हड़ताल से नहीं हटे संविदा कर्मी, सीएमओ ने सभी को जारी कर दिया नोटिस

एक दिन पहले ही तीन दौर की वार्ता विफल होने के बाद शनिवार को सीएमओ ने उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष जिला मंत्री समेत हड़ताल में शामिल समस्त कर्मचारियों को नोटिस जारी किया है।

Anil KushwahaSat, 04 Dec 2021 05:02 PM (IST)
वेतन विसंगति समेत सात सूत्रीय मांगों को लेकर संविदा स्वास्थ्यकर्मियों की अनिश्चतकालीन हड़ताल शनिवार को पांचवें दिन भी जारी रही।

अलीगढ़, जागरण संवाददाता। वेतन विसंगति समेत सात सूत्रीय मांगों को लेकर संविदा स्वास्थ्य कर्मियों की अनिश्चतकालीन हड़ताल शनिवार को पांचवें दिन भी जारी रही। एक दिन पहले ही तीन दौर की वार्ता विफल होने के बाद शनिवार को सीएमओ ने उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष, जिला मंत्री समेत हड़ताल में शामिल समस्त कर्मचारियों को नोटिस जारी किया है। इसमें तत्काल कोविड व अन्य ड्यूटी शुरू न करने पर कानूनी व विभागीय कार्रवाई की चेतावनी दी है। भड़के कर्मचारी नेताओं ने सीएमओ को दो टूक जवाब दिया है कि विभाग कुछ भी कर लें, हड़ताल प्रांतीय स्तर पर निर्णय होने के बाद ही समाप्त होगी।

सुबह से ही शुरू हो गया धरना

उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी संघ के आह्वान पर शनिवार को भी संविदा के चिकित्सक, फार्मासिस्ट, नर्स, लैब टेक्नीशियन, वार्ड ब्वाय, कम्युनिटी हेल्थ आफिसर व अन्य कर्मचारी धरने पर बैठे। काफी संख्या में आशा कर्मचारी भी इस आंदोलन में शामिल हो चुकी हैं। सीएमअो कार्यालय पर सुबह से ही धरना शुरू हो गया। इससे कोविड टीकाकरण व सैंपलिंग अभियान व दूसरी सेवाएं बाधित हो गई हैं। मंडल के संगठन महामंत्री डा. केसी भारद्वाज, जिलाध्यक्ष डा.अजीत सिंह, जिला संयोजक पुष्पेंद्र शर्मा, जिला महामंत्री डा. राकेश कुमार, अभिषेक शर्मा आदि ने वेतन विसंगति, सातवां वेतन आयोग का लाभ-जाब सिक्योरिटी, रिक्त पदों पर गैर जनपद स्थानांतरण, आउटसोर्सिंग की समाप्ति, बीमा व आशा कर्मियों को 10 हजार नियत वेतन संबंधी मांगें दोहराईं। सुमाइला तबस्सुम, डा. विकास यादव, डा. आर्शिया शेरवानी, डा. ताजुद्दीन, समीर काजी, सीएचओ चांदनी, इफ्तिशां, सपना त्यागी, एलटी विनीत, मनोज व रजत समेत सैकड़ों कर्मचारी उपस्थित रहे।

सख्ती का सहारा ले रहे अधिकारी

कर्मचारियों की हड़ताल को खत्म कराने के लिए स्वास्थ्य विभाग ही नहीं, प्रशासन के अधिकारी लगातार वार्ता कर रहे हैं। सख्ती भी बरत रहे हैं, मगर कोई असर नहीं हो रहा। शनिवार को सीएमअो ने सभी को नोटिस जारी कर काम पर लौटने की चेतावनी दी। इस समय 1100 से अधिक संविदा कर्मी व आशा कर्मी हड़ताल पर हैं। महिला कर्मी अपने दुधमुहे बच्चे लेकर धरने पर पहुंच रही हैं। कर्मचारी नेताओं ने स्पष्ट कर दिया कि वे धमकियों से डरने वाले नहीं है। अधिकारियों को जो करना है, वे करें।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.