TET paper leak : फर्जीवाड़ों के किस्‍सों से भरी है गौरव की गाथा अब निर्दोष की तलाश

अलीगढ़ जागरण संवाददाता। टीईटी पेपर लीक करने के मामले में पकड़ा गया टप्पल का गौरव का फर्जीवाड़े से पुराना नाता रहा है। गांव के लोगों की जुबान पर उसके फर्जीवाड़े के तमाम किस्से हैं। आरोपित फर्जी आधार कार्ड से लेकर स्कूल से दस्तावेज तक बनाता था।

Anil KushwahaWed, 01 Dec 2021 08:05 AM (IST)
टीईटी पेपर लीक करने के मामले में पकड़ा गया टप्पल का गौरव का फर्जीवाड़े से पुराना नाता रहा है।

अलीगढ़, जागरण संवाददाता। टीईटी पेपर लीक करने के मामले में पकड़ा गया टप्पल का गौरव का फर्जीवाड़े से पुराना नाता रहा है। गांव के लोगों की जुबान पर उसके फर्जीवाड़े के तमाम किस्से हैं। आरोपित फर्जी आधार कार्ड से लेकर स्कूल से दस्तावेज तक बनाता था। परीक्षा संबंधी फर्जीवाड़े के मामले में गौरव को तीन साल पहले मथुरा पुलिस ने गिरफ्तार करके जेल भेजा था। हालांकि गौरव का ठिकाना किसी को पता नहीं है। वह गांव में भी छिपकर आता था और चला जाता था।

एसटीएफ के हत्‍थे चढ़ा गौरव मलान

एसटीएफ ने अलीगढ़ के हजियापुर टप्पल निवासी गौरव मलान को गिरफ्तार कर लिया है। गौरव ने ही बबलू को टीईटी का पेपर पांच लाख में बेचा था। एसटीएफ ने गौरव को सोमवार सुबह मेलरोज बाईपास से उठाया था। बताया जा रहा है कि गौरव बन्नादेवी थाना क्षेत्र के मेलरोज बाईपास इलाके में ही रह रहा था। इधर, हजियापुर में गांव के लोगों का कहना है कि गौरव ने फर्जीवाड़े के कई काम किए हैं। ग्रामीणों के मुताबिक, गौरव अक्सर रात में गांव आता है और सुबह निकल जाता है। कुछ दिन पहले परिवार की एक शादी में शामिल होने के लिए गौरव आया था। इसके बाद भी ग्रामीणों ने उसे एक कार में गांव के पास देखा था। गौरव कहां रहता है और क्या करता है, ये किसी को जानकारी नहीं थी। आएदिन उसके घर पर गौरव की शिकायत करने वालों का जमावड़ा लगा रहता है। लेकिन, गौरव के न होने के चलते लोग लौट जाते हैं।

तहेरा भाई जा चुका है जेल

गौरव का तयेरा भाई बरेली में वर्ष 2015 में आइटीबीपी परीक्षा में पकड़ा गया था। वह किसी दूसरे शख्स के स्थान पर परीक्षा दे रहा था। वहीं एक साल पहले भी तहेरा भाई जट्टारी क्षेत्र में किसी मामले में पकड़ा गया था।

पिता ने कहा, हमारा गौरव से कोई नाता नहीं

गौरव के पिता प्रमोद उसकी गिरफ्तारी से अनजान हैं। उन्होंने बताया कि बचपन में ही गौरव परिवार से मेल-जोल नहीं रखता था। ऐसे में उसे पढ़ने के लिए शहर भेज दिया था। उसने एएमयू से पढ़ाई की। फिर वहीं रहने लगा। फिलहाल मेलरोज बाईपास के पास रह रहा था। पिता ने कहा कि लंबे समय से गौरव गांव में नहीं आया है।

पिता ने लड़ा था प्रधान का चुनाव

गौरव के पिता प्रमोद ने इस बार प्रधान का चुनाव लड़ा था। लेकिन, हार मिली। इससे पहले भी वर्ष 2015 में भी प्रधानी के चुनाव में प्रमोद हार गए थे। प्रमोद किसान हैं। उनके दो बेटे गौरव व सौरव हैं।

मकान को लेकर भी विवाद

चर्चा है कि पांच माह पहले पंचायत घर के एक झगड़े में भी गौरव पर मुकदमा दर्ज किया गया। इधर, मकान को लेकर भी उसका विवाद चल रहा है। गांव के पूर्व प्रधान की शिकायत पर प्रशासन की जांच में सरकारी भूमि पर अवैध कब्जा किए जाने की बात सामने आई थी। इसमें भी गौरव समेत परिवार के कई लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

पुलिस को अब निर्दोष की तलाश

गौरव ने पूछताछ में बताया कि 27 नवंबर की रात को गौंडा निवासी निर्दोष चौधरी ने पेपर दिया था। ऐसे में एसटीएफ की टीम अब निर्दोष की तलाश में है। सूत्रों के मुताबिक, एसटीएफ की टीम अलीगढ़ में डेरा जमाए हुए है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.