अलीगढ़ में थानाध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई पर अड़े डाक्टर, हड़ताल पर फैसला आज

अलीगढ़ में थानाध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई पर अड़े डाक्टर, हड़ताल पर फैसला आज

तीमारदार व स्टाफ में विवाद के बाद डाक्टर को पीटते हुए ले गई थी पुलिस विरोध में ओपीडी ठप देर रात तक चली आइएमए की आपात बैठक आज बनेगी रणनीति।

JagranSat, 27 Feb 2021 01:13 AM (IST)

जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : केके हास्पिटल के डा. सागर वाष्र्णेय से शुक्रवार की शाम पुलिस द्वारा की गई मारपीट से पूरे शहर के डाक्टरों में आक्रोश है। घटना के बाद से ही निजी अस्पतालों में ओपीडी ठप कर दी गई। हालांकि, एसएसपी ने दो सिपाही निलंबित कर दिए, लेकिन डाक्टर थानेदार के खिलाफ कार्रवाई चाहते हैं। इस मामले को लेकर शनिवार को सुबह 11 बजे केके हास्पिटल में बैठक बुलाई गई है, जिसमें हड़ताल पर फैसला लिया जाना है।

अस्पताल संचालक डा. केके वाष्र्णेय के बेटे डा. सागर व स्टाफ और एक मरीज के तीमारदारों में विवाद पैसे को लेकर हुआ था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने डाक्टर से मारपीट कर दी। घटना की जानकारी मिलती ही आइएमए के पदाधिकारी क्वार्सी थाने पहुंचे। यहां से फिर केके हास्पिटल में आकर बैठक की। एलान किया कि तीमारदारों के साथ ही पुलिस ने चिकित्सक से गलत व्यवहार किया है। जब तक थानाध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती है, तब तक कामकाज ठप रहेगा। आरोपितों के खिलाफ महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज होना चाहिए। बैठक में शहर के दो दर्जन से अधिक निजी हास्पिटल संचालक मौजूद रहे।

.....

पुलिस व तीमारदार दोनों ने ही चिकित्सक के साथ दुव्यर्वहार व मारपीट की है। आईएमए इस घटना की निदा करता है। इसके साथ ही सभी पदाधिकारियों की सहमति पर फिलहाल काम बंद कर दिया है। अब जनरल बाडी की बैठक बुलाई गई है। इसमें आगे की रणनीति तैयार की जाएगी।

डा. विपिन गुप्ता, अध्यक्ष, आइएमए

यह घटना बेहद निदनीय है। एक तरफ जहां चिकित्सकों को कोरोना वारियर कहा जा रहा है। वहीं दूसरी ओर इस तरह का व्यवहार नहीं है। ऐसे तो कोई भी चिकित्स इलाज नहीं करेगा।

डा. भरत वाष्र्णेय, सचिव आइएमए

तीमारदारों के साथ ही पुलिस ने भी गलत बर्ताव किया है। आइएमए इसकी कड़ी निदा करता है। पुलिस के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए।

डॉ. अभिषेक, कोषाध्यक्ष आइएमए

.........

इंटरनेट मीडिया पर वीडियो वायरल होने पर एसएसपी ने लिया एक्शन

डाक्टर व तीमारदारों के बीच हुई मारपीट व हंगामे के बाद इंटरनेट मीडिया पर घटना से जुड़ा वीडियो वायरल हो गया। आइएमए की कड़ी नाराजगी व ओपीडी सेवा बंद कर देने के बाद एसएसपी मुनिराज ने देर रात क्वार्सी थाने के हमराह गौरव समेत दो सिपाहियों को निलंबित कर दिया है। वायरल वीडियो में पुलिसकर्मी अस्पताल के डाक्टर व स्टाफ के साथ ही तीमारदारों को घसीटते हुए व धकियाने के साथ ही थप्पड़ व लाठिया भाजते हुए भी दिख रहे हैं। इस वीडियो को लेकर शहर में चर्चाओं का बाजार गर्म है।

-----------

साहब, हमारी छुट्टी कराओ, हत्या करा देंगे

अस्पताल में मारपीट व हंगामे के दौरान प्रसूता रजनी व तीमारदार बीना कुमारी ने डर के चलते कमरे का दरवाजा अंदर से बंद कर लिया। इलाका पुलिस अस्पताल में पहुंची तो दोनों ने बमुश्किल दरवाजा खोला। रजनी व बीना की जुबा पर बस एक ही बात थी कि प्लीज हमारी अस्पताल से छुट्टी करा दो, वरना अस्पताल वाले हमारी हत्या करा देंगे।

-------------

अस्पताल में मारपीट व हंगामे की खबर पर वे पुलिस के साथ पहुंचे तो दोनों पक्षों में मारपीट हो रही थी। इस पर दोनों पक्षों को थाने ले जाने को गाड़ी में बिठाया जा रहा था। हल्की -फुल्की धक्का-मुक्की जरूर हुई थी। किसी के साथ उनकी मौजूदगी में मारपीट नहीं की गई है।

छोटेलाल, इंस्पेक्टर क्वार्सी

--------------

रुपयों के लेनदेन को लेकर तीमारदार व अस्पताल स्टाफ में मारपीट हुई थी। डाक्टर की ओर से चार नामजदों समेत आठ-दस लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। चार आरोपितों को हिरासत में ले लिया गया है। पूरे मामले की जाच की जा रही है।

मुनिराज, एसएसपी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.