अलीगढ़ के सरकारी अस्पतालों में नहीं आरोग्य मित्र, कैसे मिले इलाज

जिला स्तरीय अस्पतालों से लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर न तो गोल्डन कार्ड बन पा रहे हैं और न मरीजों को योजना के तहत मुफ्त उपचार मिल रहा है। तमाम मरीज निजी अस्पताल पहुंच रहे हैं। ढाई माह पूर्व पत्रावली तैयार होने के बाद भी प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ रही।

Anil KushwahaMon, 29 Nov 2021 12:03 PM (IST)
जिला स्तरीय अस्पतालों से लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर न तो गोल्डन कार्ड बन पा रहे हैं!

अलीगढ़, जागरण संवाददाता। आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत आउटसोर्सिंग से आरोग्य मित्रों (आयुष्मान मित्र) की नियुक्ति सालभर बाद भी अधर में अटकी हुई है। जिला स्तरीय अस्पतालों से लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर न तो गोल्डन कार्ड बन पा रहे हैं और न मरीजों को योजना के तहत मुफ्त उपचार मिल रहा है। तमाम मरीज निजी अस्पताल पहुंच रहे हैं। ढाई माह पूर्व पत्रावली तैयार होने के बाद भी प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ रही। सवाल ये है सरकारी अस्पतालों में आरोग्य मित्र के बिना इलाज कैसे मिले?

ये है मामला

आयुष्मान योजना के अंतर्गत सरकारी व निजी अस्पतालों में आरोग्य मित्र (आयुष्मान मित्र) तैनात करने का प्राविधान किया गया है। इसका उद्देश्य मरीजों को बिना किसी कठिनाई के निश्शुल्क चिकित्सा की सुविधा उपलब्ध कराना है। साथ ही लाभार्थी का गोल्डन कार्ड बनाना है। निजी चिकित्सालयों ने अपने संसाधनों से आरोग्य मित्र नियुक्त कर दिए हैं। जबकि, सरकारी अस्पतालों में ही ढिलाई दिख रही है। योजना के प्रारंभ में आरोग्य मित्रों की नियुक्ति की गई थी, लेकिन कुछ समय बाद ही एक-एक कर सभी नौकरी छोड़ गए। जिले में 12 आरोग्य मित्रों के पद रिक्त हैं। इन पदों पर आशा कर्मी अथवा महिला कर्मियों को प्राथमिकता दी जानी है। 10 हजार रुपये मानदेय तय किया गया है।

यहां नहीं हैं आरोग्य मित्र

मलखान सिंह जिला अस्पताल, पं. दीनदयाल उपाध्याय संयुक्त चिकित्सालय, सीएचसी इगलास, अकराबाद, चंडौस, अतरौली, हरदुआगंज, छर्रा, लोधा, गौंडा, बिजौली, टप्पल व खैर। इससे यहां गोल्डन कार्य बनाने का कार्य ठप है। मरीजों को उपचार भी नहीं मिल पा रहा। 20 नवंबर 2021 को एसीएमअो नोडल अधिकारी डा. दुर्गेश कुमार ने सीएमओ को पत्र लिखकर आरोग्य मित्रों का चयन कर नियुक्ति की मांग की है।

इनका कहना है

शासनादेश के अनुसार आरोग्य मित्रों की नियुक्त जेम पोर्टल के माध्यम से की जानी है। हमनें पत्रावली तैयार कर ली है। जल्द ही आरोग्य मित्रों की नियुक्ति की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी।

- डा. दुर्गेश कुमार, एसीएमओ नोडल अधिकारी (आयुष्मान योजना)

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.