अलीगढ़ के एसजेडी हास्पिटल में कोरोना के पांच मरीजों की मौत की होगी जांच

अलीगढ़ के एसजेडी हास्पिटल में कोरोना के पांच मरीजों की मौत की होगी जांच

डीएम ने एसडीएम कोल व एसीएमओ की गठित की कमेटी तीन दिन में देंगे रिपोर्ट बुधवार को कुछ घंटे के अंतराल में हुई थी मौत स्वजनों ने लगाया था आक्सीजन न मिलने का आरोप।

JagranThu, 22 Apr 2021 08:01 PM (IST)

जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : जीटी रोड पर धनीपुर मंडी स्थित एसजेडी हास्पिटल में बुधवार को कुछ घंटों के अंतराल पर कोरोना के पांच मरीजों की हुई मौत के मामले में डीएम ने जांच बैठा दी है। एसडीएम कोल रंजीत सिंह व एसीएमओ डा. दुर्गेश की दो सदस्यीय टीम तीन दिन में जांच रिपोर्ट देगी। इसके बाद आगे की कार्रवाई होनी है। बुधवार रात मरीजों की मौत के बाद स्वजनों ने जमकर हंगामा किया था। आरोप था कि आक्सीजन की कमी के चलते यह मौत हुई हैं। हास्पिटल प्रबंधन ने समय रहते आक्सीजन के इंतजाम नहीं किए।

जिले में सात निजी कोरोना हास्पिटल हैं। इनमें से एक धनीपुर मंडी स्थित एसजेडी हास्पिटल भी शामिल हैं। इनमें 40 कोरोना मरीजों के इलाज की व्यवस्था है। बुधवार को कुछ घंटे के अंतराल में यहां पर पांच मरीजों की मौत हो गई। इसके चलते कुछ लोगों ने यहां हंगामा करना शुरू कर दिया। स्वजनों का आरोप था कि आक्सीजन की कमी के चलते यह मौत हुई है। मामले की जानकारी होने पर एसीएम प्रथम कुंवर बहादुर व सीओ के अलावा एसीएमओ डा. भाष्कर भी हास्पिटल पहुंच गए। बन्नादेवी व गांधी पार्क का फोर्स भी बुला लिया गया। अफसरों ने जैसे-तैसे देर रात तक स्वजनों को समझाया।

डीएम ने बैठाई जांच : डीएम चंद्रभूषण सिंह ने पांच मरीजों की जान कैसे गई इसकी सच्चाई जानने के लिए जांच बैठा दी है। एसडीएम कोल व एसीएमओ को यह जिम्मा सौंपा है। इन्हें निर्देश दिए गए हैं कि तीन दिन के अंदर मौके की पड़ताल कर जांच करें। स्वजनों ने आक्सीजन की वजह से मौत होने का आरोप लगाया है। इसकी भी गहराई में जाकर जांच की जाए कि जिस वक्त मरीजों की मौत हुई अस्पताल में आक्सीजन की उपलब्धता क्या थी? अगर आक्सीजन भरपूर थी तो अचानक इतनी मौत कैसे हो गईं? स्वजन व हास्पिटल प्रबंधन के बयान भी दर्ज किए जाएं।

इन पांच लोगों की हुई थी मौत : जयगंज की 54 वर्षीय महिला, अकराबाद का 30 वर्षीय युवक, मथुरा में प्राथमिक शिक्षक के रूप में तैनात 50 वर्षीय युवक, सिकंदराराऊ के 50 वर्षीय शिक्षामित्र।

---

पूरे प्रकरण की जांच कराई जा रही है। रिपोर्ट आने पर आगे की कार्रवाई होगी। वैसे सभी अस्पतालों को समय से आक्सीजन उपलब्ध कराई जा रही है। सभी अस्पताल संचालकों को निर्देशित किया गया है मरीजों के इलाज में लापरवाही न हो।

चंद्रभूषण सिंह, डीएम अस्पताल में आक्सीजन की कोई कमी नहीं है। आक्सीजन न मिलने से मौत की बात पूरी तरह से अफवाह है। कोरोना संक्रमण के चलते सभी मरीजों के लंग्स पांच फीसद ही काम कर रहे थे। 15 अप्रैल से सभी मरीज वेंटीलेटर सपोर्ट पर थे।

डा. संजीव शर्मा, कोविड इंचार्ज, एसजेडी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.