महिलाओं के जीवन में आ रहा बदलाव, जानिए कैसे Aligarh News

महिलाओं और किशोरियों के सामाजिक जीवन में धीरे-धीर ही सही बदलाव हो रहा है।

प्रदेश की बात करें तो ​महिला कल्याण विभाग द्वारा मिशन शक्ति के तहत अब तक करीब 7.06 करोड़ लोगों को जागरूक किया गया है जिसमें चार करोड़ 27 लाख 45 हजार 135 महिलाएं और दो करोड़ 78 लाख 68 हजार 302 पुरुष शामिल हैं ।

Sandeep kumar SaxenaMon, 22 Feb 2021 05:24 PM (IST)

अलीगढ़, जेएनएन। महिलाओं और किशोरियों के सामाजिक जीवन में धीरे-धीर ही सही बदलाव हो रहा है। दरअसल, सुरक्षा, सम्मान और स्वावलंबन के लिए चलाए जा रहे विशेष मिशन शक्ति अभियान के तहत मार्च माह की थीम ‘महिलाओं तथा बच्चों में सामाजिक व्यवहार परिवर्तन संचार’ तय की गई है । इसके तहत महिलाओं और बच्चों को अपने हक की लड़ाई में प्रभावी संचार की भूमिका के बारे में जागरूक किया जाएगा । इसके साथ ही समाज में सामाजिक व्यवहार परिवर्तन संचार के माध्यम से रूढ़िवादी मान्यताओं को दूर करने के लिए सकारात्मक माहौल बनाया जाएगा । इसके अलावा समाज में सकारात्मक बदलाव लाने वाली महिलाओं की पहचान कर उनकी सफलता की कहानियों का ज्यादा से ज्यादा प्रचार-प्रसार किया जाएगा, ताकि अन्य महिलाओं के लिए वह प्रेरक की भूमिका अदा कर सकें ।

​महिला कल्याण विभाग का मिशन शक्ति

प्रदेश की बात करें तो ​महिला कल्याण विभाग द्वारा मिशन शक्ति के तहत अब तक करीब 7.06 करोड़ लोगों को जागरूक किया गया है, जिसमें चार करोड़ 27 लाख, 45 हजार 135 महिलाएं और दो करोड़, 78 लाख, 68 हजार 302 पुरुष शामिल हैं । महिला कल्याण विभाग मिशन शक्ति की नोडल अधिकारी स्मिता सिंह का कहना है कि बहुत से क्षेत्रों में आज भी महिलाओं और बच्चों को भेदभाव व लैंगिक असमानता का शिकार होना पड़ता है, ऐसे में उनको उन स्थितियों से उबारने में प्रभावी संचार की बड़ी भूमिका है । इसी को ध्यान में रखते हुए यूनिसेफ के सहयोग से विशेष सामाजिक व्यवहार परिवर्तन संचार माड्यूल तैयार किया गया है और मार्च माह में इसी माड्यूल के माध्यम से जनजागरूकता कार्यक्रमों का संचालन किया जाएगा । इन कार्यक्रमों में हम बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग के साथ सम्मिलित रूप से कार्य कर रहे हैं ।

प्रेरणा बनी महिलाओं की होगी पहचान 

एक से सात मार्च तक प्रत्येक जनपद के ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों की ऐसी महिलाओं की पहचान की जाएगी, जिनके प्रयासों ने समाज के विभिन्न क्षेत्रों में सकारात्मक बदलाव लाएं हों । इसके साथ ही उनकी कहानी अन्य महिलाओं के लिए प्रेरणा का काम कर सके । इनमें वह महिलाएं भी शामिल हो सकती हैं जिन्होंने महिलाओं और बच्चों के विकास, सुरक्षा व संरक्षण के लिए असाधारण कार्य किये हों । इनमें महिला कल्याण या बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग की प्रतिभावान, सरवाइवर या प्रेरक महिलाओं को भी शामिल किया जा सकता है ।महिला कल्याण विभाग ने इस तरह का सामाजिक बदलाव लाने वाली महिलाओं की कहानियों को आमंत्रित किया है. ताकि इनकी कहानियों को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (आठ मार्च) पर मेगा इवेंट ‘अनंता’ के माध्यम से टीवी, रेडियो, एफएम, कम्युनिटी रेडियो, टाक शो, गोष्ठियों, समाचार पत्रों के माध्यम से जन-जन तक पहुंचाया जा सके ।  

सामाजिक व्यवहार परिवर्तन संचार माड्यूल पर प्रशिक्षण 

​विभागीय अधिकारियों और कर्मचारियों की मास्टर ट्रेनिंग इसी माड्यूल के आधार पर एक से 10 मार्च के मध्य की जाएगी । इसमें हर जिले के बाल संरक्षण इकाई के एक-एक सदस्य, महिला शक्ति केंद्र से एक-एक सदस्य, हर जिले से चार-चार मुख्य सेविका को बैचवार प्रशिक्षण दिया जाएगा । यह प्रशिक्षण राज्य स्तर पर आनलाइन दी जाएगी । यही मास्टर ट्रेनर अन्य विभागीय अधिकारियों और कर्मचारियों को 10 से 31 मार्च के मध्य प्रशिक्षण प्रदान करेंगे । इसमें जिला बाल संरक्षण इकाई, महिला शक्ति केंद्र, वन स्टाप सेंटर, मुख्य सेविका और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका को शामिल किया जाएगा ।

रोड मैप होगा तैयार 

​महिला कल्याण विभाग के आह्वान पर समस्त जिलाधिकारी ‘मिशन’ को अप्रैल 2021 के बाद भी सतत रूप से जारी रखने हेतु अगले एक वर्ष का रोड मैप तैयार करके 31 मार्च तक विभाग को सौंपेंगे । इसके अंतर्गत महिलाओं और बच्चों के मुद्दों के लिए अलग-अलग कार्ययोजना तैयार की जाएगी ।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.