अलीगढ़ में चार घंटे का इंतजार, फिर भी रोडवेज बस में न मिली जगह

बसों की कमी का आलम है कि हाथरस मथुरा व आगरा रूट पर बसें तीन से चार घंटे की देरी से पहुंच रही हैं।

JagranFri, 03 Dec 2021 02:12 AM (IST)
अलीगढ़ में चार घंटे का इंतजार, फिर भी रोडवेज बस में न मिली जगह

जागरण संवाददाता, अलीगढ़: शादियों के सीजन में रोडवेज बसों में यात्रियों की भीड़ बढ़ गई है। खासकर लोकल रूटों की बसों में पैर रखने भर की जगह नहीं मिल रही है। बसों की कमी का आलम है कि हाथरस, मथुरा व आगरा रूट पर बसें तीन से चार घंटे की देरी से पहुंच रही हैं। जैसे ही बसें बस स्टैंड पर पहुंचती है दरवाजे व खिड़की के रास्ते यात्रियों की भीड़ उनमें सवार होने को उमड़ पड़ती है। रोडवेज अफसर इन रूटों पर पर्याप्त बसों का संचालन नहीं करा पा रहे हैं। घंटों भटकने के साथ ही उन्हें डग्गेमार वाहनों का सहारा लेने पर मजबूर होना पड़ रहा है। सहालग के चलते यात्रियों को रोडवेज बसें तलाशने पर भी नहीं मिल रही हैं। शहर के मामू भांजा निवासी कृष्ण कुमार को शादी में शामिल होने हाथरस जाना था। उन्होंने बताया कि चार घंटे भटकने के बाद भी उन्हें बस नहीं मिली। जितनी बसें आयीं उनमें जगह नहीं मिली। मजबूरी में डग्गेमार वाहन का सहारा लेना पड़ा। खैर निवासी प्रशांत को आगरा जाने के लिए तीन घंटे तक परेशान होना पड़ा। बड़ी मुश्किल से बस में सवार होने का मौका मिला। हालांकि बैठने को सीट नहीं मिली। यही हालात अन्य यात्रियों के देखने को मिले। इन दिनों शहर के सैटेलाइट सारसौल, मसूदाबाद व गांधीपार्क बस स्टैंड पर गंतव्य तक पहुंचने के लिए यात्रियों को वाहनों की तलाश में भटकता देखा जा सकता है। सबसे अधिक परेशानी आगरा, मथुरा, एटा, कासगंज, हाथरस, कानपुर, हरदोई, फर्रुखाबाद, मुरादाबाद व बरेली जाने वाले यात्रियों को उठानी पड़ रही है। रोडवेज के सेवा प्रबंधक वीके सिंह के अनुसार यात्रियों की भीड़ के चलते लोकल रूटों पर अतिरिक्त बसों का संचालन किया जा रहा है। शादी विवाह का सीजन होने की वजह से यात्रियों की ज्यादा भीड़ निकल रही है, इसके कारण कुछ दिक्कत हो रही है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.