उपभोक्ताओं से अंगूठे लगवा लिए, राशन नहीं बांटा

उपभोक्ताओं से अंगूठे लगवा लिए, राशन नहीं बांटा

राशन वितरण में फर्जीवाड़ा कम होने का नाम नहीं ले रहा है। अब लोगों से अंगूठा लगवा लिए राशन नहीं दिया जा रहा।

JagranSun, 18 Apr 2021 08:33 PM (IST)

जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : राशन वितरण में फर्जीवाड़ा कम होने का नाम नहीं ले रहा है। अब राशन डीलर लोगों से अंगूठे तो लगवा रहे हैं, लेकिन राशन नहीं दे रहे हैं। ऐसा ही एक मामला गभाना तहसील के तालिबनगर का सामने आया है। यहां पर डीलर ने 150 से अधिक उपभोक्ताओं के अंगूठे तो लगवा लिए, लेकिन राशन नहीं दिया। कई-कई दिनों भटकने के बाद जब उपभोक्ताओं को राशन नहीं मिला तो इसकी शिकायत डीएम से की गई। डीएम के निर्देश पर पूर्ति निरीक्षक जांच को पहुंचे तो सामने आया कि मौके पर 11 कुंतल गेहूं व आठ कुंतल चावल कम हैं। ऐसे में डीलर के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया गया है।

डीएसओ राजेश कुमार सोनी ने बताया कि तालिबनगर में कांति देवी के नाम से राशन की दुकान है। कांति देवी व उनके पति उदल सिंह इसका संचालन करते हैं। बीते दिनों डीएम चंद्रभूषण सिंह के फोन पर किसी स्थानीय निवासी ने फोन किया कि गांव में डीलर ने उपभोक्ताओं से अंगूठे तो लगवा लिए हैं, लेकिन अब तक राशन नहीं बांटा है। इस पर डीएम ने जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए। इस पर पूर्ति निरीक्षक को गांव में भेजा गया। पूर्ति निरीक्षण ने स्टाक रजिस्टर की पड़ताल की। इसके हिसाब से डीलर के यहां 16 कुंतल गेहूं, 23 कुंतल चावल व 18 कुंतल मक्का होनी चाहिए, लेकिन डीलर के यहां 11 कुंतल गेहूं व आठ कुंतल चावल कम मिले। वहीं, 11 कुंतल मक्का अधिक थी। इस पर शिकायतकर्ता व कार्ड धारकों के बयान लिए गए। इसमें सामने आया कि डीलर ने गांव के 150 से अधिक उपभोक्ताओं के अंगूठे तो लगवा लिए हैं, लेकिन राशन नहीं दिया है। इससे स्पष्ट है कि कम राशन को डीलर ने कालाबाजारी में बेच दिया है। इसी के आधार पर अब पूर्ति निरीक्षक की तरफ से डीलर के खिलाफ जवां थाने में मुकदमा दर्ज करा दिया गया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.