पूर्व ब्लाक प्रमुख रेनू शर्मा की शुक्रवार देररात मौत के बाद शुरू हुआ है। रेनू शर्मा जेल में बंदी थी। तबीयत खराब पर उपचार के दौरान जेएन मेडिकल में मौत हो गई थी। खास बात यह है कि पिता-पुत्र को पेरोल पर छोड़ने की मांग बरौली विधनसभा क्षेत्र के भाजपा विधायक दलवीर भी कर चुके हैं।

यह हैै मामला 

जहरीली शराब के चलते लोधा क्षेत्र के करसुआ में 28 मई से मौतों का सिलसिला शुरू हुआ था। अगले ही दिन खैर, लोधा, जवां थाना क्षेत्र के भी अलग-अगल कई गांव से भी मौतों के मामले सामने आए। चार पांच दिनों में जिलेभर में करीब 104 लोगों की मौत हो गई। पुलिस ने प्रकरण को लेकर खैर, लोधा, पिसावा, गभाना, जवां, महुआखेड़ा, क्वार्सी थानों में 33 मुकदमे दर्ज किए थे। इसमें जवां थाना में दर्ज हुए मुकदमे में माफिया ऋषि, मुनीष के अलावा रेनू शर्मा आदि नामजद थे। इधर, जेल में रेनू शर्मा की तबीयत खराब होने लगी। बीते दिनों एडीजे नौ की अदालत में रेनू पर आरोप तय किए गए। तब भी उन्हें जेएन मेडिकल कालेज से एंबुलेंस से अदालत लाया गया था। इसी आधार पर हाईकोर्ट में जमानत अर्जी दायर की गई थी। इसमें रेनू को नेफ्रिटिक (गुर्दे की बीमारी), कार्डियक (दिल), न्यूरोलाजिकल व डायबिटिक मेलोटिस से पीड़ित बताया गया था। इस पर हाईकोर्ट ने जमानत अर्जी मंजूर की थी। इसके बाद साजिश की धारा शेष रह गई थी, जो स्थानीय अदालत ने मंजूर कर ली। फिलहाल जमानतियों के सत्यापन हो रहा था। जल्द ही रेनू की रिहाई होने वाली थी। लेकिन, देररात करीब 12 बजे रेनू की तबीयत बिगड़ गई। उन्हें मेडिकल ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। रेनू की मौत की सूचना पर लोगों का इकट्ठा होना शुरू हो गया। इसके बाद लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। हालांकि सीओ तृतीय श्वेताभ पांडेय मौके पर पहुंच गए और लोगों को शांत किया। वरिष्ठ जेल अधीक्षक विपिन कुमार मिश्रा ने रेनू की मौत की पुष्टि की है। जेल प्रशासन के मुताबिक, जेल में दाखिल होने से पहले से ही वह बीमार थीं। दवा चल रही थी। जेल में दाखिल होने के बाद जेएन मेडिकल कालेज में उपचार चला। यहां दो बार भर्ती रहीं। गुरुवार सुबह ही मेडिकल से डिस्चार्ज होकर आई थीं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.