जश्‍न मनाकर मकर संक्रांति पर दिया समरसता का संदेश, शहरभर में हुए खिचड़ी भोज

अलीगढ़ (जेएनएन)। मकर संक्रांति के महापर्व पर मंगलवार को पूरा शहर भक्ति के भाव में रंगा रहा। महापर्व के मौके पर श्रद्धालु गंगा घाट पहुंचे और डुबकी लगाई। मंदिरों में पूजा-अर्चना की। वस्त्र चावल, दाल, गुड़ आदि का दान किया। शहर में जगह-जगह खिचड़ी भोज आयोजित कर समरसता का संदेश दिया गया।

महिलाओं ने लोहड़ी से जुड़े गीत गाए

इनरव्हील क्लब अलीगढ़ सिटी ने कंपनी बाग स्थित एक होटल में लोहड़ी व मकरसंक्रांति का पर्व मनाया। पारंपरिक परिधानों में सजीं महिलाओं ने लोहड़ी से जुड़े गीत गाए। पंजाबी गीतों पर जमकर नृत्य किया। डॉ. दिव्या लहरी व नाजिमा मसूद ने दीप जलाकर कार्यक्रम की शुरुआत की। डॉ. सपना वाष्र्णेय, वैशाली जिंदल ने कहा कि हमें निर्धनों की सेवा करनी चाहिए। पूजा अग्रवाल, नेहा अग्रवाल आदि ने अतिथियों का स्वागत किया। संयोजक नीना जैन व गीतिका अग्रवाल ने आभार जताया। इस मौके पर राजवाला गुप्ता, प्रीति सक्सेना, बबिता, रेनू, नीरजा, अर्चना आदि मौजूद थे।

खिचड़ी भोज : भाजयुमो महानगर के कार्यकर्ताओं ने रघुवीर सहाय इंटर कॉलेज खिचड़ी भोज आयोजित किया गया। लोकसभा विस्तारक रामेंद्र शर्मा, अध्यक्ष निखिल माहेश्वरी, उपाध्यक्ष राजीव शर्मा, विपुल भारद्वाज थे। वहीं, परमार्थ फाउंडेशन की ओर से नर्वदा बाई की बगीची पर खिचड़ी भोज आयोजित किया गया। संस्था के अध्यक्ष लक्ष्मी नारायण दीक्षित, सचिव योगेश कुमार, कोषाध्यक्ष हेमंत पचौरी आदि थे। मां सरस्वती सांस्कृतिक  क्लब के नौरंगाबाद स्थित कार्यालय पर खिचड़ी भोज आयोजित किया गया। पंडित हेमंत मिश्र, भुवनेश अग्रवाल, अध्यक्ष रेशू अग्रवाल ने प्रसाद बांटा। श्री पन्ना लाल वाष्र्णेय चैरिटेविल ट्रस्ट के संस्थापक कालीचरन वाष्र्णेय ने मेलरोज बाईपास संत नगर कालोनी में खिचड़ी भोज आयोजित किया।

नई पीढ़ी को भी करें प्रेरित

भाजपा सिविल लाइंस मंडल के अध्यक्ष भूपेंद्र वाष्र्णेय की ओर से जापान हाउस कार्यालय पर महिलाओं और बच्चों को प्रसाद और कपड़े बांटे गए। भूपेंद्र वाष्र्णेय ने कहा कि दान-पुण्य में नई पीढ़ी को भी प्रेरित करना चाहिए, जिससे वो संस्कार से जुड़ सकें। कोल विधायक अनिल पाराशर, महामंत्री रनवीर सिंह बघेल, सत्य प्रकाश वर्मा, विशाल कश्यप आदि थे। महेंद्र नगर स्थित कृपाल आश्रम में ध्यान शिविर आयोजित किया गया। आडियो के माध्यम से संत राजिंदर महाराज का प्रवचन सुनाया गया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.