महाकाल मंदिर को आतंकवाद का अड्डा बताने वाला पार्षद सद्दाम हुसेन गिरफ्तार Aligarh News

महाकाल मंदिर को आतंकवाद का अड्डा बताने वाला पार्षद सद्दाम हुसेन गिरफ्तार Aligarh News

उज्जैन के महाकाल मंदिर को आतंकवाद का अड्डा बताने वाले पार्षद सद्दाम हुसैन को पुलिस ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया।

Publish Date:Wed, 05 Aug 2020 04:20 PM (IST) Author: Sandeep Saxena

अलीगढ़ जेएनएन : उज्जैन के महाकाल मंदिर को आतंकवाद का अड्डा बताने वाला बसपा पार्षद व एएमयू का पूर्व छात्र सद्दाम हुसैन बुधवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। उसकी करीब एक महीने से तलाश थी। उसकी अग्रिम जमानत के लिए याचिका भी डाली गई, जो खारिज हो गई थी। 

यह है मामला 

महाकाल मंदिर से नौ जुलाई को कानपुर के हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद वार्ड नंबर 66 के बसपा पार्षद हमदर्द नगर निवासी सद्दाम हुसैन ने फेसबुक पर पोस्ट की थी। इसमें मंदिर के बाहर खड़े विकास दुबे की तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा था कि कुख्यात विकास ने महाकाल के मंदिर में पनाह ले रखी थी। महाकाल मंदिर आतंकवादियों का अड्डा है। महाकाल मंदिर को सीज किया जाए और जांच कराई जाए। यह पोस्ट वायरल होते ही लोग कमेंट करने लगे। 10 मिनट में ही सद्दाम ने पोस्ट डिलीट कर दी। 10 जुलाई को भाजयुमो के जिलाध्यक्ष मुकेश लोधी की तहरीर पर सद्दाम के खिलाफ क्वार्सी थाने में मुकदमा दर्ज किया गया। गिरफ्तारी न होने पर 14 जुलाई को ङ्क्षहदुत्ववादी संगठनों ने थाने का घेराव कर हनुमान चालीसा का पाठ किया था। पुलिस की जांच में सद्दाम की लोकेशन दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया में मिल रही थी। यहां दबिश दी गई, लेकिन मिला नहीं था। मंगलवार रात अलीगढ़ में ही सद्दाम की लोकेशन मिलने पर  पुलिस सक्रिय हो गई। एसपी सिटी अभिषेक कुमार ने बताया कि बुधवार सुबह क्वार्सी क्षेत्र से सद्दाम को गिरफ्तार कर लिया गया, जिसे कोर्ट में पेश कर जेल भेजा दिया है। उस पर पूर्व में गुंडा एक्ट में कार्रवाई हो चुकी है। सिविल लाइन थाने में मारपीट व हमले के छह मामले दर्ज हुए थे, जिनमें जेल जा चुका है।

सद्दाम को लेकर पहुंचे थाने

थाने पहुंचकर पार्षद सद्दाम ने अपना जुर्म कबूल लिया। कहा कि उसी ने पोस्ट की थी। अधिवक्ता इरफान गाजी का दावा है कि सद्दाम ने सरेंडर किया है। वह सद्दाम को लेकर गिरफ्तारी देने के लिए थाने पहुंचे थे। पुलिस के मुताबिक, लोकेशन मिलने के बाद रात में तलाश जारी थी। तभी थाने के गेट से सद्दाम को पकड़ा गया। सरेंडर होता तो कोर्ट में जाते।  

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.