कोरोना वायरस संक्रमण की दवा नहीं, फिर भी अलीगढ़ लाखों के बिल

कोरोना वायरस संक्रमण की दवा नहीं, फिर भी अलीगढ़ लाखों के बिल

कोविड संकट काल को एक साल से अधिक समय बीत गया है मगर इस बीमारी की दवा ईजाद नहीं हो पाई है। डाक्टर पहले से ही दूसरी बीमारियों में इस्तेमाल दवा से संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे हैं।

JagranFri, 16 Apr 2021 09:11 PM (IST)

जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : कोविड संकट काल को एक साल से अधिक समय बीत गया है, मगर इस बीमारी की दवा ईजाद नहीं हो पाई है। डाक्टर पहले से ही दूसरी बीमारियों में इस्तेमाल दवा से संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे हैं। कोई दवा न होने के बाद भी निजी अस्पतालों में इलाज के नाम पर दो से ढाई लाख रुपये तक वसूली हो रही है। कई निजी हास्पिटल में यह धंधेबाजी शुरू हो गई है।

श्रेणियों के आधार पर खर्च तय : सरकारी अस्पतालों में भले ही कोरोना संक्रमित मरीजों की जांच से लेकर उपचार तक मुफ्त हो, वहीं निजी अस्पतालों में यह इलाज बेहद महंगा है, जबकि शासन ने पिछले साल ही उपचार की दरें निर्धारित कर दी थीं। इसमें स्पेशलिटी के आधार पर जिलों को तीन श्रेणियों में बांटा गया। लखनऊ, कानपुर, आगरा, वाराणसी, प्रयागराज, बरेली, गोरखपुर, मेरठ, नोएडा व गाजियाबाद जिले 'ए' श्रेणी में रखे गए। अलीगढ़, मुरादाबाद, झांसी, सहारनपुर, मथुरा, रामपुर, मिर्जापुर, शाहजहांपुर, अयोध्या, फीरोजाबाद, मुजफ्फरनगर और फर्रुखाबाद 'बी' श्रेणी में रखे। अन्य जिले 'सी' श्रेणी में रखे गए। 'ए' श्रेणी के जिले में उपचार की दर 10-18 हजार रुपये प्रतिदिन तय की गई। 'बी' श्रेणी के जिले में यह दर 20 फीसद कम और सी श्रेणी के जिले में यह दर 40 फीसदी कम रखी गई। सरकार ने इलाज में पारदर्शिता बरतने के भी निर्देश दिए।

तय शुल्क से अधिक वसूली : श्रेणी के अनुसार अलीगढ़ में इलाज का खर्चा 10-18 हजार रुपये प्रतिदिन से अधिक नहीं होना चाहिए। मगर कुछ हास्पिटल की शिकायतें मिल रही हैं कि वे 15 से 25 हजार रुपये तक का बिल रोजाना बना रहे हैं। यानी, इसमें जनरल वार्ड का किराया ही आठ से दस हजार व आइसीयू का 15 हजार रुपये तक लिया जा रहा है। जांच, दवा, डाक्टर की फीस व अन्य शुल्क के नाम पर पांच से 10 हजार रुपये और लिए जाते हैं। एक मरीज हास्पिटल में आठ से 10 दिन भर्ती रहता है। इस तरह इलाज का खर्चा दो से ढाई लाख या इससे अधिक तक पहुंच जाता है। नोएडा-दिल्ली के अस्पतालों में यह खर्चा दोगुना है। मरीज के स्वजन को मजबूरन इलाज कराना पड़ रहा है। वर्तमान में फिर से नए कोविड केयर सेंटर बनाने की कवायद हो रही है, मगर इलाज के खर्च को लेकर कोई बात नहीं हो रही। यानी, संचालकों को मनमानी ढंग से वसूली की छूट रहेगी।

स्टैंडर्ड ट्रीटमेंट गाइडलाइन

- पैरासिटामोल

- डाक्सीसाइक्लिन

- एजिथ्रोमाइसिन

- रेमडेसिविर

- विटामिन-सी

- टेबलेट जिक

- विटामिन

......

आपदा काल में सभी चिकित्सकों की जिम्मेदारी है कि मरीजों की जिदगी बचाएं। इसे कमाई का अवसर न मानें। इलाज में पारदर्शिता बरतें और तय शुल्क से अधिक न लें। जल्द ही इस संबंध में दिशा-निर्देश फिर जारी किए जाएंगे।

डा. बीपीएस कल्याणी, सीएमओ

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.