अलीगढ़ में 36 घंटे बाद बंद हुआ गंग नहर का कटान

जासं अलीगढ़ इगलास में हाथरस ब्रांच की गंग नहर के कटान को कड़ी मशक्कत के बाद मंगलवार

JagranWed, 08 Dec 2021 02:01 AM (IST)
अलीगढ़ में 36 घंटे बाद बंद हुआ गंग नहर का कटान

जासं, अलीगढ़: इगलास में हाथरस ब्रांच की गंग नहर के कटान को कड़ी मशक्कत के बाद मंगलवार की दोपहर अथक प्रयास से 36 घंटे बाद बंद किया जा सका। नहर के पानी से किसानों की दो हजार बीघा फसल नष्ट हो गई। किसानों ने सिचाई विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाया है। प्रशासन ने गंग नहर के कटान से हुए नुकसान का सर्वे राजस्व विभाग के कर्मचारियों से कराया है।

रविवार की रात्रि करीब दो बजे हाथरस ब्रांच की गंग नहर की पटरी गांव बादामपुर के समीप कट गई थी। सोमवार की सुबह होते-होते गांव बादामपुर, गिदोली, चिरोली, करथला व कस्बा के किसानों की आलू, गेहूं, लाहा, गोभी, करेला, मटर की सैकड़ों बीघा फसल जलमग्न हो गई। सूचना पर एसडीएम अनिल कुमार कटियार, तहसीलदार सौरभ यादव के साथ ही कोतवाल रिपुदमन सिंह मय पुलिस फोर्स के सुबह चार बजे ही मौके पर पहुंचे थे।

इस दौरान आक्रोशित किसानों ने क्षतिपूर्ति के मुआवजे की मांग को लेकर अलीगढ़-मथुरा मार्ग स्थित गांव तेहरा पर जाम लगाया था। रालोद के जिलाध्यक्ष कालीचरन सिंह ने तहसीलदार को ज्ञापन देकर फसल की क्षतिपूर्ति के मुआवजे की मांग की थी। जब देर रात्रि तक कटान बंद नहीं हो सका तो सिचाई विभाग ने ऊपर से पानी को बंद कराया। मंगलवार को करीब दोपहर तीन बजे कटान को रोका जा सका है। तहसीलदार ने बताया कि फसल की क्षति का सर्वे कार्य पूरा करा लिया है। 170 हेक्टेयर (दो हजार चालीस बीघा) फसल नष्ट हुई है। किसानों की सूची एसडीएम के माध्यम से सिचाई विभाग को क्षतिपूर्ति कराने को भेजी जा रही है।

वहीं चंडौस क्षेत्र के गांव रामपुर शाहपुर में करीब चार बीघा कृषि भूमि को लेकर दो पक्षों में विवाद चला आ रहा था। मामले में मंगलवार सुबह भी दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए। बाद में तहसीलदार सुभाषचंद्र ने राजस्व टीम व पुलिसबल के साथ मौके पर पहुंचकर पीड़ित पक्ष को कब्जा दिला दिया।

तहसीलदार ने बताया कि गांव के एक युवक की करीब चार बीघा पट्टे की कृषि भूमि पर गांवों के ही कुछ दबंग लोगों ने कब्जा कर रखा था। मामले में मंगलवार को भी कब्जे को लेकर दोनों पक्ष कब्जे को लेकर आमने-सामने आ गए। इस पर उन्होंने राजस्व टीम व चंडौस थाना के पुलिसबल के साथ पहुंचकर विवादित भूमि की पैमाइश कराकर पीड़ित को कब्जा दिला दिया। इस दौरान टीम में लेखपाल मोहम्मद शरीफ, अनिल कुमार गुप्ता आदि मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.