अलीगढ़ के गांव नूरपुर में बनेगा हनुमान जी का मंदिर

सांसद ने किया भूमि पूजन मंदिर के लिए 298 वर्ग गज जमीन दी दान गांव में होगा पहला मंदिर ग्रामीण आपसी सहयोग से करा रहे निर्माण।

JagranWed, 23 Jun 2021 01:41 AM (IST)
अलीगढ़ के गांव नूरपुर में बनेगा हनुमान जी का मंदिर

जासं, अलीगढ़ : जाति विशेष के कुछ लोगों द्वारा एक माह पूर्व अनुसूचित जाति के लोगों की बरात रोकने से चर्चा में आए टप्पल क्षेत्र के गाव नूरपुर में अब हनुमान जी मंदिर बनवाया जाएगा। यह गांव का पहला मंदिर होगा, जिसके लिए मंगलवार को सांसद ने भूमि पूजन किया। 298 वर्ग गज जमीन पर मंदिर निर्माण जल्द शुरू होगा। इसके लिए गांव के लोग राशि जुटा रहे हैं।

मंदिर के लिए गांव के ही सोमवीर ने जमीन दी है। भूमि पूजन के लिए आसपास के गांवों के लोग भी एकत्रित हुए। पंडित कंछीलाल ने पूजन कराया। इस अवसर पर हुए हवन में महामंडलेश्वर स्वामी प्रकाशानंद, अलीगढ़ की पूर्व महापौर शकुंतला भारती के अलावा राष्ट्रीय हिंदू शक्ति संगठन के प्रदेश अध्यक्ष आरएस वाली ने भी आहूति दी। आरएस वाली ने ही मंदिर निर्माण की पहल की थी। 26 मई को बरात रोकी जाने के बाद से ही विरोध शुरू हो गया था। इसके चलते आरएस वाली छह जून को आए थे। उन्होंने अनुसूचित जाति के लोगों को दो लाख रुपये का चेक देते हुए कहा था कि नूरपुर में जब तीन मस्जिद हो सकती हैं तो हिंदुओं के लिए मंदिर क्यों नहीं हो सकता। तभी से मंदिर निर्माण की योजना में गांव के लोग जुटे थे। मंगलवार को भूमि पूजन के समय पूर्व महापौर शकुंतला भारती ने कहा कि गांव में मंदिर का सपना अनेक लोग वर्षो से देख रहे हैं, जो अब पूरा हो रहा है। गांव के लोगों ने मंदिर निर्माण में तन, मन, धन से सहयोग का संकल्प लिया। इस मौके पर राजेंद्र शर्मा, सौरभ महेश्वरी, नरेंद्र गौतम, चंद्र प्रकाश चंद्र, शाति स्वरूप, ऋषि पाल सिंह, सुधीर शर्मा, दिनेश मौजूद थे।

25 साल पहले ही दे दी थी जमीन

गांव में मंदिर का सपना लंबे समय से देखा जा रहा है। इसके लिए 25 साल पहले गांव के ही सोमवीर के पिता ने अपनी जमीन देने की घोषणा कर दी थी, लेकिन मंदिर निर्माण नहीं हो सका था। तीन हजार की आबादी वाले इस गांव में कुल 650 मकान हैं। इसमें 150 मकान हिदुओं के हैं।

......

अब तक सात लोगों की

गिरफ्तारी, चार फरार

थाना क्षेत्र के गाव नूरपुर में अनुसूचित जाति के लोगों की बरात न चढ़ने देने का मामला ओमवीर सिंह ने 27 मई को दर्ज कराया था। आरोप था कि 26 मई को उनकी दो बेटियों की बरात हरियाणा के पलवल के गाव दीघोट से आई थी। बरात चढ़ने लगी तो समुदाय विशेष के कुछ लोगों ने उनके धार्मिक स्थल के सामने डीजे न बजाने की बात कहते हुए मारपीट की। इस मामले की रिपोर्ट 11 लोगों के खिलाफ मारपीट, गाली गलौज व एससीएसटी एक्ट में दर्ज कराई गई। कार्रवाई न होने पर अनुसूचित जाति के लोगों ने अपने मकानों के बाहर मकान बिकाऊ है, लिखवा कर पलायन का एलान कर दिया था। इसके बाद सियासत तेज हो गई। पुलिस ने अनुसूचित जाति के लोगों को सुरक्षा का भरोसा दिया। अब तक सात आरोपित गिरफ्तार किए जा चुके हैं। चार आरोपितों की तलाश की जा रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.