National Oral Hygiene Day : मुंह की गंदगी से बढ़ता है आहार नली के कैंसर का खतरा Aligarh news

मुंह से दुर्गंध मसूड़ों से खून निकलना मसूड़ों की सूजन दांतों में कीड़ा कमजोर दांत आम समस्या है। वजह तमाम लोग मुख स्वास्थ्य को लेकर गंभीर नहीं। जबकि शरीर के बाकी अंगों की तरह मुख स्वास्थ्य भी बहुत आवश्यक है।

Anil KushwahaSun, 01 Aug 2021 04:55 PM (IST)
मुख स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता के लिए एक अगस्त को राष्ट्रीय ओरल हाइजीन दिवस मनाया जाता है।

विनोद भारती, अलीगढ़ । मुंह से दुर्गंध, मसूड़ों से खून निकलना, मसूड़ों की सूजन, दांतों में कीड़ा, कमजोर दांत आम समस्या है। वजह, तमाम लोग मुख स्वास्थ्य को लेकर गंभीर नहीं। जबकि, शरीर के बाकी अंगों की तरह मुख स्वास्थ्य भी बहुत आवश्यक है। इसलिए जरूरी है कि आम जनमानस मौखिक स्वास्थ्य के प्रति भी जागरूक हों। मुख स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता के लिए एक अगस्त को राष्ट्रीय ओरल हाइजीन दिवस मनाया जाता है। मुख स्वास्थ्य को लेकर क्या कहते हैं विशेषज्ञ? आइए जानें...

समय के साथ मौखिक स्‍वास्‍थ्‍य होता है खराब

पंडित दीनदयाल उपाध्याय संयुक्त चिकित्सालय के मुख स्वास्थ्य विज्ञानी बॉबी शर्मा ने बताया कि भारत में अधिकांश आबादी ऐसी है जो वर्ष में एक बार भी मुख स्वास्थ्य उपचार या उसके परामर्श के लिए दंत चिकित्सक या दंत स्वास्थ्य विज्ञानियों के पास तक नहीं जाती एवं सुबह शाम टूथब्रश नही करती। इस कारण समय के साथ उनका मौखिक स्वास्थ्य खराब होता चला जाता है।

नियमित दंत परिक्षण जरूरी

बॉबी शर्मा के अनुसार भारत की 60 से 80 फीसद जनसंख्या दांतो में कीड़ा लगने और मसूड़ों की बीमारियों से त्रस्त है। लेकिन, नियमित दंत परीक्षण एवं शीघ्र हस्तक्षेप और जनसामान्य को मुख स्वास्थ्य हेतु जागरूक करके ज्यादातर सामान्य दंत समस्याओं का बचाव किया जा सकता है।

सरकार की पहल

अधिकांश जिला स्तरीय चिकित्सालयों और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र स्तर तक दंत चिकित्सकों और दंत स्वास्थ्य विज्ञानियों की तैनाती की है ताकि प्रारंभिक अवस्था में ही मुख स्वास्थ्य संबंधी रोगों पर काबू पाया जा सके।

मुख स्वास्थ्य की अनदेखी पड़ेगी भारी

मुंह की सफाई को नजरअंदाज करना आप पर भारी पड़ सकता है। आपको कई गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं।कई शोध में यह पता चला है कि सही तरीके से मुंह की सफाई न करने के कारण बैक्टीरियल इंडोकार्डिटिस,अथेरोस्क्लेरोसिस,फेफडों की बीमारियां, उच्च रक्तचाप, कैंसर,बाँझपन से जुड़ी समस्याएं, खून के थक्के जमना,डायबिटीज का खतरा बढ़ना,धमनियों में कड़ापन तक हो सकता है। कई मसूड़ों की बीमारियों की वजह से भोजन की नली में होने वाले कैंसर का खतरा काफी बढ़ जाता है।

ये रखें ध्यान

- सुबह उठने के बाद एवं रात को - सोने से पहले रोजाना दो बार ब्रश जरूर करें। - टूथब्रश कम से कम पांच मिनट तक अवश्य करें। - टूथब्रश को केवल दांतों पर रगड़ें नहीं, बल्कि हल्के हाथों से गोल गोल क्रिया करते हुए हरेक दांतों पर करें। - टूथब्रश करने का सही तरीका जानने को अपने निकटतम दंत चिकित्सक अथवा दंत स्वास्थ्य विज्ञानी की मदद लें। - फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का ही इस्तेमाल करें। - सूखा मंजन और तंबाकू युक्त मंजन से परहेज करें। - प्रत्येक तीन महीने पर अपना टूथब्रश बदलें - हर छह महीने पर अपने निकटतम दंत चिकित्सक या दंत स्वास्थ्य विज्ञानी से नियमित चेकअप हेतु संपर्क करें। - नियमित रूप से माउथवाश एवं फ्लॉस का प्रयोग करें।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.